पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/५४५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वण्टक-चराकबाज ३ अकृतोद्वाह, अविवाहित । ४ जिनकी पूंछ न हो या | अब तसि मन्त्र घ चा अवम्यालोपः । १ ofपूर, कट गई हो, लहरा, वांडा। कर्णभूषण, फानका जेयर। २ शेपर, गिरीभूषण। वण्टक ( सं० पु० ) वएट एव खार्थे कन् । १ भाग, यौट। (गीनापिन्द १२) वएट-ण्वुल । ( त्रि०) २ वण्टनकारी, विभाजक, वॉटने | वन (सं० अश्य० ) १ मेद । २ अनुकम्पा । ३ सन्तोष । वाला। ४ विरमय । ५ थामन्त्रण। वण्टन (सं० की० ) वएट ल्युट् । विभाग। चतगड (सं० पु०) वनाति वन (धयटन सभामा उगा वण्टनीय ( स० त्रि०) चण्ट अनीयर् । बाँटने लायक, | १११२८) इत्यत्र बनतेस्तकारान्तादेशः । एक मुनिका विभाग करनेके योग्य। नाम । वण्टाल (सपु०) १ रोंका युद्ध । २ नौका । ३ प्रनित्र, वनन (अ० पु० । १ वामप्यान। २ जन्मभूमि । ग्वनती। वतायन ( स० पु०) वातायन, झगेवा। वण्टिन ( स० वि० ) वएट-इनच् । कृतविभाग, वांटा वतीर (R० पु.) १ ढंग, रीनि, प्रथा। २ चाल ढाल । हुया। 3 लत, टेव। वण्ठ ( स० पु०) वण्ठते इनि बठि-अच् । १ अरनोद्वाह, | चतू (सं० पु०) १ देवनदी। - सत्यघाफ। ३ पन्धा । अविवाहित । २ वामन, बीना । ३ दास। ४ कुन्तायुद्ध, ४ मलिरोग। भाला । (नि.) ५ हीगांग, जिसका कोई मग सांडत चतोका (सं० ग्त्री०) अवगतं तो अपत्यं यस्याः, अयम्या हो। जैसे-लूला, लहरा, खजा आदि । लोपः। अबतोका, बद्द गाय जिसका गर्भ पतन हो गया वएटर ( स० पु०) १ स्थगिकारज्जु, वह ररसी जिससे । हो। वकरी, गाय आदिको गलेसे वांधते हैं। २ फुत्ने वत्स (सं० पु०) बटनीति यह (तादि इनि कमिषिभ्यः सः । को पूछ । ३ तालपल्लव, ताडके उक्षका कोपल । ४ वाम | उण ३६२) इति स। १ वर्ष, वत्सर। २ गोशिशु, के कल्लेका वह मोटा पत्ता जो उसे छिपाये रहता है। गायका पशा, बछडा। पयार्य-शत्करि, तर्णक, यह पत्ता गाठ गाठ पर होता है और बहुत कडा तथा दोग्धा. दोपक, दोप, रोहिणेय, वाहुलेर, तन्तुभ । सद्यो- भरे रंगका होता है। ५ स्तन, धन । ६ मेघ । ७ कुमार, जात वत्सरका पयार्य-तर्णक, तर्णमि, तन्तुम, याच । कुत्ता। ३ शिशु, पालक, वश्या । ४ दिवोदासका पुत्र । (भाग- वण्ठाल (स० पु०) वपटाल देखो। वत ६।१३१५) ५ देशभेद, कौमाम्बी। ६ फंसका एक वएड ( स० पु० ) वनते इति वन सम्भको ( चममण्डात् अनुचर, वत्सासुर । यह असुर श्रीराम द्वारा निहत हुआ डा। उण. १।११३ ) इति ड।१ वह जिसको लिडेन्द्रियके था। (भागवत १० स्क०) ७ इन्द्रयव, इन्द्रजी। ८ मुनि- अप्रभाग पर वह चमड़ा न हो, जो सुपारीको ढांके विशेष। (लिङ्गपु० ७१५० ) सी०) ६ वक्षस, छाती। रहता है। २ ध्वजमङ्ग नामक रोग । पर्याय-दुश्वर्मा, वत्स-१ कुमारसम्भवटी फाके रचयिता । २ चरफा- द्विनग्नक, शिपिविष्ट । (त्रि०) ३ हस्तादि वर्जित, लागू- ध्वर्य सूत्रके प्रणेता। हेमादिने इनका उल्लेख किया है। लादिरहित । ४ होनाङ्ग, बाड़ा। वत्सक (सं० क्ली०) वत्स-संज्ञायां इवार्थ वा फन् । १ पुष्प- वण्डर (स० पु०) १ कजूम, मक्खीचूस, सूम। २ वह कसीस । (पु०) वत्स फन् । २ कुटज । ३ इन्द्रजी। नपुंसक जो अन्त पुरका रक्षक हो, खोजा। ४ निर्गुण्डी। वण्डा (स० स्त्री०) असती स्त्री, पुश्चली। वत्सकगुडिका (सं० स्त्री०) औपधभेद । वत् (सं० अव्य० ) दातीति वा उति। साम्य, समानता। वत्सकएटक (सं० पु०) पर्पटक, खेतपपडा। पर्याय-वा, यथा, तथा, एव, एवं । वत्सकफल (सं० क्ली० ) इन्द्रयव, इन्द्रजी । घरंस (स० पु० ) अवतंसयति अवतंस्यतेऽनेन वा इति वत्सकवीज (सं० क्ली०) वत्सकस्य वीज । इन्द्रजौ।