पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३६५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


लोकनाथशर्मा-लोकरा २ अतिसार रोगाधिकारमें रसौषधविशेष । प्रस्तुत | लोकप्रत्यय (स० पु०) जगढमाप्त, वह जो संमार सर्वत्र प्रणालो-रससिन्दूर एक भाग, गंधक चार भाग फीडी- मिलना हो। में भर कर सोहागेरो मुह बन्द कर दे। पीछे उसे मिट्टीके लोकप्रदीप (सं० पु० ) बुद्धमेद । बरतनम वन्द कर पुटपाकी पाक करे । इसकी मात्रा ४ | लोकप्रवाद (सं० पु० ) लोके प्रवादः। जनप्रवाद, जिमे रत्ती वनानी होगी। मधु, सोंठ, अतीस, मोथा, देवदारु | संसारके सभी लोग कहने और समझने हों। और वचके साथ सेवन करनेग्ने सभी प्रकारके यतीसार लोकप्रसिद्धि (सं० स्त्री० ) ख्याति, नाम । रोग नष्ट होने हैं। ( रसेन्द्रसारस. अतिसाररोगाधि०) लोकबन्धु ( सं० पु०) १ शिव । २ सूर्य। लोकनाथशर्मा -अमरकोपटीका पदमञ्जरीके प्रणेना। लोकवान्धव ( सं० पु०) लोकाना बान्धवः। सूर्य । लोकनिन्दित ( स० वि० ) लोकेपु निन्दितः । जननिन्दित, २ जनसमूहका मित्र । जो जनसमाजसे निन्दित हो । लोकविन्दुमार (सं० को०) सुप्राचीन चतुर्दशा जैन पूर्वो. लोकनेत (मं० पु० ) लोकाना नेता । १ शिव। २ जन- का शेपाश । समाजका मालिक, समाजपति । लोभर्तृ ( सं० पु० ) जनसाधारणके अनदाता । लोकप (सं० पु०) १ ब्रह्मा । २ लोकपाल । ३ राजा। लोकभाज ( स० वि०) यानाधिकारी, स्थानण्यापो। लोकपक्ति (सं० खो०) सम्भ्रम, ग्याति, यश । लोकभावन ( स ० वि० ) जगत्का कल्याण करने पाला । लोकपति (सं० पु०) लोकाना पतिः । विष्णु। लाकप देखो। लोकभाविन ( स० वि० ) जगत्कर्ता। नेकपथ ( स० पु०) साधारण पथ वा उपाय । लोकमय ( स० त्रि०) स्थानमय, जगदाधार । लोक पद्धति (सं० स्त्री० ) चिरन्तन परया। लोकमर्यादा ( स० स्त्री०) १ चिन्तनपदति । २ व्यक्ति- लोकपाल (सं० पु०) १ दिक्पाल । पुराणानुमार आठ | विशेषका सम्मान | दिशाओं मे अलग अलग लोकपाल हैं। जैसे–इन्द्र पूर्व लोकमात (सं० स्त्री०) लोकाना माता। १ लक्ष्मी, दिशाका, अग्नि दक्षिण पूर्वका, यम दक्षिणका, सूर्य दक्षिण- कमला। २ लोककी जननो। पश्चिमका, वरुण पश्चिमका, वायु उत्तर पश्चिमका, लोकमार्ग ( स० पु०) १ प्रचरित पद्धति । २ साधारण कुबेर उत्तरका और सोम उत्तर पूर्वका, शिसो फिसो प्रथ- पन्था। में सूर्य और सोमके स्थान पर निऋति और ईशानी या लोकपृण ( स० ति० ) १ जगद्वापी। २ सर्वगामी । पृथ्वीके नाम मिलते हैं। २ अवलोकितेश्वर चोधिसत्त्व- लोकपृणा ( स० स्त्री०) इष्टकाभेद । मन्त्रगाठके साथ का नाम । ३राजा । ४ शिव । ५विष्णु। इस इटक द्वारा यज्ञाय वेदोका निर्माण करना होता है। लोकपालक ( स० पु० ) लोकस्य पालन: । लोकपाल । (वाजसने सहिता १२।५४) लोकपालता (सं० स्त्री०) लोकपालस्य भावः तल टाप । लोकयात्रा (स स्त्रा०) लोकाना याता। १ ससारयात्रा, लोकपालत्य, लोकपालका भाव या धर्म, लोकपालका | जीवन ।२ व्यवहार । ३ व्यापार । कार्य। लोकयानाविधान ( स० क्ला०) संसारयात्रा-निर्वाहका लोकपितामह (सं० पु०) ब्रह्मा। विधिपूर्वक नीतिशास्त्रविशेष । (Political Econ my) लोकपुण्य (सं० क्ली०) प्राचीन नगरभेद । (राजत० ४।१९३) | लोकयात्रिक ( स० वि०) जोवनयाता सम्बन्धीय । लोक्पुरुप ( स० पु०) ब्रह्माण्डदेव । लोकरक्ष (स० पु०) राजा, नरपति । लोकपूजित (सं. नि० ) लोकेपु पूजितः। जनपूजित, लोकरञ्जन (सं० क्लो०) लोकस्य रञ्जनं । लोकका प्रीति- जनसमाजमें मान्य। सम्पादन, जनताको प्रसन्न करना। लोकप्रकाशक (स० पु०) लोकरय प्रकाशकः । सूर्य। लोकरव (स०९०) जनरव, अफवाह । लोकप्रकाशन (सं० पु०) सूर्य । । लोकरा (हिं० पु० ) चीथडा।