पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


लोग्न-लोकसुदर ३७१ सोल (म. वि०) १ प्रातिर, पादेशिन। २ किमोरोक्योर ( स० पु० ) पृथिपोस्ट सुप्रसिद्ध योरन्द । यह एक ही स्थान या नगर वादिसे सपन्ध रम्बनेपालाशद यहुक्वान्त है। हयातीय । | लोरपत्त (स.की.) सप क्धापरयन घोडी दात लोफ्लयो (1. पु.) यह स्थानीय समिति निसके। चीन । २विष भागार । सम्योका चुनार किमी म्धानके कर दोबारे परत होलोपतान्त ( सं पु० ) १ मपरित । २ मातीन और मिसके अधिकारमें उस स्थानको सफाइ गादिकी | इतिहास । ध्ययस्था हो। लोषध्यपहार ( स. पु०) साधारणमें प्रचलित राति लोक (हि. स्त्री० ) लोकमारा। मीति। रोग्लेख ( स० पु० ) राजविशति। गोकमत (ग. पा० ) मनुष्य समाजकी प्रचहिन दिया लोक्लोचन ( स० पु० ) लोका लोग्नमिय । १ सूम।। पद्धति । २ मनुष्यके चक्षु । गति (१० वी० ) १ जनश्रुति, अफ् याद । २ रुपाति लोकरचन (सी0) जनरप, प्रगद । प्रसिद्धि। यत् (म०नि०)ो सहा। लोसार ( स० पु०) १ जनक्षय 1 0 जगत्मा ध्यस। रोयत्तन (स० पी०) मनुष्पवरित, रीति नीति। रोसना (स.पु०) रोसमयय, मादमीशी भीष्ट । रोक्याद (सं० पु०) रोषम्य यादः। लाप्रपाद, गा| सासारिय अमिशान | ३ जगवासीको मापसमें सम्प्राति श्रुति । और सम्मान। ४ समप्र जगत् सारा समार। मेषयाचा ( स० स्त्री०) जनरन, फ्याह । लोसा ( स० ग्त्री०) , गुरुच। रोया ( FIO नि० ) १ लोक्यदिन, भागारम्र। लोकमव्ययदार (स० पु० ) वैदेशि पाणिज्य । २लोकयानीय। ३ जातिच्युन । समृति (1० स्रो०) अदृष्ट, अभाग्य । लोरविकुट (१० नि ) पिद्विर, लोकनिन्दित । रोक्सहर (म • पु०) जागतिक विरा२ जामगाज लोषयिज्ञात (स.नि.) पिप्पात, प्रसिद्ध,मार। में मिया भाचरण करनेवाला । गोकयिद (स.पु० ) युद्धभेद । रोरसात (पु० ) १ स्थानकारी । २ निगद्धे गमाग लोकपिद्विष्ट ( स. त्रि०) लोकतन्दिन, जो पातार | | साधक। या दुषित हो। लोसाधिक (स.नि.) जगवासावा गुमोदित । लोकपिधि ( स० पु०) १ सर्चाि । २ जगत्फ लोसाक्षिन (स० पु०) १ प्रहा। २ अति३ सूर्य। नियन्ता। सोपसात् (स. अय०) जनसाधारणको भलाइये रिये। रोगविनापर (1० पु०) विनायक इच। प्रहलोक्सान्त (स.नि.) जो जातारी भलाइक लिये विशेष । प्रहगण रोगके अधिष्ठाता मान जात हैं। किया गया हो। लोरिन्दु (स. ति०) १ स्थानमारी। २ मुक्ति पारोक्मा (स.लि०) जगता सृष्टि कराया। स्वाधीनता प्राप्त लोसामन (म. को०) सामभेद । रोनित ( स० लि.) विषयात, ससार भरमें | लोरसिद्ध (स.त्रि०) १ प्रसिद्ध । प्रचलित ।मा प्रसिद्ध । साधारण द्वार्ग गृहीत । सोपविभुति ( स०पी०) लोके विशु नि । नाति, रोकसीमातिपर्शिन् ( स०नि०), साधारण मीमा मियदती। घहिर्भूत।२ गलोरिक अस्वाभाविक । लोकपिसग (स.पु०) गत्र । | लोकसुन्दर (म पु०) १ युद्धभेद । (ति०) २ जनमाधा रोयिस्तार ( १० पु०) रोष याति, जगत्में प्रसिद्ध ।। रण जिसे अच्छा रहता है।। .