पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/५५६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


५६७ वनवन्नर-वनमानुप सुन्दर दिखाई परती ।। धारण यनया माला परन , मिझातको प्राप्त हुए है, कि इम पातिके पशु चतुष्पद परयनमाला हुए थे। ददर तथा मनपके मध्यस्पलमें मासन प्रहण कर सकता चनार (म. पु०) याचक बननुम्म । है।मगुपये माय न पायोंको अगुरिया परपर पृयफ धनवायरिका (स. स्त्री०) यनजान बज जातीय पत्र । पृथक रहती हैं। इस फालक साप मनुष्य पसार नाम, पनतुरमा। महा गुण सुगध, उण, क्तु । का तुरना करने पर दया जाता है कि मनुष्करी मपेक्षा यमित पिशाव पीर भूतन पय प्राण मतपण माना! इमर हाय तथा पायका गुलिया पर पाय छोटे, गया है। (रानिक) हाथ रम्य, पनरको पहिया नोचेको मोर मधिर वनवर्हिण (म0पु0) यग्य मयूर, बाली मोर। विस्तृत, कमरको हहा पती मौर रम्यो, पोपटी चिपटी पनवाहा (स.पु० ) जातिविशेष । तथा मुनो योर विस्तृत होती है। शरीरफ ऊपरी यावीश म.पु.) यनय यनोन्नयो पापीतो यौन । हिस्से में सिमाजाश काल मयफ फारसे बहुत पूरका यनबोजपूरक पहरा विजौरा नावू । मिलता जुरता है। इस प्रकार मस्थि-माधानका उश्य र पेशानियोंन हे मोरङ्ग सियाजी और यना (म • पु०) यनमा लान् । पनानपूर । गियों नामा तन म्पतम्न घेणाम यिमत किया। इस यनवास पूरक ( R० पु०) पनोभयो बाजपूर । मारपरजात। भोर और सिम्पानशेही हम लोगोंक दशम यनमानुप वासपूर, जगा विपीरा पायू । पयाय-यनन यनयोग, कते हैं। पनवाज अस्थाना गघाना, नोझा देवदूता, पोहा मलय द्वीप मापार्म माग उगन' दस पा देवदामी घेरा माविका पचनी, महायलाइम, मानुर मामा जाता है । इमलिय यदार अधिवासी द्विपद 41 गुण--भार बटु उा गरिद तथा पात माम | पारो पय पन्दाको तरहदाय पाय प्यमहारपारो गनुष्या दोरम, न मीर श्याम-NI (राज.) कार इम पम्प पशुश 'मोरग उराम' ५६ते हैं पय यनादिया (R० स० ) म भट याया हतपन, घोनिमो तथा सुमासा नापजामो मो इस मा सदमे स्या समाधागा उन्ले करते है। वार्म भरेश म्रमणकारियों के मा पनमु (२० पु०) यन मुदन इति यन भुन किए। प्रटमे यह भारतीय चापपुअतान माग देनी भाषाम शुपमीर । Orang Outang दम परिगृहीत हुमा। प्रान्तिर पा(मा .) यामयम् | । चिरिनियमने इम Sima jणीवा जीर ठरापा। पैहानिकार मामानम Ithecus पानिफे भन्दा पनभूपा(मस्त्री.) गोरा Cump Inteो एक गाथामाय। पनमयरा (म.46) यननिगुण्डा । पैमानित वन्दरणाफ शापोंको पातिक प्रभेदम पनमति (सपा) घनरूप मक्षिा '7 दाम माया नातिगत ता भतुमार जिस तरद विगिए यनारपा (मरना) सेवासा पापा या पल।। दरम विमन ति, उमा पर मशिन तानिता पनमाही (सपा) पनोमा मा, जगरी महा नाच दा जाता है। इस सारितासे बन्दरोंक मागे रामपुर (हि.पु.) पगात मय । २६गमामा1३ कांता पृथकना उस मामानीम ममम साते है। मगामामय मापद जयपिये। पर गोरिला भय बन्दर जानि ( Samundac ) प्रीम हात व पाप पार बदमे बहुत कुछ HिAITA NT E RT गिg / hirinar Hrbolatinac .Cololnne Papioninne उन्लक (Kochtion) (मान) (ल बन्द पापाता। गुरापमानितरपपिगा। Inापपार पक्ष-मतिको तथा दानादि मिशि) गोलिय(मधि) बरमानुए गोमरद पार पाइन मरी मनुष्य (Trolodrtes nigar) (Trganiln) |Interms) शनिक सय 44 साहरा निस्पा कर म: Kिerformer