पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष विंशति भाग.djvu/९४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


रोम साम्राज्य और सुदर स्पेन राज्य पर अधिकार कर लिया। हतपाय एप ममय समुद्र के निकट था। समय पा कर समुद्के गेमा इसके साथ युद्ध में पराजित हुए । इसाइयों को भी इस पलिमय घेलाभूमिके निपटने मिाजालामुखी इस समय इनके हाथ वडा कष्ट भोगना पड़ा था। पर्वतफे अायुद्गम और गलित घातमनारसे परिय्याप्त हिम्मद और मुसलमाल देख । हो पर इधर उधर असमाज मारने फेफे हुए स्तूप मुसलमानी साम्राज्यर रिम्नारके माथ माय | राशिर्म समाच्छादित हो गया। पोले वही विमिन मरीफोंका प्राविमार हुआ। परोपा मुरेमानव मातरम्तरों में रूपान्तरित हो कर एक एक छोटे छोटे राजत्य समय अरवों मन् ७१' में वास्तान्तिो पदाडोंके रूपमें परिणत हो गया। इस तरह के क्तिने हो पोल पर घेरा डाला और ग्राम पर आक्रमण क्यिा! शे वरों और उसके सानुमय भूभागमें इतिहास स्थान म्यानम पलीफाये अपीनाथ शासनस्ता या प्रसिद्ध रोमनगरी प्रतिष्ठित हुइ थी। मेनापति स्वतन्त्र राजपाट स्थापित करन उगे ( लागो, प्राक्यिागो और रोमधे निकटया आरपान शैल इ०से १६० ३० तम) | देशन देखो इतना बडा रोमराय प्रेणी में स्निने ही चालामुसा मुह (Criters) दृष्टि खण्ड पाड मुमलमानी रायों में परिणतया। इसी । गोवर होता है। इन सा पर्वतामे अपेक्षायन आधुनिक ममय अधात् इम्बोसाका १०ी ताप्दोमै तुक नाति | युगमें मी दालुकादि और धातयनिम्बार बाहर हो रहा पडा प्रमानमा हुइ था। उन वीर्यसे गेम है। भूगर्मनिहित भग्न मृत्पात मोच्च धातुनिमित नष्ट भ्रष्ट और धीशन हो उठे। सारनुर ययीय तुर्क | शस्त्रादि, मनुष्यों की पुलिया उसके प्रमाण हैं। सरदार तपरल वेग और जाफर पारस जोत कर रोम नगरकी समान तीन भा!म विभक्त हैं-१ खलाफोंका सहायता करारगे। सरदार अल्पआर्स राइवर नीचे गाये किनारे अम्धित समतल बीर लामने यूनानको रानी युटोसियाको परास्त कर रापदण्ड । उपत्यका भूमि । यह समुद्रसैक्तन पलिमय प्रातरमे हाधर्म कर लिया और उक्त राना और सम्राट रोमानास परिपूर्ण है। २ उक्त समताशेनोपरि मानेय गिरितात हाइजेलिसा कैद र रिया (२०६४ इ०)। इसक शैलमय भूभाग और ३ दरावर नदोके दक्षिणी किनारेके बाद १०२ म मारिफ गाइने पशिपामादार और निघुन और भारिकन पचतमालाफे मध्यवत्तों सानु जेठमलाम पर अधिकार कर रिया। इसके बाद की मय समतल भूबएड। १३वी शताग्दीक शुरूमें मुगर-मरदार चड्रेन पान और प्राचीनतम काल में यह स्थान समुद्रगर्भम था। अमी अतम तैमूरलइने रोमसाम्रायको लूट पाट र नष्ट भ्रष्ट भी यहा उमफे बहुत नमो पाये जाते हैं। सुन्दर सोन पर दिया। इस दाद सन् १४४८२० तुक्क हाथ हरा बारकारेणु और मृदभाएड यानेवाली मट्टी उसके रोमसम्राट् कनस्ना ताइनकी मृयुक साथ साथ रोम | प्रमाण और उलेखनाय वस्तु है। RMATTEN अासान होने लगा। (पारम्प तुर। उपरोक्त तीन तरह आग्नेयस्तर (Volcanic पनस्तातिनोपर, सिरिया आदि दोमं पिय दृष्टय) deposits) गोर परिमय भूमि ( Alurtal d posity) रोम गिर मौर उसका प्रन्ननत्व। के मिरा धावताइन और पिद्विय रेलमाठामें एफ रोम नगर ही रोमसाम्राज्यवी प्रधाा राजधानी है। तरहके चूनेचे पत्थरमा स्सर विणा देना है। पूर्णपके अन्तर्गत पटरी राज्यम प्रमाहित साइवर नदीक ___ पालेटाइन शैरफे समीप गिन दोन अनिमय रत किनारे समुद्र बरसे प्रायः १४ मार पर भपस्थित है। वण भस्मराशि गिरि थी, सम्पयन एक धनमाला पर मा० ४१५३५२” ३० और देशा० १२२८४०१०।। गिरी होगी। कारण उस दग्ध भस्मराशि प्रदादम चिम राइवर पदाद दोनों शिलार कमोय निम्न पावत्य हित मोर दग्ध हो कर भीमडिया कोरलेम परिणत प्रदेश पर पह नगर स्थापित है। यहा भूनचरी थाली हो गई है। इस तरहके हुनरे नमूने दिनाइ देन हैं। इन चना पर देनेसे स्पष्ट मालूम होता है, कि यह स्थान | सब तूफा पर्वत स्थान स्थानम इस तरह पत्थर