पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


३४ 8T1 2 11-बाय द्वोपा! ratiपति मोरे मोर ले पुराने यास मं यहतायत में पाया जाता है। ३५ पुपकानो पर! पृर गा, र गमनम पात पुEArmthit एक एy nz मेती है। हमारा शनिघागुन १ गोमा मोटा में होता। इस कार पर पाति पारोन बोटे यममा मामा परि अच्छा एदी समा जाती। | साहिला नवस नातिशिम माटा पापाता। होता है, कि उस पर कुठारासात रनवं नागोनि शिमा वाम गुहाके पास पर जार किमी धना गारिया निनो है। पार होती पिपुर an सादि देगॉन इस बॉसयों ३५ B Tert ~ और सामान HARIRT पोटासरी वनता है। फिमा निवाका वाम उत्पन होता है। ३० दिन भर पूरा बाटी रा नाता है। कोड कोर ___ ३६ B Trikin-दामा भाधारण याम । प २३ माRभीतर ITIALफ माथ 43 है। प्रधाना प्रदेश जलमय वाम मी उत्पन होता है । याम हा पाम काप- निकलने' लिमा दानशाद बढना है। ताम दिनये भीतर पूरा पालमे १५३ रह पपासेना पर पपा है, वि आजाता है। मा T० पुर रोग यानि माय दीयासरे पाय योपन १० होती ।त्तिया मभोग मर और निग उगम है। पाठ पटि पदभारे धारे घटता जाता विधि होता है। गाटे कमेगी । "म पान नेरिया' नामक एप्रकारका को फाड कर निपलमें रोमने यहासपाया ना ।। पर मादि माने या मजबूत और रिलाऊtrI म टोर पर जा पहन ratr उससे मकर आदि बनते । तदा वामम इसका गाटे बात मानत मदार बात है। होती है।लागमस को कोमnkउमा या बारम्RA TI Rगे हुए धामी मग जगद मसालादिधार पर सवार मानाया पापा ने उसमभा दोष-नियन। इसके मिया Bharticilliti-याम्पनाप पन गजमे भी पास उतना Lourcate और होता है। इसी च १ २५ग कम नहीं की। 11 सयुक्त वाममो नमोन गाउनक वाद सात णि इसके पत्ते गरीरमें ने पुरार पैदा at भीनर दी गपुर याते हैं । ५ मा कमा नहातम जो मनमे र नहीं Rart र EिNT सता रद्द कर हा तक पहता है। उस समय उमसी पसिया सहरका मामी mm दूसरी जगह उप्राड र रोपते हैं। घर जदू Phu ने इस ातिके वृथा I ek baalha IRA शिधार शो हा ममया' नष्ट हो जाते हैं कि सनी उल्लेख किया है। तरह यदि उसी रक्षा को नाय तो पदमारतरपन पर ३८ B Tulgans-भारतानि तमाम विरत प्रातमे दूसरे मातम भेग और उसस यास गाया जा शाह, राम और सिदर दोपदारण गीर म" साता है। २०स १२ वर्ष मातर यह उपर और काटने भागमें उरात होता है। मेरिका येटपरिजवान लायक न होता। तथा दक्षिण अमेरिकामें गह जगह इस मेता होती। यसका सा शोपर होग बढ़ने पर मो उसमें है। यह दास देसनेम पाना होता है। वीर वाचगै साम मोटार उतनी ही होगी। भोपारे अनुसार याम पतरा धारिया दिपाई देती है। बता में इमे यामिना पास मोटा होता है। दासके बढ़नेसे उसकी मोटार घटती पम्बामें कहा घशाला और गिट्टापुरम जमा करने हैं। बढती दी, पूरवत् रहती है। समय पर उसपेयर यह वास साधारणत २०से ५० पुर योदा सा नमो | परिपाता निभर करती है। नारिए, ताण, सनर होता । मोटाइ छोटे गोटे लडकोके वाहमारे FT) अविदा शाल इनरनिस मार सर ममय Vol xx 105