पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/४७३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वदेश नाम कार्यप्रणाकान अर्थापिपामा बुझाने के लिये नवाबों को भी प्रजापीडन फार जान डीन १७वी ., १७२३ अग्निंग्रह करना पड़ा या । इस अत्याचार के माय साश ., हेनरी फेरलैंड ३०वी ., १७२६ प्रजाओं पर ई वर भी प्रतिकृल थे। १७६६-७० ई में ,, पडवार्ड ग्टिफेनसन १७वी लिन० १७२८ व गालमे भीषण अकाल पडा।गा १७७६ नालों जान डीन यह दुर्घटना घटी थी, इसमे यद 'छिहत्ताका मन्वन्तर' मि० जान स्टाजहाउस २५वीं फर०७३२ नाममे बाज मां प्रसिद्ध है। टामस नाडि २६वी जन० १७३६ वार्न हेस्टिंगमने य गालका राजन बमूल करने में , जान फारेन्टर ४यो फर० १९४६ सुविधा के लिये भलकर नियुक्त किया। इस समर निकामी विलियम बारबोएल १८वी अप्रि० १४४८ हडप कर जाने मरम्मद रेका सा और राजा मिताब गय . पडाम इलन १७वा जुगई १९४६ कारारुद हुए । हेस्टिगम राजकोप और गाजकार्यालय ..बिलियार फिरले (Trtche) ५वी .. १७५२ मुर्शिदाबाउन्ने पलाते उठा लाये। उन्होंने निधारमार्गको .. रोजरक ८वी अग० १७५२ स्मृविधाके लिये दीवानी और फौजदारी अदालत कायम घनल गवर्ट लाव २७ जून १७५८ पी थी। उक्त कार कर ही दीवानी अदालन तथा भाजी जान लेड, कालवेल २२वीं जून १७६० या मुफनी फौजदाराने विचारक रा । अपील के लिये मि० हेनरी माननीटार्ट २७वी जुलाई १९६० पलपाते "सदर दीवानी अदालत" और "मदर निजा- जान स्पेन्सर गे दिम० १७६४ मत अदालन" नामक दो प्रधान विचारालय म्यापित लाई काटन गे गई १७६५ हुए थे । १७७५ ई०म "सदर निजामर" मुर्शिदाबादमे गि० हारि भेरेलेट २७वी जन० १७६७ 33 गई और महम्प्रट रेतापा नायर ननोम हो कर । , नान वाटियर २६वी दिम० १७६६ वहाके प्रधान विचारपनि हुए। मि० वार्न हेस्टिंगम १३वी उप्रेल १७७२ कम्पनी ने श्रीदि देव १७७३ ई० में इंगलैडकी माननीय बान हेस्टिगम पहले गवर्नर थे । १७७३ | पार्लामेण्ट ने बड़ा व्यापारमें हस्तक्षेप किया। उनके सामना ई० पार्गियामेण्ट नियमानुगर मद्राग्न और वम्बई । देशने तार्न हेस्टिंगम गवर्नर-जेनरल हुए और मकों व गाल के शासनाधीन नुआ एवं ३ गवर्नर जनरन्ट पद | सिल गवर्नर जेनरलका कर्तृत्व समानीके भारतीय अधि पर नियुक्त ए। उस समय गवर्नर जेनन्ला चेतन झारमे व्याप्त हुआ। इमो समय अगरेज अपराधियोंके सालाना ढाई लाव और उनकी सभा वार सदस्योंमेसे | दण्डविधानले लिये इंगलेडीय व्यवस्थानुसार करतेने दगएको ए लाख रुपया मिलना था । भारतवपके सुप्रीमकोट स्थापित हुई थी। डिरेकृरॉकी अनुमतिके इतिहासमे मारतके बंगरेज-गवर्नर जेनरों शासन अनुसार हिन्दुओका हिन्दूशास्त्रानुसार और मुसलमानोंक विवरण दिया जा चुग, मालिये यता कुल नहीं लिखा मुसलमान सूरे के अनुसार विचार करनेकी आमा जारी गया । सिर्फ गालकी कुछ सिद्ध घटना लिबर हुई। इस पर हालहेड साहबने एक बंगला व्यया था अङ्गजशामन प्रभावका संक्षेप विवरण दिया जाता है ग्रन्य संघलन किया। उनका प्रथम बंगला व्याकरण १७७८ ईष्ट इण्डिया कम्पनीके दीवानी लेने पर लार्ड क्लाइद ई० में छपा था। चालम विलपिन्सने उस छापेका अक्षर ने इस्पनी मेनाविभागशे वढाया। चे सर वाणिज्यके, चोदा था । यही वगला अक्षरको प्रथम सृष्टि है। बहाने अर्थालोलुप हो कर इस देश वाशिन्दोंसे अयथा १७८० ई०को २८वी जनवरीको कलकत्ते में पहला संबाद- अर्थ ग्रहण करने थे। मीरजाफा और मीर कासिम्के पन छपना शुरू हुआ। समय कम्पनीले कर्मचारियों नागृध्नुता और अत्या हेस्टिगसले गासनसलमे १७७४ ई०को सहाराज चारशे माता दिन पर दिन बढती ही गई । “म्पनीकी नन्दकुमारको फासो हुई । उसके बाद सुप्रोमोट