पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/६०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोप-साम्राज्य ५७ इघर पम्पियास ट्रायो उत्तर इटलीम जोतने लगा। वितु युद्ध मेरापास इस परके लिये प्राणपणसे चेष्टा प्रबल युद्ध के बाद आपकालाम मगर पर अधिकार हो करने लगा | मिरा इसके उसने साल पिसियस गया। विपक्षियों के अधिकाशने हथियार छोड कर | स्फास नामक पर यषतृता कुशल और क्षमताशाली अधीनता स्वीकार कर ली। स समय रियाम। यत्तिको लूटी हुइ धन मतिका प्रलोभादे पर अपने मित्भेनास और पेपिरियस काया नाम दोनो ट्रिब्यूनने | पक्षम कर लिया। ऐसा पर यह अपने उद्देश्यमी सिद्धि 'पल शोटिया पपेरिया' नामक एक कानून याया।| का उपाय खोनने 7गा। सालपिसियसा मरायामको यह ८६ इसाके पूर्वको घटना है। इसमे जिम कारणसे मिथिडेटिक युद्ध में अधिनायकत्व प्रदान करनेके लिये पुद्धको उत्पत्ति हुइ थो, वह कारण दूर हुआओ। अतएव एक नया कानून बनाया। सेनेटके सदस्योंने इपको बहुतेरे विपक्ष रोमा दल में सा गये । इस युद्धर्म परलोका रोकनेके न्येि "जाष्टिशियम" घोषणा की। इसके मनु साम्रात नया मम्प्रदाय नि श हो गया! अतर्म ३ मार उस समय कोह कानूनी कार्य नियम विरुद्र कहा नातिया और १५ निभिन्न इटलीवासियो को रोमके जाता था। वितु सालपिमियस पर पूर्वक यह रद परमे साथ समान निराचन अधिकार मिग। इसके बाद पर उतारू हुआ। उसने अपने ३हजार अखकोडका सामनाइट और लुफानियोंने कुछ दिनो तक रोमके एक "एएटोसेनेट" दल कायम किया और यह इनके चिरद्धावाण दिया था। सामनियमके युद्धर्म सलाने ___ साहाय्यमे बलपूर्वक र सोको फोरमसे निकाल कर दोनोपी शक्ति क्षीण कर दी थी। इमा बाद मारे, अपनी अभीएसिद्धि पर उद्यत हुथा। पम्पियस भाग स्टोर रहनेवाले रोमकी प्रधानता म्वीकार पर एक गया। उमका पुव और सल्लाका दामाद कुएटम मारा मिल गये। गया। सल्लाने अपने फोरमके निफ्टपे मेरायासर्फ घर इस अतप्रियका त होने पर भी पूतिन पल्ह में दुफ कर अपनी जान बचाइ और प्राणके भयसे पूर्वोक्त सूब पर फिर वाद विवाद शेने लगा। स्याधिकार प्राप्त । "जाटिनियम' प्रत्याहार किया। . नया इसी सम्पदाय रोमक सदस्यो को पक्षपातिता सल्ला रोम छोड फर कम्पनियाके निक्ट नोला सौर निर्वाचन विषयमें अपने पक्षमें राजकीय शक्तिका | नामक स्थानम याग्थिा अपो सैन्यों के साथ मिल अलगान कर घोरतर प्रतिकार करने लगा। सदस्योका गया। इघर सलपिसियस और मेरायासने रोम पर घोर प्रतिद्धितासे सेनेटममाका म्प पदल गया | अधिकार फर लियो । मेरायास मिथिडेटिक युदमें था। साम्प्रदायिक वाद विवार, आपसमें शत्रुताभाव पन्सल नियुक्त हुया और उसने सल्लाके से यदलका गौर मामा चिरतन ममिद्ध और राज्यव्याप्त हदय | नेतृत्व प्रहण कर नोला प्रतिनिधि भेन । यह प्रतिनिधि भेदा मगपोडासे समूचा रोम पाडिनो केरुण मदनसे गोलार्गे सल्लाको फौजोंके चलाइ इ टोके टुकह से मर परिपरित हुमा । अधानाश और अमामायके कारण गया। अब सल्लाने अपनी फौजको रोमके विध प्रजासा होने रगो । रोमके इस कएने यहाकी सभा चलाया । इस तरह मादला फौजोक साथ रोम पर अधि ग्रणीने लोगो पर अपना प्रमाय जमाया था। । कार वरने चनगा। मेरायासने उसकी गतिमें बहुत सका | गृहयुद्ध (१८५६ इसके पू०) वटे डाली कि यह विफल हुना। अन्तमें सालाने इस गडवटाके दूर होते न होते मिथिडेटिमके विरुद्ध | रोम पर अधिकार कर लिया। मेरायास पुनके साथ हाइका घोषणा की गइ। म समय पएमके राजा भाग चला मल्लाने रोम पर अधिकार कर लिया सही ठे मिथिडेटिस या यूटरके साथ रोमका युद्ध अनि वितु रक्तपात लूट तरारन होने दी । सालपिसियरा घाम हो गया। पहलेको लडाइमें सलाने पैसा परामम अपने गुलामके विश्वासघातसे पाडा और मार और रणप्रतिमा दिवाइ थी, उसको देख कर ही सदाने | शाला गया। इस समयसे रोमका राजनैतिक घटनास्रोत उसको इस बार फसल नियुक् क्यिा (८८ इसा पू)। दूसरी प्रणालीसे प्रवाहित हुआ। इस समय अथात् Tola 16