पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३८०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


लोमशकान्ता सोय लोमकान्ता (स. खा०) लोमश कातो यस्या ।। लोमशातन धनता है। लवण, हरवाल, तण्डुलोफल तथा वक्टो, रही। लाक्षारस इन सब द्रयोंको एक्त्र र प्रलेप देनेसे भी लोमशकोड़ा (स. स्त्री०) लोमशान्ता दखा। लोमशातन होता है। फिर करि चूर्ण, हरताल, शड्डा लोमशच्छद (स.पु०) १ देवताडरक्ष रामघास २पोत मन शिला, सैघा इन सयका बरेचे मूबफे साथ पीस देवदालो पीला घघरयेल। पर लगानेसे तुरत लोमशातन होता है। वैद्यफमें लिया लोमशपत्रा (स ० स्त्री०) पोत देवदालो, पीली घघरवेल। है, कि भिलावा, विडड, यवक्षार सैधव, मन शिला लोमशपत्रिका (स.बी०) लोमशपता, घरयेल। | और चूर्ण इन सर्वोको नेलमें पका कर उसका प्रलेप मशपणिना (स. स्त्री०) लोमश पणमस्त्यस्या इति । दोसे रोमशातन होता है। (भेषज्यरक वशीकरणाधि०) इनि डोप । मापपर्णी नामक ओपधि । लोमशो ( स० स्त्री०) करंटो, कही। रोमशणी ( स ० स्रो०) लोगशपणिनी देखो। लोमश्य ( स ० क्लो०) लोमबहुलता, रोए को ज्याददी । रोमापुष्पक (स.पु०) रोमणानि पुष्पाणि यस्य, कप।। लोमसदर्पण ( स ० लो०) लोमहपण, रोमाच । शिराप, सरिम। लोमस (स.पु०) लोमश देखो। रोमगार्जार (स0पु0) लोमशो लोमबहुलो मालार । लोपसार (स.पु.) मरक्त मणि । मारि विशेष, एक प्रकारको विल्ली। इसके बाल कोमल लोममिक (सस्त्री) गाली, सियारिन । होते हैं और इसमे मुश्क निकलता है। पर्याय--पूतिक लोमहप (स० पु०) लोग्ना हर्ष । १ रोमाञ्च, पुरक । म रजाता, सुगधी, मूत्रपानन, गधमार्जारइसका ) २एक राक्षसका TIHI (रामायण ११२६१३) मुश्क चोर्यपद्धक, पावातनाशक, पपष्ट और पोष्ठपरि , | लोमहषण (स को०) लोग्ना लर्पणमिच । १ रोमाञ्च, कारक, चक्ष का हितकर, सुगध, स्वेद और गधनाशक पुलक । लोम्ना हर्पणमस्मादिनि । (नि०) २ लोमहर्ष माना गया है। फारक, रोमाञ्चकारों। (पु०) विवित्रपुराणधाश्रयणात् गेमशवक्षस् (स.नि.) रोमाच्छादित पक्ष या घपु, रोम्ना हर्पण उद्गमा यस्मात् । ३ प्रसिद्ध प्राचीन प्रपि। जिसकी छाती रस भरी हो। इनके पिताका नाम सूत था। सूत घेदव्यासको शिष्य थे। लोमशमथि (म त्रि०) पवादमागमें लोमयुक्त । शुक्ल । कतिपुराणमें लिखा है, कि परशुगमने इन्हें मार डारा था। यजु (४१) भाष्य, मदीधरने 'बहुरोमपुच्छिका" अर्थ | रोमपणक (स० वि०) लोमहर्षण सम्बधीय । किया है। लोमहर्पिन (स० वि०) लोमकारक, रोमाञ्चकारी लोमशा (स. स्त्रो०) मानि सत्यस्या इति लोमन् ऐसा भीषण जिससे रोप बड़े हो जाय । टाए । १ काकजड्डा, मासौ । २ यच । ३ वैदिक कालकी रोमदारिन (स.लि.) गमवाहिन् । पक सी जो कर मत्रोंकी रचयिता मानी जाती है। लोमहत् (स० पु०) मानि हरति नाशयतोति ह दिए । ४ गिग्बी, सोमको फलगे। ५ महामेदा। ६ कसीस। हरिताल दरताला ७शफिनीगेद। ८ वतिघला। शणपुष्पो, वनमाह ।। लोमा ( स० सी०) यचा, यव । १० एव्याय। ११ गधमासो। १२ फेवाच, कोछ। लोमायणि (स.पु०) रामायणका गोलापत्य । १३ मियी, सौफ।१४ क फोलो। लोमालिका सत्रा०) लोमाल्या लोमश्रपया कायतोनि लोमशातन (स० को०)लेना छातन । १ रोमपातन, केकराप। शृगालिया, सिपारिन। लोमपाशक । २ मोपविशेष, यह सीपय वाल पर लगा | लोमाश (स.पु०) गाल, गीदड। देने वाल मापसे आप उस जाते हैं। गडपुराणम | लोमाशिश (स.स्त्री०) शृगाली, गीदहो। लिया है, कि हरवाल और पूर्ण केले पत्तेकी रोय(हि.स.)१लो, लपट । (०) २ मारा, नयन । भस्मफ साप गिला कर रोए पर प्रप दनेसे उत्तम (मध्य) ३भी देखो। fol 197