पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोप-साम्राज्य अधिकार कर दिया। दो बाकी अज्ञात चेष्टासे राम! दरताका मन्दिरद्वार मुलगा पहले ३३ जातिया मिल की हामिल करको एक पैरभा पाउहरा सकी। ' कर रोमराज्यको प्रतिष्ठा हुइ थो। इस समय दो रोमक अव समझ गये कि ये नल्य द्धक दिना स ल । सातियो और इम ज्ञातिमें मिठ कर " जातिया हो यदर्म का जियफ माय प्रतियोगिता पर नहीं गा । सकेगे। २४२६मा पूर सर जुरारियमके को-ससे रडियारिष मागर पीय भागर्म इलिरोय वोस २०० जहागरे र यद्धरने उगाहानो नाम सेना ! करते थे। ये तर डातीसे समृद्धशाली हुए थे। पति काय जीय नहाना अध्यक्ष था। इंगेट स नामक इनके उपद्यपि इटला तिरा निरापद न था। द्वीपक निकटके युद्ध में रोमकोंने पिनय पाइ। इम युद्धर्म गेमकी सनेटने इलिरोय राजा अप्रनके पास दूत भेन रोमको सव विषयमं मुग्धिा मिली। पयो कि पर। पर इम उपद्रयो को दूर करनेवा प्राधना की। रानाने पथ बन्द करने पर साधे नम युछ भी सहायता नहीं आ इम प्रार्थना पर जरा भा ध्यान न दिया, यर दूत माको । फलतः दामिन करतो सोय भूम्वों ही मरना मार डाला गया। शीघ्र ही रोमक फीने यहां पहची। पक्षा। यह इसाफ २५६ या पहलेका घटना है। उस समय __ _ानियों ने निकाय हो कर हामि करतो यहाका राना मगन मर गया था। उसकी विधा रानी रोमक माघ मयि कर की कदा । इमाके -४ रिउटा डिमद्रियस नामक एक यूनानीक माहाय्यमे राज्य थप पहले यह मग्धि होगा। इससे कामिया हो। शामा कर रही थी। डिमेट्रियस रानीन टिउटाको मिसिला प्रभुत्य और निकट द्वापो का आधि | ओड कर परसारा' नाम दोष रोको को दिया। 4 छोडना पहा । दिया को उन्हो ने छोड़ दिया। रिटान नियपाय हो कर रोमको के प्रस्ताव को स्मार सम्धि यह थी, शिवाजिय १० यपके भातर पर लिया। इस तरह यहांको जल ढकती दूर ११ । ३२०० सोला मोना रोमको को युद्ध क्षतिपूर्गिक रूप इमसे जितनी पुगी यूनानियों को दुइ उनी उशी में मंगे। कमिका और सार्टिनिया रोमके अधिकार रोमको को हुई। उन सपो न रोमो को धन्यवाद आ गये। शिम ताह मिसिली पर जामन करे, खुचक सयाद ले पर उनके पास दूत भेजा। रोमा इस विषय पर चिन्ता करने लगे। रोमको शासन इस युके समाप्त न होत होरो गलीस फिर रोमको. प्रणालीफ भनुमार मिसिनोकामासन होना गमम्मय का युद्ध आरम्भ हुआ। इट्रिरिया अन्तर्गत रेमन समझोन सिसिलीम पर ना शासन प्रणारी नामा स्थानमें भीषण युद्ध हुआ। यह इमासे २२५ प्रतिष्ठित का। रोममे ए शामर हर साल मिर्या या पहले की बात है। समरक्षेवर्म ४०००० गलसैन्य चित पर भेना जाने -गामी मा द्वारा मिमिणे हताहत हुई और १०००० पौने दर रोगा। देरशामित होने लगा। इसी तरह रोम साम्राज्यको रोमको ने योगाइ प्रदेशस पो दा किनारे तरफ देतो प्रशमनीय पहा पर अधिकार पर लिपा। रोमराज्यका मापार चागे घर हामिटर अपने देश लौट आया और भोरस वदने लगा। उत्तर मापम पहातक रोमकाको पदला मुकामेको पिकामे लगा तथा साथ दो म्पेन । पयपताका फारा। मे यिपुर साम्राज्य प्रतिष्ठामा आयोजन करने लगा। उस समय दामियरन म्पेनम माम्राज्य पर दिना के बाद रोमम शान्ति स्थापित हुर। उमा | यीज यपन दिया था। उमको अद्भम प्रतिमासे यही ममपम इतने दिनो ता रणदयना जनामा परयाजा रान्यकी सीमा जद जनद वन गौ। हामिररके पुसा रोमर इतिहास दूसरी बार म मन्दिर दृदयम रोमको प्रति बैरभार सयदा विद्यमान रहता पादण्याला बन्द हुआ ! किन्नु गधिर दिनो तक था । उसने अपने if ww पुनले पनि चन्द मारा। रममेरी माहानमे फिर मामहारण करा पर प्रति घी, शियद मानोयम रोमशेरे