पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/९२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोग साम्राज्य धोतर अगएसवी राजविधिपे परिवर्तनसे रोम | कहानी ही होगी कि ज्ञानगृद्धिदे साथ दुद्ध और सामाज्यमें गान्ति-राजा प्रतिष्टाताकी आग ममुदित होने नृशस प्रति रोमोंके हृदयमे कोमल और कमनीयताने पर भी यथार्थ में अराजश्ता भौर अत्याचारके सिधा आश्रय लिया था। यही उन और प्रचण्डप्रति रोमक और कुछ नहीं देखा जाता था। पयोंकि यहाका रानवश मश नरहत्याननित पापपट में दुवरिया लगा पर परम्परागत न था। चौरस्य प्रतिभासे रवप्रतिष्ठित अपनी आत्माको क्लपित करनेसे बाज आपे। घे भार्जिल, सेनानायकगण अधि स्थल में सम्राट पद निर्वाचित सिसरी आदिके शानगर्भ उपदेशीका अनुसरण कर भाव होते थे। कमी घे सके लोममे मामा तयनीय धना यौर भाषाशील नमें लगे । पित्तरी शातिके कारण म तानोंको मिसन पर धैठानेमें द्विरत्ति की परते | उसने अब युद्धविग्रहमें मन स्वराव वरना अनुचित सममा धे। राजसिहासनको इस तरह दुरवस्था देख अधीकर सिना इसके व्यवसाय वाणिज्यमें अतुल ऐश्वर्गसम्पन्न धनसामे स्वत हो ययेयाचारी 'Tyrint" हुए | होफर चे प्राच्यसमृद्धि हृदय में पोषण करते थे। सुप थे। परन् ये लूटने के लिये सदा युद्धविग्रह किया करते सम्पदुसे मत्त हो कर घे मालमी हो गये और इसलिये थे और उनक अधास्थ सेनामें भी राजा जातने पर धन धीरे धीरे जातीय उद्यममे हाथ धो लगे । रोमीय अपहरण करनेकी भाशामे उद्द,प्त हो परमाणपणसे युद्ध नगर वासियो को अपरिमित समृद्धिराशि देख कर वैदे कर धीग्ताको पराकाष्ठा निपानी थी। शिक वीरो ने धारदार उन स्थानोंका ध्वम किया था। रोमराजा रस निदारण आधिपत्यकामें टोइक, इसी भारस्यसग्लि, निमजिन क्षेने पर भी गल, टोनिष्ट, माकाडेमिक और इपिफ्यूरियास आदि । स्पेन, छूटेन यादि यूरोपीय प्रदेश शक्तिहीन नहीं हुए। विभिन्न दार्शनिक सम्प्रदायमा सभ्युदय हुआ था। फिर मा अधाक दास हो कर रोमफ जातिको गौरव रक्षा सनिप्सा और नादिमा तिलाक्षति देकर जीवात्मा | करने में समर्थ नहीं हुए । ऐतिहासिक गिाने लिखा है- को मङ्गलकामा गाति-सुखके उद्देश्यसे दौड रहे 'But though the tranquil and plentilal state of the Empire थे। ससारकी बडी मझगैसे अलग होकर उन्होंने राजा is felt and confee ed by the provincials as well as the Romans though the का त्याग पर दी और एक सम्राट मनोनीत कर latent causes of decar and corruption might उसके हाथ ममत्र साम्रा शासनमार सौर घे escape the eye of contempornries Net Ronme निश्चित मन शामी बच्चार्म समय विताने लगे। was gradually declining and slonh serging होइफ पेशपिकका तरह माणधिक और मौतिक towards dessolution A secret posson had सिद्धातमें ( Contemplation of ori nml matter ) | been introduced by the long peace and lethar मत्त राता था। प्लेटोका तिप्प सम्पदाय आत्माका | gic inactivity into the bonels of the Empire मविनमरता (Immortality) प्रतिपादन करनमें Military spint no longer existed the fire of मचेष्ठिन था। आकाडेगिक साध्यको तरह प्रत्ययीभूत enterprise was extinguished and the comman नगी घस्तुसत्ता म्वाकार 7 कर तर्थ और ding genius of Rome forsook the polluted habitations ofa luxurious and efliminate मोमासाफ मागरम गोता गाता ( Lost in Scep people The improrements of arts whilst theism) धा मोर एपिपि राय सम्पदायने चाया itrcined, had gndually erernated the coun मतानुसार परमेश्वरको पेशा शनि आरोप करनेमें मस्सों trr the splendour of their cattes cerrel only कार (Denied the prudence of a supreme poner) toallure the impending rapacity ot hirds nce कर दिया । शायिययनाय रानागोष' शामनकाल | of Darbarians विभिन्न मारदायक धर्ममन्दि में विविध सम्प्रदायके शानोनतिके साथ रोमराजायोंक हदय मा प्याति दिघे उपहारोंको रक्षाका चित प्रबन्ध था । अत यह मियताप्रमाय पट गया था। सम्राट शादियान और Vol, L1, 23