पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


बाग-पाल्या ४३५ और मया र शनि प्रभाव उनका स गनि हो । यस्ना ( स ० ० ) यन कुरिट नन दर दिसश्न । नाती है। पिशुन, चुगन्शोर । २ शुरु पक्षा, नीता। ___ज्योनिपियोंन मगर होगी यानिकी दिन सप्या | मनाल (स० को०) मुम्न राय एक प्रकार बाजा निर्दे का है। उममे नाना जाता है कि मगरमी ग , नो मुहसे बनाया नाता है। गति दिन, धी-१दिन युद्दम्पति नि मास (स० वि० ) वरनासा या चन्चुयुक्त निसरी शुगी १२ दिन राथा शनिको यागनि १८४ दिन है। नाक या चोंच टेढी हो। स्तृित विवरण मागदमें देग्यो। घर सि ( स० पु० ) यका नासिका यम्य। 147 घरगल (हि.पु.) पर प्रकारका पाना नो मह उन्न् । (लि.) २दुटिन नामायुवई पायाला पर धनाया जाता है। पाद ( स० वि० ) या पा- यर । यम, गदा । पगामिन् (स. त्रि०) । मारल गति, टेग चार यापुच्छ (१० पु० जी०) या पुच्छ यम्य । युगयुग, चल्नेवाला 1 २ असत् यी ।। अट पुति | पुचा। ४प्राश घोपेशान। घरकि ( पु) पुश्कुर, कुच । यागु (सपु०) उन अट। परपुर (सो०) पय प्रावास नगरपाम | यमपोर ( स० पु. ) या प्रागम्य। उन अट। (कमास गत १000३६) ययन (स.पु०) रायम्य । गुरुपही तोता। यप (स.पु०) वाणि पुग्पापस्य । परम पा(स ) बापरणारेदारना। अगम्तरा पेड। २ पलासा पेड। याणा ( स . खी०) या दो। मपिका (स० सा० ) गगूनिका पिपरागग। याता (स.या० ) TREE मात्र या धर्म दढापन) | यमवालधि (स० पु०) यो चारधि नियुस रागर २मरता, गठना। यस्य । १ कुपकुर, कुत्ता। ( 410 ) २ पुटिरपुर के चम्य (स. ) बना दे । १ पूछ। यमनार ( स०सी० ) र ताट पा । पापियर, " समनिन (H०मा० ) वम फुटि भनिम्। करित पर प्रकारका पाजा नो गुइसे या जाता है। | पाय, खोटी पान। पयाय-छाति गोल, पोयमुपाय, वाना पोक्ति । यमनाली (स. ८०) चकनारगीरादित्यात् छाप । मुस याध, एक या याना भो मुहम बनाया जाता है। प्रामाय ( 60 पु० ) १ पाना टेगपन । • अमर यमनु (स.पु०) दरसाभेद । (मानु०८) । यमनुषद (स.पु) पर तु: या पो मोना। परम (० पु.) अरणसमिनि मम भाय पर। २ गणे।। (वि० ) ३ वोट, जिम ट । भरोष । पगयन भागना । यार (म.पु.) याददापाय! शार मूअर। याय (म.पु.) मुख्य दाम। याना (स.मा.) यारत (म.पु०पनयम म रायम। यमाती (म रो)Papriy 7 तो। यमगदल (11० पु. ) यम TTER यमदल (म. ) ताल। पान । एसा (मा० )२पहिल पुरा पूछ। यह स ० गा) हरि। शो! यमापन १० पु. ) या याम ग्या । मन्द रिश (fr) यम्मुमधिनिय म711 परधर (म. पु.) नापका र चन्द्रमा धr पाय! (40) पत्र समिर पारि 71 करनपाल,गिया पुम्पिना शुप, प्रारपारमा! 14 , पदिश्ता।