पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/६४२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


वामग-पनि मरॉक आशारका पादा उत्पन्न हास यह पोधका । उसे विपर गधा यातादि योपोंग विगह जानेस जर पदलाता है। } यह दाना पराको मिमरा दते हैं तब रोगी दशा पर मोनर मोटा मोटा सिपा निकल भानसे | शदि क्षाण हो जाती है म रागो दुश्चन कहत है। या पारा बनाता है। । यहा कोल मारा पारोग है। पाप ममान गोगनप अपार (भारमाय नवरागाधि० ) रोग दगा। पदान पाका उरन होनेम उस परमार्श वहन । घोका नत्रपत्मगत रोग। (नपदय ३० म०) पर आदर माRET पद स शुका ह परविरपा (म० पु.) परमरोगविशेष यानी एक ना।। पलकों नप दाद मीर पा गम्नेव ममान । रोग । यत्म राग दसा। घेदनागुन पोमर और म.पदनायुत पासपोहा पगार रा ( स . रो०) पारागविरोर मार उत्पन्न दाताहत रोगा समेपलका छोटा छोरा मियाँक सहित __मम्ग पलों पर पुमियोंक होनमे यह पायर्ग पर पड़ा और की फुमा हो जाती है। E FIR है। परसरागमे दामों परयोम मा भाना घरसंस्था (म० खा० ) यगरोग मातnar रोग। तुन त पाना है और पांच नहीं गुटमा। यस्मापाम (R० पु०) पथका HTI दोनों पर मायुर मार ताम्रयण दोरमा पटनायु द (म.पु. मारोगा हममें पर म्मात् गहनान उम मिनराकाने हैं । घाम फ मदर एक गाठ उत्पान जातो। पहरेदी और हममें विक और रस प्रयोगसे भागों में भरा लार रग होता भार इस पाझा मा हासो। राता। पर हर घोर मानर पुण्टुयुक्त गायर्ण यारोध ( स० पु. ) घरगरोग। मदनापिलिट गया हिम्नमायाप न नाप होमेम यत (मलि०) मिधारयिमा निवारण परोवाला। शायरस माहर मारयेटनायु हो र उमा २प्रेरक, मेमनराग। उपास्त यात तिन दानमनिता शेनों ग य (म.नि.) १ निवारयिता निवारण करनेवाग। परता मी अमर नहीं करनये यापममें मर जात २रक्षाल, रक्षा तयारी ( 10 ) ३ प्रणारिया। रिमाप ITR गुलना , उस मपिग्नयर सिम परी(मो .) १ मजकी पत्ता ना गाहा होने मयमा पदना हो या पदनाहीन, यस्मग्विाल पर धान पार नाता11 परदा । प्रयुग निमेष मोर उम्मेपरहिस हो पय मोन म . यर (म० मा०) यस पनि पूरपति पद भन । मामा, मान ग िनदी गुदा साना दो उमे बाहय, nel मार famiशिम् पश्नायुया . मामा। (पु०) Tram | २प्राणपटिशा, मारगी। पनि रद होनम उपयरमायुर जिस - ३ पूमि, पूरण । ४ सराना कारना । मगीय मोर मम्पियन मिरन उगमारन पा पर (म.वि.) पते पनि य पर पूरक, पारा राम पुषित पाय घुमा दानाप , पाया। २ छेदन.पारनेगा। रता है, उस पुसिलद पर पनि (म.पु.) यम से हिनसोनि पर पग पर एR CREntert मिहान चापिता, पारपालि पनि मापा दाम्पा टि स्यश पटा 1 माग परिस, गण्डयुग पिपिएमपम PH काम परवाना। मारा परिमाप प्रगिग रम हानम ग ति (म.पु.) यईको यान्ति प्रापेनिगम जिम मे सिपाrathनि । यण मटर मातिपिप, 1 पपाप-पा म माना मार मर्म नम लिen नायक सपा, पार, रा, रयार, Terg HRI RE I ममान बहुत मवाद निनातक (PRENTI) lol