पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोम-साम्राज्य प्रति विद्वेषभाव रसेगा और वैर चुकानेमे प्राणपणसे । कार्थेजकी रक्षा के लिये मैनिके साथ अफ्रिका मेज चेष्टा करेगा। हामिलकर लडकपनसे ही अपने पुत्र दिगा। मा प्रबन्ध का हानिवल ईमाके पूर्व २१८ हानिदलको युद्धविद्यामें निपुण कर रहा था। हानियल ई०के बयान मृतु १०००० पैदल, २२००० घुडसवार पिताकी प्रतिज्ञा और रणपाण्डित्य आदि गुणों में उप- और कई हाथी ले कर इटली चला और पाच महीने में युक्त अधिकारी था। हामिलकर स्पेनके भीतर धीरे पिग्निीज पर्वत पार कर गेम नदी के किनारे जा पहुंचा। धोरे राज्यविस्तार कर रहा था। ईसाके २२२ वर्ग पिरिनीज पर्वतके पहाडी जातियों के माथ युद्ध करने में पहले एक युद्धमें हामिलकर मारा गया। इससे उसका । उसको बहुतेरी फौजें नष्ट हुई थी। गेमकों ने हानि. दामाद हासद वल सेनापति बना। रपेनमें न्यूकार्थेज बलको युदार्थ आने देव फनमल पोकानलियाम नामका इसने एक नगर वसाया। इसका इस समय सिपिभोको फौजों के साथ उसके गेकने के लिये भेजा। फाटेजना नाम हे । तरुण वयस्क हानियल सेनानायकके किन्नु कन्सल मिपिओके मेसालिया पहुचनेके पहले पद पर अधिष्ठित हुआ। २२१ वर्ष ईसामे पूर्व हास्- हो हानिबल राम-नदी पार कर अपम के निकट पहु। प्रवल गुप्तरूपसे एक गुलामके हाथ मारा गया। इस समय गया। सिपिओने हानिकलको वहां रोकता असम्भय हानिवल सेनापति और शासक नियुक्त हुआ। हानिवल समझ राम लौट आया और अपने भाई नेमियम के हृदयमें सटा रोम पर आक्रमण करनेकी चिन्ता रहती सिपियों को स्पेन र अधिकार कर लेने के लिये भेजा। थी। इसलिये उसने फोजों को सुशिक्षित करना आरम्भ इसी पौशलसे पिछले समयमे रोम हानिकलके हाथ च किया। हानिवल अपने गुणों से स्पेनके सभी जातियों के गया था। पयोंकि छानिवलको पेनसे महायता मिलती साहास्य पानेके अधिकारी बन गये। इस समय वह | तो वह सहज ही रोमका ध्यंग्न कर देता। रामसे युद्धका कारण हृढ रहा था। __हानिवल विराट सैन्यों के साथ बड़ी तेजीसे अगस ___ पहले हासद वल के साथ सन्धि यह ठहरा था, पर्वतमे होता हुआ इटलीकी ओर आने लगा और शीघ्र कि एनो नदीकी पूर्वी सीमा तक रोमकोंका अधिकार ही सिसाप्लाइन गलके निकट पर्वातसे नीचे उपत्यका रहेगा चौर नदीके पश्चिम पार कार्थे जिय रपेनकी उनरा । उसको एकापक इस तरह तेजीसे आते देव सीमा रहेगी। किन्तु हानिवलने इस सन्धिको अस्वीकार | रोमक विचलित और भयभीत हुए। अल्पम पर्वतको कर दिया और ईसाके २१६ वर्षा पूर्व अपने राज्यके वाहर पार करने समय हानिवल के वातेरे सैनिक मर गये। सेगाएटम नगर पर आक्रमण कर ८ मासके युद्धके । उपत्यकामें पहुंच कर जब उसने अपने सैनिकों को पाद अधिकार अर लिया। रोमक मित्र राज्योंके सहाय | संभाला तब उसको दिखाई दिया, कि उसको विराट फीजों. तार्थ इतने दिनों तक कुछ न कर सके। रोमको ने | में फ चल २०००० पेदल, ६००० घुडसवार वाकी वच गये हानिवलसे संधि तोडनेका कारण पूछने के लिये दो वार हैं। उसने कुछ दिनो तक विधाम पार सैनिकों को कान्ति दूत भेजे। हानिकलने उसका साफ तौर पर कोई उत्ता दूर की। नही दिया। इधर रोमक फौजे आ कर उसके सामने डट गई। दूसरा प्यूनिकयुद्र ( २१८ २०१ ई०से पू०) टिमिनस और ट्रेवियाम दो भीषण युद्ध हुए। हानि- हानिवल संगाएटम पर अधिकार कर शीतकालकी पलके न्यूभिलिया घुडसवारीके भीम-पराक्रमसे रोमक वजह न्यूकार्थे 5 लौट आया। इसने ईसाके २१८ वर्ण फौजें तितर-वितर हो कर भागो। सिपिओ गुरुतर पहले विराट सैन्य ले कर पराकान्त रोमराज्यके ध्वंस रूपसे आहत हो कर पोछे लौट प्लासदियरकी चहार. करने के लिये यात्रा की। युद्धयावाके पहले इसने रपेन दीवारीमें आ छिपा। हानिवल पो नदीको पार कर ओर कार्थे जकी रक्षाका सुन्दर प्रबन्ध कर दिया था। युद्धार्थ आ पहुँचा। किन्तु रोमक फौजें भाग बडी अपने छोटे भाई हासन बलको स्पेन रक्षाका मार दे कर | हुई। उस समय दूसरे कन्सल मेम्प्रोनियस सिपिभो.