पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/१९८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६ पदापसर -पहापान नकम् । १ भूनको एक तहको पूसा 1 गिग (नि.) मतायलगिन सा शोसी मुहि नया योनिपत.. ३ अतिगप यगोयुट, बदा यास्यो। पदमालिका पिपप निकर गोग: "रस ग मरना स्वर्गीक मागाः । राम महापान-मप्रदायको बोधिसरगान मामाले ___सनो ददर्ग गरम पुरीनाममरानीम् ॥" है। महरा पुलमार्गमेगाको मुमि मनिया:- (भारत ver) फिर कमी भी संसारका युग महों भोगना पड़ता। . " ( स न्द को एमाणका नाम सुमाचीन वैदिक युगमें देवयान मोरपियान मार.. महायशम -गोमिलोयधाम-कलामाध्यमे प्रणेता। रदो पारलौकिक गतिमा उन्लेगी भाग : मन्दनने इनका मन उनत किया है। | प्रकार जोपारमाफी देवलोक मा पिलर गrirat . महायस्क (म०वि०) माहन यमो यम्य, (शेपानिमा ६ अर्थात् फिस प्रकार ये परमपम शीर होने पड़ो १५४)रति ममामान्त कप् प्रत्ययः । अतिशय ! विषय उन दोनों पानमे लिया है। उसी प्रकार मोn . . यशोयिगिट, वसा यशस्यो। यौद युगमे महापान, हीनपान, राम्रपान और सपा, महायम (सं० वि०) १ महासलक। २ मशालौट्युन । फालगायान नाम मोर मी पाया .' मझायाया (स' ति०) महातीर्थको याना, कानीयाना। पात। यान भौर शिपान देगा। २ महामस्पान, मृत्यु। ___महायानगप प्रतिसस्याफे पूर्ण NिTA सोपा. महायाने (मो .) १ एक विद्यापरका माम | २ गृहर फे तीनं कायोशी कल्पना पर गपे हैं- धाकाय- यान, यष्टी सवारी। ३ प्रेष्ठ गाट, बड़ी बैलगाड़ी। निराकार मौर म्ययम्भू, ध्यामी, मारिया विरोवन महायान-योगसम्प्रदाय विशेष । शुद्धोदनफै पुन शापपयुद युदरूप । २ सम्मोगकाप~यागी पोधिस या मायन नियांणयादरूप प्राए मोक्षका उपाय जनसाधारणमें योर निर्मापाय-मागुण युद्ध मोर शिमोन मार प्रपतन कर गपे हैं। उनफे याद शिष्यों और अनुयायियों में | पथका मालम्बन कर मनुस्यगरीरमं पुररुप साम for मतभेद हो गया उसी मतभेदसे महायान मतको उत्पति । है, जैसे शाफ्यमुनि । पाल साहयका गाहमा कि पान या बोधिसत्यपानमे उसो प्रकार समसाधारण ____ महायान शब्दका मन मर्थ है धेष्ट याहन, गान् । उन्नति लिपेशिन तान या Trian. मेसर यह संसार और परलोकपालाका प्ररष्ट उपाय बतलाता धायफपान अर्थात् फVAPIL पुष्पा प am" . हामीसे इस सम्प्रदायका मत महापान गामसे प्रसिद दोडकप पान पर पढ़ कर भवनों को पार कर ग . हुमा। मनः महायान काइनेमे परागति हो समग्गों राप्रपेक पुरयान भाव मिपास! Eart 'जाती है । म परागतिफे उपायनिगम वारयतिगण युगपरिणी पाग पर गपमा पाल महायांनी या महायानमग्नवागमुन कहलाते हैं। ६ भोर ३० वोचिस्यान-~ifa द्वयों पर ! माचीन मर्यात् गाफ्ययुसमयसित मादिम पोस प, कर भपसमुद्र मानeral Rो मार रक्षा पत्नयान् गौसमम्मदाय पं.यात सांगारंगिरत पूति मोदनाना पार कामे मम भापकों को हो मागमुकिलाम अधिकारी बतलाते हैं। दोने है। पपाय भागालो में भी माहा . समसको विभ्यास करनेवाले पनिमारही मागे पता महापानका बाप। लोकमान दोनपान प्रापर. जिगहोंने गु ण ' न' मा एना. ज. Rur iriratri मा lasirfe परदेशी मार FIRE' भनी हा! 'मही मोकार महापानापा H ETA विगो मोही गुणों को REE RAI AM Afittinki nagram RETIRTHATA.