पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/६८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोम साम्राज्य ६५ युद्ध र मीमरने रोम साम्राज्यको उत्तरी मीमाको । से उसकी माझा पालन करनेकी प्रतिज्ञा की । यह टली बहुत दूर तक बढ़ा दिया। को उत्तरी सीमाको सविन नवीवो पार कर थोडे ईसाके ५४ वर्ष पहले प्रासस पापित राजाओंके , सैनियोंको ले इटलोकी ओर तेजीसे दौडा, सीजर साथ युद्ध करने के लिये मिरिया गया। किन्तु मूर्खता । विजय प्राप्त परते करते पिसेनामको पोछे छोह कपि पश २०००० रोम उनके हाथ पराजित हुप तथा मागे | नियाममें पहुचा। इसी स्थानमें पम्पोका सेनापति गपे। उनके क्टे शिर पापिय राजदरवारमें भेजे गपे। सदलबल पडा था। पम्पीका सेनापति महेनोवास, माससकी मृत्युसे पापी और सीजर रोमके अधिायक! पहुनर सेन के सदस्प और का प्रसिद्ध व्यक्ति पर थे। कुछ ही समयमें इन दोनों में परस्पर विद्वेष हो। लिये गये। सीजरने इन पर कोरताका ध्यपहार ही गया। सोजरको क्या और पानीकी पत्ती जुलियाको दिया। इससे मोजर पर साधारणसभाय गच्छा हो मृत्युसेका समय और भी क्षीण हो गया । समा, गया। के मु इसे सीजरको गल विजयी यात पपीको असख सीजरके पार चार जोतने पर पो तथा प्रजातनके हो गइ धी। इसके बाद पम्पी पिटेटरका पद प्राप्त प्रतिनिधि भयभीत हो किंकर्तव्यविमूढ हो गये। पर सार्थमीम माधिपत्य लाभ परनेकी चेष्टा परमे सध्या धनाधकारमें पम्पो रोम छोड कर भाग गया। लगा। भयसे यह खजानेसे धन तक लेना भूर गया। पसल, स समय घडा रापना केली । माइलोने कन्सल सनेटके महस्य और यहुतेरे पिण्यान मनुष्य मा पम्पोके हो पर डिपसको मार डाला। मोजरकी क्या ! साथ भागे। जानकी कमोसे सीजरने उन सोशी जुलिया पर जाने के बाद पप ने नटे उस सिपिओमा पीठान क्यिा। अन रोम छोप्टर को तीन महीने में पन्या फणिलिया विधाह किया । अपने श्वसुरको सीमरते सम्पूर्ण इटलीफे प्रदशों पर अधिकार कर लिया। शोध ही उसने कमल पद पर नियत किया । कि तु । अब सीजर रोमका सर्वोपरि स्वामी हो गया। केवल सोगरको क मल पदका प्रापी होना देख कर पम्पीने दिव्यून मेटरलासने उसके पवित्न धन भाएडारमें हर १. कानून बनाया। इसके अनुसार किमी भा पदफे किया था। सिवा इसके सीजर शीघ्र ही रोमा प्रार्थीको रोमर्म रह पर उसे पद प्रातिप्रार्थना परनी। तीय अधीश्वर हो गया। सीजर रेपिउस पर रोम रखा होगी। कोई भी निय विकी तारीखसे ५ वर्षसे अधिक का भार अर्पण कर तथा मटियसको फौजोंक साथ एक प्रदेश शासक न रह सकेगा। इसा समय सिपिओ इटी रक्षाका भार सौंप पर पम्पी पक्षक सेनापतियों में एक माझा प्रचारित को कि "सीजर अमुक दिनको पराजित करने के लिये स्पेन चला । उसने किडरियाली अपने पदसे इस्तेफा दाखिल न करेगा तो यह रोमफा| और भालेषियासको सिसिली और साहिनियाकी रक्षा शन समझा जायेगा ।" सेनेटन नव नियत करने लिये भेजा। इन दोनो ने अनायास ही दोनो परसरोंको डिफ्टेरकी क्षमता प्रदान की सही फितु स्थानो पर अधिकार कर लिया। इसके बाद ये पम्पी ट्रिब्यून भाएटोनियस और कासीमो इसके विरुद्ध पक्षाय सेनामी पर विजय प्राप्त करनेके लिये अफ्रिका माझा विवाद करने में रोमसे निकाले गये। इसके चले। कि तु विउरिमो पम्पीके सहयोगी मरेटनियरके बाद गुप्तरूपसे सोजरके पेमे जा कर उठने उससे राजा जुयाके हाथ मार डाला गया। सहायता मागा। फलत पिर एक धार गृह विवाद उठ घर सीजरने मसेरिया मा कर देखा, किया खडा हुमा। सेनेटने पम्पीको सेनापति बनाया। । अधिशासी अधीनता स्वीकार करने पर राजी नहीं हैं। गृहयुद्ध (ईसाके ४EW वर्ष पूर्ण )। इस समय सीजर ट्रेघोमियास और ग्रुटसको उक्त स्थान साजरने सेनेटमा दृढ सङ्कल्प देख सै य-समावेश पर घेरामालनेकी भाशा देकर ससै यम्पेन चला। पर उन सैयोका मत जानना चाहा 1 फौजोंने एक बाषय | पम्पीके दोगी लेफ्टिनेण्ट अमिनियास तथा पेटियासने Vol xx 17