पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३३९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३४४ लुधियाना-लुप्तोपमा इस जिले में ५ शहर और ८६४ ग्राम लगते है। जन । यह नगर जीत कर मिन्दके हाथ अर्पण किया। संख्या ७ लाखके करीब है। संधिवासियों में हिन्दू और (१८०६ ई०)। मुसलमान जाट जाति ही प्रधान हैं । राजपूत, गूजर, शत-प्रवाहित सामन्तराज्यों के पलिटिकल एजेण्ट काश्मीर प्रभृति विभिन्न स्थानवासीको संख्या भी जेनरल अक्टरलोनीने यह नगर दखल कर स्थायी सेना- विलकुल फम नहीं है । यवसायी श्रेणीमें क्षत्री गौर | निवास स्थापन किया था। किन्तु भारत गवर्मेएटने इस वनियेकी संख्या हो अधिक है। अवैध आचरणके क्षनिपूरण-स्वरूर मिन्दराजको काफी ___ यहां पश्मी कपड़े का यथेष्ट कारवार है । शाल, मोजा, | रुपये दिये थे। १८३४ ई० में झिन्द-राजव धरके प्रकृत दस्ताना, रामपुरी चादर प्रभृति नाना प्रकारके वस्त्र एव | उत्तराधिकारी के अमात्रमे उनका राज्य अङ्गरेज-गवर्मेएट- खेस, लूगा प्रभृति 'सूती कपडे यहा तैयार हो कर के शासनमुक्त हुआ। तभीसे यह नगर अडरेजी-सेना चिहने हैं। इनके अलावा असवाव, गाडी और कमान | की एक छोटी छावनीरूपमें गिना जाने लगा था । १८५४ बन्दूक प्रभृति तैयार करने के लिये यहा बडे बडे कार | ई०में ग्रहांसे सेनादल उठ कर दूसरी जगह चला गया, खाने हैं। पको सडक तथा रेलपथ द्वारा प्रधानतः यहा- 1 केवल एक दल दुर्गरक्षाके लिये रह गया है। मुसलमान का वाणिज्य-कार्य परिचालित होता है। साधु शेष अवदुल कादिदर ई जलानीके पवित्र तीर्शमें विद्या शिक्षामें इस-जिलेका स्थान अठाईस जिलों में | गये। यहां प्रतिवर्ण एक मेला लगता है। इस समय चौथा आया है। अभी कुल मिला कर २५ सिकेण्डी, सैकहों हिन्द मुसलमान तीर्थयात्री यहां इकटे होते हैं। १०४ प्राइमरी, २० मिडिल, २ स्पेशल, ८ उच्च श्रेणीके शहरमे मुसलमान, पठान और कश्मीरियों की ही संख्या तथा ८० एलिमेण्ट्री स्कूल है । लुधियाना शहरमें दो अधिक है। कश्मीरी प्रतिवर्ण दो लाख रुपयेका गाल मिशन हाई स्कूल हैं। इनके सिवा एक टेक्निकल स्कूल बनाते हैं। यहां लड़कोकी अच्छी अच्छी चीजें वनती भी है । हैं। हालमे एक मैटेका कारखाना खुला है। शहर में चार २ उक्त जिलेकी एक तहसील । तह अक्षा० ३० ३४ | ऐगलोव फ्युलर हाई स्कूल है। इसके सिवा एक से ३१.१० तथा देशा० ७५३६ से ७६६ पू०के मध्य अस्पताल और छापाखाना भी है। अवस्थित है। भूपरिमाण ६८५ वर्गमील और जनसरया लु नना (हिं० शि०) १ खेतकी तैयार फसल काटना, खेत साढे तीन लाखके करीब है । इसमें लुधियाना नामक ] फाटना । २ दूर करना, हटाना। १शहर और ४३२ ग्राम लगते हैं। लुनाई हिं० सी०) लावण्य, सुन्दरता, खूबसूरती । ३ उक्त जिलेको प्रधान नगर और विचार सदर। यह लु नेरा (हिं० पु०) १ खेतकी फसल काटनेवाला, लुनने- रक्षा० ३०५६ उ० तथा देशा० ५५ ५२ पू० शतद्र वाला। २ एक जाति जिसे लोनिया या नोनिया भो नदीके वाएं किनारे अवस्थित है। यहां सिन्धु पक्षाव कहते हैं। यह जाति पहले नमक निकालती थी। रेलपथका एक स्टेशन रहनेसे स्थानीय वाणिज्यसी | लुन्ही ( हि स्त्री०) मज कर तैयार लपेटो हुई पाई। वडी सुविधा हो गई है। लप (संपु०) लुप् छेदे-किप् । लोप। नगरके उत्तर एक बड़े मैदानमें यहांका किला अव-लप्त (स० श्लो०) लु प-क्त । १ ची धन, चोरीका माल । स्थित है । सिपाही युद्धके बाद इस स्थानको. : त्रि०)२ अन्तर्हित, छिपा हुआ। ३ अदृश्य, गायव । साफ सुधरा कर एक विस्तृत मैदानमें परिणत किया | ४ नष्ट । गया है। दिल्लीके लोदो राजवंशके कुसुफ और निहङ्ग लुप्तविसर्गता (स स्त्री० ) साहित्यदर्पणके अनुसार नामक दो राजकुमारोंने १८४० ई०में यह नगर बसाया।एक प्रकारका दोष। १७६० ई० में मुगल-राजसरकारसे यह रायकोटके रायोंके लुप्तोपम (सं० वि०) उपमाशून्य, जिसमे उपमा न हो। दखलमें आया । १८वीं सदीके शेष भागमें रणजित्सिंहने लुप्तोपमा (सं० स्त्री०) उपमालङ्कारभेद, वह उपमा