पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/८७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


९४ रोम-साम्राज्य गया । इधर कनस्तान्सियास अपनी फौजोंके साथ पथ । विद्रोह और उस समयके जर्मन-युद्धने उसको विशेष पर्यटनमे अत्यधिक क्लान्त हो गया। दारुण परिश्रम रूपसे तंग कर दिये। शेपोक्त यु डके ग्नमय प्रेसवर्गके और दुश्चिन्ता निवन्धनले स्वास्थ्य भन होने पर मोप- अन्तर्गत वेगेसि यो नगरमे अपने लूटप्रिय सैनिकों को सुक्रोन नगरके ग्वेमेसे ही वह पीडित हो गया ! २४ वर्ण | विस्तार करने के समय मनके आवेगमें उसकी तिल्लो राजत्व नोग र ४५ वर्षकी अवस्थामें इसी रोगसे उस ! फट गई । इसीसे उसकी मृत्यु हो गई । यद्द ३७५ ई०की की मृत्यु हुई। मृत्युके पहले वह युवक जुलियानको घटना है । उस माई भालेन्स और तीन वर्ग तक सम्राट वना गया। प्राच्य सिंहासन पर बैठ कर सन् ३७८ ई०में गथ युद्धमें जुलियान राजसिंहासन पर बैठ कर सरकारी पराजित हो शतु के हाथ मारे गया। मामों में कितने ही संस्कारों में प्रवृत्त हुआ। यह पहलेकी भालेण्टिनियानकी मृत्युफे समय उसको ज्येष्ठ पुत्र तरह मूत्तिपूजक था। इससे ईसाई उसके शासनकालमै प्रेसियन द्भिस प्रामादमे था । वह राजपटका अधिकारी सपना विस्तार कर न सके। वह जेरुसलेमके प्राचीन था, पर सेनापति क्रेगेसिमोने रणक्षेतमें अपने सौतेले भाई मन्दिरको संस्कार कर पारस विजय करनेके लिये यागे । द्वितीय भालेण्टिनियनको राजा होनेकी घोषणा की। तब पढा । माओगा मालका किलेको ध्वंस करन के वाद । प्रोसियान चार वर्षके छोटे भाईको सौतेली माके तत्वाय' पारसवाले हताश होने पर भी रोमकोंकि विपक्षता- धान में मिलान नगरमे रग स्वयं आल्पसके बाहरके प्रटेगों चरण करनेसे वाज न आये। सन् ३६३ ई०की २६वो जुन पर शासन करनेके लिये चला । सन् ३७५ ३८३ ई० तक को जुलियान स्वयं युद्धक्षेत्रमे अवतीर्ण हुआ। विपक्षियों- प्रोसियानके ३७२-३६२ ई० तक भालेण्टियनमा और सन के चलाये ( वडगा ) यत्रसे वह मूच्छित हो गया । ३६४ २८७ ई० तक मालेन्सका राज्यकाल है । अनः २७५. संज्ञा प्राप्त होने पर छोडे पर चढ़ कर यह फिर यद्ध। २७८ ई. तक रोमजगत तीन समारों द्वारा कासित हुआ पारने चला । किन्तु डाकृरोंने उसकी मृत्यु निकट समझ था। मालेन्सके जीवन कालगे पूर्व भागमे रोमको उसके इस कामसे रोक दिया। मृत्यु-शय्या पर उसने का प्रभाव अक्ष पण था। उनकी मृत्युसे ही यथार्थ में दार्शनिकश्रेष्ट प्रिरकास और माक्सिमसके साथ 'मान्मा रोम-सानायक अध:पतनकी कलाना को जाती है। की प्रकृति' विषय पर विचार किया था। ___ गथ जातिके हाथले भालेन्सको मृत्यु होने के बाद पूर्व जुलियानकी मृत्युके वाद रोमीय सैन्यके अधिनता रोमराज्य उत्सन्नप्राय देख कर सम्राट ग्रासियान अपने धीर जोमियानने सेनाओंके आग्रहसे राजपद ग्रहण चाचाकी सहायताके लिये या उपस्थित हुआ। उसने किया। किन्तु उसको अधिक दिनों तक राज्यसुखभोग आते ही अपने चाचाकी मृत्युसे यथित हो कर भावी- करना न पड़ा। सन् ३६४ की १७वी फरवरीगो विपद्के निवारण करने के लिये वृटेन और गल विजेता अत्यधिक मद्य पीने और भोजन करनेसे उसका दादा निर्वासित पुत्र ओडिसियासको अधीश्वर बनाया। सन् स्ताना नगरमें मृत्यु हो गई । उसको मृत्युके वाद रोम ३९५ ई० तक प्रथम थिओडोसियास ही रोम साम्राजाका साम्राजा १० दिन तक खाली था। निर्वाचन क्रमसे एकमात्र अधीश्वर था। भालेण्टिनियनने २६ों परवरोको सम्राट पद प्राप्त आवोगाष्टस नामका एक सेनापति सन् ३६१ ई०में किया था। उसने उक्त वर्गक मार्च महीनेमे अपने भालेण्टियानको हत्या कर स्वयं यूजिनियास नाम रख भ्राता मालेन्सको कनस्तान्तिनोपोल राजधानीके साथ कर पश्चिम साम्राजाका अधीश्वर वन गया। राजप्राप- राजा भाग समर्पण किया और स्वयं मिलानमें रह कर हारक यूजिनियाको पराजित कर थियोडोसियास रोम- इलिरिकाम, इटली, गल आदि पश्चिमीय राजनों पर साम्राजाका एकमाल अधीश्वर हो गया। इसीने खप्टान- शासन करने लगे ! इस समय सन् ३६५ ई०के सितम्बर धर्मका अनुयायी हो कर मूर्तिपूजक धर्मका नाश किया महीने मे इलियानके निकर आत्मीय प्रोकोपियासके' था। सन् ३६५ ई० मे १७वीं जनवरीको मिलान नगरमे