पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४२६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


करान-वकालतनामा ४३१ कर हे मय नाश करैगा । ब्राह्मण मुनम या धात यश्चतिक (स.पु.) कपटी सन्यासी, पहनो म्याथफे रोनि सुन र कुनादेव बहुत दुखित हुई और शेगे। लिये कपटमावस धर्मावार करता हो। 'हे ब्राह्मण । तुम्हारे केस एक पुत्र और पक्मान युती | चश्मनिन् ( स० पु०) पानतिक दखा। कन्या है। हे भेना अगर तुम्हारा और तुम्हारो यकमकथ (स० पु० ) पिभेद । पत्नाका उपहार ले करना उचित नहीं। मेरे पास वरसगासिन् (स० पु० ) पम कमल। पुत्र हैं उनसे ए-तुम्हाग भगाइके रिपे उस पापो कसुझान एक प्राचान नगर पाम | गरेपानायगा। अने यासानुगदाछुतावकाची ( स० खा०) चिञ्चिका मत्स्य एम प्रकारची . छोटा मछला। को दात पर धीत वाघ जाह्मण कुतोक माय भीम मनके पास गये और गद कठिन साय फरनेका अनुरोध । यस वाएइप्रन्या (स० स्त्रो०) वृथा साया । पिया। भीम भा या महालत करने को तगर हो वारि ( स० पु०) यास्य अरि । १ भाषण । २ भीम सेन। गये। यकाल-पूर्ववद्यासागडाट नातिभेद। ये लोग वकाली सपरे मामसेनने खाद्य सामग्रा हे पर रायमर नामसे भी प्रसिद्ध है। या नाति भएद्वारमे मिन यासस्थानकी ओर त्रासदी अन तर राषसके घरम होने पर भी आपममें धैवाहिक आदान प्रदान समा धुस कर स्वय मोनन करने लगे और राक्षस नाम | आहार व्यवहार प्रचलित नहीं है। पर तु एक ही प्राहाण ले र कर पुकारन रगे। रासम बहुत बिगडा और "। दोनोंका पौरोहित्य करता है। ढाका जिले के गाफरगज भीमसन पर टूट पटा। भामनेनने उम पर ऐसा Fri और माणिवगञ्ज उपविभागमें ही अधिकार यफालौंग किया कि उसका पीठको हट्टा चूर चूर हो गइ ! आखिर | वास है। ये लोग गेगोवारा नहीं करने नारगेकर यह पञ्चत्यप्राप्त हुआ। अपना गुमारा चलाते हैं। कोई कोई गाय गावा घूम याराज ( म० पु०) राम नाम राजविशेष। ये पर हदा मशाला आदि बेचता है। सो काश्यप कश्यप पुत्र थे। (मारत शान्तिप) गोत्र है। अधिकाश व्यक्ति मृगम तक उपामा ।। यायघ (म0पु0) १ कासुरक्षा निन्न I • महामारतीय इन लागोंका विश्वास है कि व्यासाय याणिय द्वारा वादिपर अतगत एक या पाय। रम अध्याय पे लोग बहुत कुछ नत हुए हैं इमो कर चएडालक भीमसन द्वारा एका नगरायासुरका निधनत्तात | माघ इनका समय नहीं है। ये रोग चाडालका तरह घृणित पशुमास नदी खान और न भराव हो पान है। यक्ष (स० पु.) का पेड । सालन (या) इमरी फिप्ती कामा भार जल ( स० पु०) क्षय रिपेका #तरम्य पतला लेना, दुसरेक स्थानान होकर काम करना।२दमाये पक्षका मदा। ३तरम, मरेका सदा पारदर पर पति ( स० पु. ) पास्येव म्याथमाधिवा सिम्य। काना। ४ अदारता करहरीमें पिसी मामलेम यादा पदावार घोप्रा पर जानोपानमरी या प्रतिवादीका पोररी प्रोत्तर या वादविवाद करना इति। याचिरेमा। काम, मुकदमे में किसी पराका तरफ्स पदम करने याग्नि (१० पु. ) याम री धाताया। १ भोम वकालतन २०नि००) या द्वारा समका एन। धारा उल्टा । पास (गो .) वटा मनुए वगलेली तर मातम यातनामा (पु.) यह अधिकार पर निसर द्वारा ग्दनमाला कोइपिमा पोरको अपनी तपम गुपद में चम या पनघर (मपु०) वायतिधारामा ! सिमुकर्रर करताई। पेशा।