पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/७०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोप साम्राज्य सीजर के प्रतिनिधि मण्टनाके यात्मश्लाघापूर्ण रान । हुइ थी, उससे यह मनमुटाव शीघ्र हा दूर हो गया। इस नीति अवलम्बन र रोमको प्राचीन शासनपद्धतिक तरह रोम-साम्राज्य नररक्तपातरूप कल कालिमासे मलय साधनमें आगे बढ़ जाने पर भी मिसिरो उसके | वच गया। प्रतिद्वद्धितावरणमें परारमुप ही हुमा । उसने इस सम्मेलनसे दोनोंको मित्रता दृढ हो गई। इस अदम्य उत्माहस अपना ओनस्थिती वपत्ता द्वारा सनेट पर आएग्नीन मभियानकी बहन अपरेभियाके साथ का पुनर्ग गठन करनेका प्रयास पाया। माधारण प्रजा विवाह कर आपसका सम्बन्ध और मो इद पर लिया। और प्रादेशिक मासक, प्राचीन नातिका पसपाता बनता ने आपमर्म रोम सानायको याट कर पर आएर नोके मरलम्बित शामन प्रथाका घोरतर प्रति | अलग अग शासन करना आरम्भ किया। माएनोने (याद करन गे। सेनेटभरनम या फोरममें सिसिरोका। रोम साम्रायका ममूचा पूना श अपने शासन कर यस्तता और साधारण प्रतिवाद उस प्रारित धरना लिया। भक्टेमियानको इटली और समप्र पश्चिमाञ्चलका स्रोतको दुमरी भोर किरा न मका। इस तरह दोनो। शामन मिठा मोर रेविडस अफिगये जीते हुए पक्षश राइ प्राय: एक पतक चलती रही। साके, प्रदेशको 7 पर हा शात रहन पर वाध्य हुआ। ४३ वर्ष पूर्ण फिर एक बार अन्तविठयकी सूच' अक्टेभियानने ३६ वर्ष इमाके पूर्व पिडामको मिलो। अफ्रिकास किमि याइ ( Circcu) प्रदेशमें निर्वासित एसरी प्रयम्बीर सामति ( ४३ २९ । पू) . कर दिया। मुण्डरनक्षेत्र में पराजित सफ्टस पम्पि इस चपके शरत्कारम आएरनी १७ लीजन सैन्य ल यास द्वारा गतुल धनरस्न पक्व कर रहाके लोगों पर इटली पर आक्रमण करनेका उद्योग करने लगा। सभा भयका कारण हुआ था। अफ्टेमियानने लेपिास इस यातासे डर गये। इस पर यपके अक्तूबर महीन । विजयसे छुट्टी पाते ही उसको समूल नए क्या। मा माएटनोन सेोटकी कारटीको नामस्तर पर सहयोगा। फे ३५ यप पूपिपियामको मृत्यु हो गह। उस समयसे लेपिडासकी महापतास बोस या छोटे भाइ अफ्ट । शामियान पश्चिम साम्राज्यभागा एमाल अधोयर भियानशे कसल मनोनीत किया और इस तरह हो गया। उसकी रानशक्तिक पएक म्यरूप दूसरा उमन दूसरी त्रयम्पीर समितिका स गटन किया। इससे कोई प्रतिद्वदी रहा । प्रजा-पक्षम भयका मात्रा अत्यधिक बढ गइ। इस शीन ही उसको भाएटनीको शक्तिपरीक्षाको सुयोग समितिका शासनकार्य मो वैमा होता न था। सार प्राप्त हुमा। मुम्बलालसासे लुब्ध पाएनोको स्वेच्छा की तरह यह समिति अपन सदुपदारसे प्रजासे, चारिता पमधीर अक्टेभियानक माके मुताबिक नहीं राजी नही रख सकी थी। पर सालाको ताह कठोर हुइ । इमाय ३२ वार पहरे आएग्मोन यमानुपिक अत्या शासन र साधारणको अप्रीनिमाजन वन गइ। इसप | चार और व्यभिचारस समाधारणक हृदय पर एक और पाद प्रेस विपशन जारी करके उन्होंन सिसिरो भादि । दापण चोट पर् याइ । उसने मिन्न सिदासनको समु मये दलफे लोगोंको पासा पर चदा कर अपना पक्ष सुहद जल परनवाली टलेकी कन्या घोराहना हि ओपेट्राके कर लिया। दूसरे पर्ण भएनी और माफ्टेभियानको | मन मुग्ध परोपाले रूप पर मुग्ध हो कर अपनी प्रियतमा सम्मिलित सेनाप साप फिरिपोर्म ग्रुटस् और फेसास पता मपटेभियाको परित्याग क्यिा। एक भोर आमाने का युर हुमा। इस युद्धर्म ग्रुटमकै चलाये प्रजातन्त्र मे पौरनपणमे प्रापका माराय प्रण प्रतिमा पास पसाय सेनादलये पराभव होम प्रजातन्त्रको प्राचीन की, दूसरा और घमे हा नि अघटेमियाफ अपमानसे पद्धति प्रतिष्ठाको रही सही माशा भी विलुप्त हो गई। । और दुापस उसक मार सफ्टेभियानक हृदयमें दाण इसाफे ४० या पूर्व उक्त दोनो विजयी मगानायो । प्रतिहि साग्नि मालित पर दी । अभियान अपने में मनमुराव हो गया। किन्तु ग्रामियामर्म जो सन्धि बहादसो उचित दार दनेष रिपे प्रस्नुहुभा।