पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/१४२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


-१३० . महाजनीय-महानौठो यहां वही खाता लिखने में काम आती है। इसे मुड़िया जालश्चेति स अस्या अस्ति अर्श माधच, ततः डी . भी कहते हैं। १ पीतवर्ण घोपा, पोली सौंफ । २ आवर्तकी लता। महाजनीय ( नि.) वाणिज्योपयोगी, महाजन- ३ राजकोशातकी, घीया तरोई।। सम्पकीय। महाजिल ( स० पु०) १ महादेव । २ एक दैत्यका । महाजम्बीर (सं० पु०) वृहजम्बीर वृक्ष, कमला नींबू । नाम। महाजम्बु ( सं० स्त्री०) महती चासी जम्यश्चेति । महाशान (सं० ली०) परम ज्ञान । . . ' वृहजम्बु, वड़ा जामुन । महाशानगीता : स. स्त्री०) तन्त्रोक्त देवताभेद। . महाजम्बू (सं० स्त्री० ) महती चासौ जम्युश्चेति । वृह- महाशानयुता (स० स्त्री०) मनसादेवीका नामान्तर। ज्जम्बू, बड़े जामुनका गाछ। संस्कृत पर्याय-राज-! महाशानी (सं० त्रि०) १ साधु । २ भविष्याता, । जम्बू, स्वर्णमाता, महाफला, पिकमिया, कोकिलेटा, भविष्यको वातोंको जाननेवाला। (पु०) ३ शिय । महालीला, वृहत्फला। इसका गुण उष्ण, मधुररस, '! महाज्यैप्टी (सस्त्री०) महती चासौ ज्येष्ठो चेति । फपाय, श्रमनाशक, आस्यजड़तानाशक, स्वरकर, पूर्णिमाभेद । नक्षत्र विशेषादियुक्त ज्येष्ठकी पूर्णिमा विएम्भी, शोपशमन, भम और अतीसारखद्धक वास, तिथिमे विशेष विशेष नक्षत्रका योग होनेसे महाज्येष्ठो कफ तथा फासनाशक माना गया है। ( राजनि) होती है। तिथितत्त्वमें यह महाज्येष्ठो ५ प्रकारको . महाजम्भ (सं० पु०) शिवके एक अनुचरका नाम। यतलाई गई है। जैसे-- । महाजय (सं० पु०) १ नागभेद । (लि०) २ जयंशील, । । “ऐन्द्र गुरु शशीचैव प्राजापत्ये रविस्तथा । . पूर्णिमा गुमवारेगा महायाठी प्रकीर्तिता। जयी। (स्त्री० ) ३ दुर्गा। ऐन्द्र ज्येष्ठायां प्राजापत्ये रोहिगया।" (तिथित.) . महाजयराज-मध्यभारतका एक सामन्तराज । यदि ज्येष्ठ मासकी पूर्णिमा तिथिको ज्येष्ठा नक्षत्र में महाजल (सं० पु०) समुद्र। वृहस्पति पा चन्द्र तथा रोहिणी नक्षत्रमें रवि रहें तथा । महाजव (सं० पु०) महान् जवो वेगो यस्य । १ गवय, : " उस दिन यदि वृहस्पतिवार गड़े, अथवा नहीं भी पड़े नील गाय । २ शिकारी मृग । (त्रि०) ३ अतिधेगयुक्त, । तो भी महाज्येष्ठी होगी। “विना गुरुवारेणापि " . घेगवाला I (भागवत ७८२८) २। 'ऐन्द्र गुरु शशीचैव प्राजापत्ये रवि स्तथा । महाजवा (सं० स्त्री० ) १ एक नदीका नाम । २ कुमारकी । ___ पूर्णिमा ज्येष्ठमासस्य महाज्य ही प्रकीर्तिता।" अनुचरी एक मातृकाका नाम। अनुराधा नक्षत्रमें यदि वृहस्पतियार पा चन्द्र रहे और महाजाति (स० स्त्री०) महती जाति-रसया इति यद्वा रोहिणी नक्षत्रमें रविफे रहते रहते यदि ज्येष्ठो पूर्णिमा महती जातिरिव तदाकृतित्वात् । १ यासन्तीपुष्पलता। पड़ जाय तो भी महाज्यैष्ठी होगी । इसमें वृहस्पति. महती जातिरिति । २ श्रेष्ठवर्ण। । चारको मायश्यकता नहीं। महाजातीय ( स० वि० ) महत् ( प्रकारवचनजातीयर । पा! । ३। “ऐन्दे मंत्र यदा जीयस्तत् पञ्चदशके रविः। श६६) ततः (आन् महतः समानाधिकरणजातीययोः । पा ___पूर्णिमा सत्र चन्दश महाज्याठी प्रकीर्तिता ।" (तिषित०) । ६३४६) इति महत आफारादेश । महत् प्रकार यात | ___ ज्येष्ठा और मनुराधा नक्षत्र में घृहस्पति और उससे किस्मका। पन्द्रहये नक्षत्र में यदि रयि रहे तथा इन्द्र दैयत नक्षत्र, महाजानु ( स० पु०) १ महामारतके अनुसार ग्राह्मण.. चन्द्रमाके रहनेस यदि ज्येष्ठपूर्णिमा हो, तो उसे महा- भेद । २शिवके एक अनुचरका नाम । ज्य ष्ठी कहत हैं। महाजावाल (सल्लो०) पक उपनिपटुका नाम । । "ऐन्द्रह त्वयया मेरे गुरुचन्द्रौ यदा स्थिती महाजाली ( स० स्रो०) जालयति आच्छादयतीति | पूर्णिमा व्य मासस्य मदानी प्रकीर्तिता।" (तिपितत्व) .. जाल आच्छादने पचायच, स्त्रियां डीए, महांश्च सी' -..