पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/३९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


४॥ यम्बा । mcnceoushalmatitend inmonite नामसे उत्तर टा, घारमाड, कालादगि, वेग्गाम्, गोमा, प्रसिद्ध है। सामन्तवाडी, कोदापुर, रत्नगिरि, सतारा सूरत, रेवा ! विहार भोर उहोसा पारता, पारमहाल, काठियावाड और कच्छप्रदेश माग्ने रार लोहका कारखाना (Barakar fronworks) सराट, गटेराइट और हिमायराइट श्रेण का लोहा देखने में साधिष्ठ हैं। रानीगन कोयलेको मानमें transtone माना है। उनमें से ग्लगिरिफे मतगत मात्यपान पर्वत <spiles और nodules of clas sron stone पाया के ममोपरेशाका ताके जानूघोडा रिमोदा और राद । | नाता है। वीरभूम, भागलपुर, मुगेर, गया, मानभूम, फेघर नामर म्यानमें तथा काटियावाड ओमिया । सिंहभूम, गहरउगा, उडोमा, छोटानागपुरके सामत पिर पर जुरासिक स्तर में प्रचुर गेहा है। पितु भो । १ गयों में लौह सस्थान देखा जाता है। पद काममें नहीं पा जाता है। ___यामिया, जयन्ती और नागापहाट पर तथा मणिपुर राजपूताना । जयपुर, मेराड, बलशार, मारवाड, अनमोर, दो राज्यमें साधारणता टासिंयारि कोयले के स्तरमें thta कोरा और भरतपुर रायो विनि- स्तमि गोदा niferous magnetite pisolitie nodalc ot hmorite और nodules of chy iron stone देखा जाता है। पौगिरभाषमें विद्यमान है। उनमें से आरायही पर्यतर वासिया और जपतो पहाडके जिस प्रस्तर स्तरम लोहा दानिशन स्तर सि घुमरे का कीरचर और सीट पाया जाता है, यह बहुत जल्द हटता है, इस कारण श्रेणो, मेराडो गगोर विभाग सिस्यत्ती मशान तथा वहाके भादमो उमे अच्छी तरह चूर्ण पर रेते है। पीछे मल पार राज्य राजगढ निश्श विस्तृत तहको एक नली जहा प्रवल येगसे जलधारा बहती है, यहीं पर पान उधनाय है। यहाका हा माग्नेटाइट, दिमा उस चुणतो ले जा कर धोते सस मिट्टी और उसी टाइट और माङ्गानिज अफ्साइडके यौगित रूपमें विद्य तरह लघु पदार्थ रनोतमें बहते हैं तथा उससे मारी माना लोहेफे पण माचे पैठ जाते हैं। इस प्रकार बार वार पञ्चाया प्रक्षालनके वार पर यह यौगिक रोहचूण मृदादि प शायर, फेल्म, पागडा, मण्डो सिमटा पार्मिय पदार्थ से नियुक्त हो जाता है, तब ये लोग उसे शैलराय और गुरगाय मिरे मागा रथानों में छोड़ा। माचमें गला पर लोहा निकालते हैं। इस प्रकार वार देखा जाता है। उसमें कागडाका magnette iron पार रोहा गलानेसे यह परिटत हो जाता है। इसके sand बहुत पदिया है। काश्मीर रायफ पञ्च नामा बाद मनिक समान लाल र घोच से पोरनेसे बद्द नदोवारवत्ता पहाडोप्रदेशमे पञ्चगिरमे उत्तर द्रागडशैलक अच्छे लोहमें पल्ट आता है। निगर, भीमगारा नदीफे तोरपत्ती सुपादन प्राममें, दामोर उपत्यका सोपुरमें मोर वामपुर ना स्थान मझराज्य। थे समोपसयालदाख के अन्तगत वानला-ग्राममें लौह उत्तरग्रह्म, पेगू और तेनासेरिम विभाग तथा शान समर कारखाने है। राज्य माना स्थान माह नगरस १० मील दक्षिण सुदर पश्चिममें तथा उससे ४ मोर दक्षिण में अपस्थित दो पुमायूसरित पादा और मिर्जापुर निमें काफी द्वापों लोदेशा निदर्शन पाया गया है। पडोषमागरम्य लो पापा जाता है। उनसे कुमाय ये अन्तर्गत मन्दामान दोपके पोटम्टेयर मगरस पुछ मोळ दक्षिण रामगढ, पहली, मांगयामी, नावना खां, पारयाहा र छाङ्ग IIA स्थान प्रचुर परिमाणों halma सैराना मीर शिवारिक स्तर कालधुनी मोर देनाtite योगि मिरता है। किन्तु उमर्म छोपारज मोर HIRY स्थान रोहा उमदा होता है। इन स्थानों पाराइट मिल रहनसे यह किसी काममें नहीं भाता।