पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/१६४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


___ पहाप्रमूत-महावन , पादोदका निर्मात्य नैपय विशेषतः। , महाप्रीतिदा (सं० लो०) तालिकों के मतानुसार , - महामसार इत्युक्त्या प्राय यियोः प्रयत्नतः ॥" .: देवताका नाम । . . (एकादशीत०) महाफणक (सं०:०) नागमे । . . . .. विष्णुफे पादोदक, निर्माल्य और नेययको महाप्रसाद महाफल (सं० पु०') महर पूजादी प्रशस्त पूज्य"या . पाहते हैं। फलमस्य । १ विल्यक्ष, येलका पेट २ नारिफेट पर २ जगनाथनीका चढ़ा हुमा भात'}. २ अतिशय } नारियलका गाछ । ३ तालपक्ष, ताहका पेट पोल प्रसन्नता। महान् प्रसादोऽस्य । ४ शिय। ५ मांस।। पृक्ष, पक फलदार पेक्षा नाम ! मह सालति। ६ अग्याध पदार्थ। (को०) ५यहत् फल। - - .. . ... .. . महाप्रमूत (सपु०) एक बहुत यही समयका नाम । "मोरियायेय देयानि दयाल्यानि दामा... महाप्रस्थान ( 'स' छो०) प्रस्थीयतेऽस्मिन्निति प्रस्था. अनगार पिप्राय यस्मै दप महान्तम् ". न्युट् । महत प्रस्थानं, महापधा तव गमनं. १ मही. पथ-गमन, शरीर त्यागनेकी इच्छासे हिमालयको गोर। महाफला (सं० खो०) पदपारणी। २.राममायु, पदा जाना । फलियुगमें यह निपिद्ध बतलाया गया है। जामुन। ३ फटुनुम्यो, छोटा कपा काए । ४ मा. फिसीको मरने की इच्छा होते हुए महाप्रस्थान नहीं करना कोशातकी, घोभा तरो। ५मधुर मातुला..फगन्दागीन् । चाहिये। मोहयशतः यदि कोई ऐसा करे, तो उसे ६ यनयोजपूरक । ७ नीलो, नोलका पौधा । र मागला, गुलसकरो। प्रायश्चित्त करना होगा। मक्षाफेज मां-गुजरातफे अधिपति सुलवान मंदमर "समुद्रपामास्वीकारः फमपडलुबिधारणम्। . बिगाहाके अधीनस्प महादापाद प्रदेशके एक फोदा। दिमानामगयम कन्यासूपयमनपा ॥ इनका प्रमत नाम जमाल-उदोन-शिलादार यां। सुलतान - देवरेण मुनोत्पत्तिमधुपर्फे पशोर्यधः । । २य मुजपार गौर बहादुर शाह के राज्यकालमें होने मांसादन तथा प्रादे पानमस्धारामन्तथा । पिशेष प्रतिष्ठा पाई थी। दत्तायारचय कन्यायाः पुननि परस्य च । महाफेजगाना~मुसलमानोंकी फरादरीका एक दीपकानं प्राचर्य नपमेधारसमे पकौ।। | यो पूर्णयी मुकदमेको मत्यों रहती है। . महामायानगमन गोग धग तथा म । मदाफेणा (सं० सी०) महती फणा । विजीर, समुफेम । इमान भमान फनिपुगे गानाहुर्मनीषिणः।" २फारल नामकी मछलीको कारा। ____(उदातत्य) | मदावनिज (सं० पु०) ग्रेष्ठ पयसायी, घटा तिमारली। २मरण, मौत। महायन्ध (सं० पु०) योगप्रकरणसे हाथ पांयका पधिमा । महामस्थानिक ( स० लि.) १ महामस्थान-सम्बन्धीय । | महावन्ध्या (सं० सी०.) विरवान्या रमणी, वांझ रहो। २ महाभारतका १७ पर्य। महावत (सं० पू०) गोदमें रहनेवाला एक प्रारंपार भाग मंदापाए पु० ) अतिशय सानो, बड़ा शागया । पर "....ोणा महापरिका (संमो०) भागों, परगी। स, महाबल (20 लो० ) महादतिशयित पर मामध्यममार महत् यलमस्पेति पा। सोसा, सासरा (५) २ पुर। पर गम नाम | . regenetri HTTERTAI TAITHILt: (मर r) .