पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/१२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


११८ . एहस्-महाकम्बु महस् ( सं० मो०) मह्यते पत्यतेऽनेनेति मह ( अत्यविच महाफएटफिनी (सं० सी० ) मदतो चासी काकिनी - मितमिनमोति। उग्ण २११७) इति असन् । १ ज्ञान । २ चेति कर्मधा। विन्यसारक, एक प्रकारका सोता . प्रकार। महाकएटा (सं० सी०) शेवन्तीयश, गुलाम । , ... - महस (म को०) माने पूज्यतेऽस्मिन्निति मह (सपं. महाकपहचक (सलो०) चमभेर। तन्तसार इस . धातुम्योऽमुन् । उपा ११८८) इति अमुन् । १ उत्सय । २ चकका वियरंण लिया है । मन्त्र लेते समय इस पसे । तेज । ३ या । ४ आनन्द, खुशी । ५ उदक, जल । (वि०)। मन्त्रका उपार कर लेना होता है। ६पूज्यमान, मादरणीय। ७ महन्, पड़ा। मन्त्र भौर अपर चा मो। : मामिल ( म०पु० ) तहसील वसूल करनेवाला, उगाहने महाफदम्य (सपु०) केलिफदम्य । घाला! महाकनकतेल ( सी०) शिरफे एक रोगका मेल। महसीर (दि० स्रो०) एक प्रकारको मछली । महासीर देखो। प्रस्तुन प्रणालो-कटुौल ४ सेर, धतूरेको पनियोका : . महसूल ( अ० पु० ) १ यह धन जो राजा या कोई अधिः ; रस ४ सेर, पुनर्पयाका रस ४ सेर, थाइरो पोका कारी किसी विशेष कार्य के लिये ले, फर। २ भाड़ा, रस ४ सेर, दशमूलका काढ़ा ४ सेर, पालिघाका रस किराया। मालगजारी. लगान। । सेर, यरुण छालका रस ४ सेर चूर्ण लिये सोड महसोन (सं० पु०) एक प्यक्तिका नाम। मरिच, सैन्धय, पुनर्णया, कर्कट , पीपर और .. मदस्वत् (स० लि. ) महस मतुप । १ भानन्दय क । २' पोपर प्रत्येक ४ तोला। नेल बनानेकी प्रणालीस स ." महत्, यहा । ३ जोतिविशिष्ट । (पु०) ४ राजभेद । । शोथ जाता रहता है। महा (सरली. ) मद्यते पूज्यने इति मह-घ-स्त्रिया टाप् । १ गोपयल्ली । २ नोगायि, गाय । ३ (त्रि०) गत्यन्त, महाकन्द (सं० पु० महाश्वासी कमश्चेति । १ रसो.. यहुन अधिक। ४ सर्वश्रेष्ठ, सबसे पढ़ कर । बहुत बड़ा, नक । २ मूलक । ३ चाणक्यमूलक। ४ लाल साउन । ५प्याज। भारी। ग्राहमण, पात्र, यात्रा, प्रस्थान, तैल और मांस इन शब्दों में 'महाद लगानेसे इन शहोंके अर्थ फुत्सित माकन्य ( स० पु०) पिमेद, एक प्रयरकार प्रषिका नाम । हो जाते हैं। महाकपाल (स.पु.) १ राक्षसभेद, पर दानयका महामरंम (हिं० वि०) यस शोर, यहुत हलचल। नाम।२गियावाभेद, गियके एक मनुघाका गाम । महामहि ( स०पु०) शेषनाग । महाकपि ( स० पु०) १ राजभेद । २गियके पफ मनु. महाई ( हिं० खो०)। मथने का काम । २ नीलको मधाई चरका नाम। ३ एफ बोधिसत्यका नाम । नोलके रंगको मथनेका काम। ३ मधनका भाय। ४ महाकपित्थ (स'. पु०) महागासी कपित्यश्चेति । mon Hisart मयनेकी मजदूरो। विवरक्ष, बेलका पेट। महारत (दि० पु०) महारत देती। महाकपिल पशराज-पक प्राचोग धर्मनग्य म्मा पु... महार ( दि० रनो०) महावर देखो। नन्दन और विट्ठल दीक्षितने इसका मन उar farti मक्षाकदूर ( पु.) बोकि अनुसार पक यन यही माकपोत (सं.९०) पीकर सर्पयिये, सभुग गनु. संख्या ! सार २६ प्रकारफे बहुत दी पिंपमर सपोमग कप्रकार महाकच्छ ( पु.) महार विपुला कच्छी जलमायो का सांप । इंगोऽस्य। १ समुद्र । २ यरण। ३पर्यत । ४ जन- महाकपाल ( पु.) गियानुगाभेद, निर एक भा. परभेद, एक प्राचीन देशका नाम । परका नाALL महाफटमो (सी .) मत कटभी। .. महाका (स.पु.) महान पर प्रीया पायशिग.