पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/५९१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पुल। ५.३ वरणक-बरद यथाविधि वरण कर देनेके याद उसे का अधिकार शिरत। ५ घासका गट्ठर 1 फीलखाने भादिमेकी होना है, इसी कारण व्रतादिमें पुरोहित मादियो घरण | वह दीवार जादो लसाके हाथियों के बीच लडाईचाने- करना पड़ता है। ले लिपे बनाई जाती है। प्रतिनिधि वा उपयुक्त व्यक्तिनियोगका नाम ही वरण | वरण्डक (सं० पु०) वरण्ड स्वाथै संझायां वा कन् । है। जैसे राजपद पर वरण । इसी कारण माङ्गलिक | १ मातङ्गवेदि, हाथोकी पीठ पर कमा जानेवाला हीदा। कार्यादिमें नियुक्त व्यक्निके सम्मानार्थ कुछ माङ्गलिक २ युद्धमान दो गजोंको मध्यवर्तिनी भित्ति, दो लडाके द्रव्य द्वारा उसफो सम्वर्द्धना की जाती है। हाथियोंके वीचको दीवार । ३ यौवनकण्टक, मुंहासो । ५ वेष्टन ढकने या लपेटनेकी वस्तु । ६ पूजा, अर्चना, / (नि.) ४ वर्तेल, गोल । ५ विशाल, वड़ा । ६ भीत, सरकार । ७ प्राकार, किसी स्थानके चारों ओर घेरी डरा हुआ। ७ कृपण, कजस। हुई दीवार। ८ उग्द्र, ऊंट । ६ वरुणवृक्ष । १० सेतु, वरण्डा (स० स्त्री० ) वरण्ड टाप। १ सारिका. मेना। २ वर्ति, पत्ती। ३ शास्त्रभेद, फटारी। वरणक ( स० त्रिक) १ वरणकारी, वरण करनेवाला। वरण्डालु ( स० पु० ) वरण्ड एव आलुरल। एरण्डवृक्ष, (पु०)२ आच्छादन, आवरण । रेलोका पेस। वरणमाला (सं० स्त्री०) वरणाय वा माला। वरणन्नज, वरतनु (स० त्रि० १ सुन्दरी स्त्री। २ छन्दोमेद । वह पुष्पमाला जो वरणकं समय पहनाई जाती है। इसके प्रत्येक चरण में १२ अक्षर रहते हैं जिनमेंसे १, २, वरणसी ( स० स्त्री० ) वाराणमी। (शब्दरत्ना०) ३, ४, ६, ७, ८, ११वां अक्षर लघु और वाकी, समी गुरु वरणत्रज् ( मं० स्त्री०) वरणमाला। (राजतर० १०६१) होते हैं। चरणा-१ एक छोटी नदी । यह पक्षाय देशसे निकल कर वरतन्तु-एक प्राचीन ऋषिका नाम । सिन्धुनदमें दक्षिण ओरसे अटकको विपरीत दिशासे आ घरतिक्त (सं० पु०) व श्रेष्ठस्तिकस्तिकरसोयस्य । कर मिलती है। प्राचीन ग्रीक भागलिफोंने इसका १ कुटज, कोरया ।निम्बवृक्ष, नीमका पेड़। ३ पर्पट, Aornos नामसे उल्लेख किया है। २ एक छोटी नदी। | पापडा । ४ रोहितक, रोहनका पेड। यह कामोके उत्तरमें वहती है और वाराणसीक्षेत्रको उत्त- वरतिक्तिका (सं० स्त्री०) रतिक स्वार्थे फन् टाप मत रोय सीमा है। इस नदी में स्नान करनेसे ब्रह्म हत्यादि स्त्वं । पाठा। पाप दूर होते हैं। विष्णुके दाहिने पादसे असि नामक वरतीया (सं० स्त्री० ) नदीमेद । नदी निक्लो है, इसी कारण दोनों नदियाँ पुण्यवर्धिनी और पापनाशिनी मानी गई है। इन्हीं दोनों नदियोंका वरत्करी (म० स्त्री० ) रेणुका नामक गन्धद्ष्य । मध्यवती स्थान वाराणसी कहलाता है। इसके समान बरना (सं० स्त्री०) वियतेऽनेनेति य (वृश्चित् । उण ३१०७) पुण्य स्थान वर्ग, मर्त्य और रसातलमें दूसरा नहीं है। इति अवन टाप । १ हस्तिकक्ष-रज्जु, हाथी खोंचनेका (यामनपु: ६०) । रस्सा। पर्याय-चूपा, कक्ष्या, फक्षा । २ चर्मरज्जु, घरणा (सं० सी०) तुवरी, अरहर । चमडे का तसमा । ३ वरेत, बरेता। वरणीय (सं०नि० ) -अनीयर् । १ वरणके योग्य, जिसे | वरत्वच (सं० पु०) वरा हितकरी त्वचा यस्य.। निम्य- वरण किया जाय। २प्रार्थनीय. जिसे प्रार्थना की जाय।। वृक्ष, नीमका पेड़। ३ श्रेष्ट, वडा। उरद (सं०नि० ) वर ददातीति दा (थातोऽनुपसर्गति । पा घरण्ड (सं० पु०) वृणोतीति दृ ( भयडन कृसुभृ वृशः ।। २।३) इति क ! १भीएदाता, वर देनेवाला । पर्याय- उरण १।१२८) इति अएडन् । १ अण्डरावेदि; बरामदा । समर्द्धक, वांछितार्धद। २प्रसन्न । २ समूह। ३मुहरोगमेद, मुंहासा। ४ वंशीको डोर, वरद-१ विन्ध्यपावरियत शोणनद्तीरवती एक गएड-