पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/२७२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पारा माता जा मुमरमान गासनका प्रमाण ता; आदि विषय मर mamt. norgana, गहा भार मम हिन्दूमो को भूतो कोसने लगी उममे विपिन पर बड़ी ही मामी ritnet प्रमानमानसमाजफे गधिनापाप मिग्न हो गये हैं। हम मपाना पुरफे विना पो जिन दिलोभ्यायो प्रनापसे एक दिन सारा मारगयर गारी मंशा इम कारण को गति . कप उठा था, जिनसे मादेनमें महाराष्ट्रपति सम्माजी भी उठा। किन्तु मुसलमाम मांग उम मांध जोगा निहत भार इनपुर शाह परियार समेत बन्दी दुप.पं. स्पस्य मांगने लगे, उसे महायो नि कारगम, महागुन परिपन में उन्हों. मगरों को गैयार म हुए। उमपोर मापमान द्वारा it- आज मादठों पे. हाका मिटीना देश उनके परिवारको परि यदि मात्र कुरा भोग मान परमार मोमा म रही। ये लोग महाराप्रमनिकी मयंमासिनी। समपंद कर इसे और पारी मोककर मार मूतितो देश फर यान पर गये। पारी उन्हों में मारमा मागुनमें पति साफे लिये उनमें मेल करना ही अच्छा सममा। पर पर फमक (महाराष्ट्रीय परमे नाjun भीतर ही भीतर उगरी यिम्स कारवाई भी करने रहें। दस्माक्षर और सम्मति नहीं Mi Mir Tara अमगाद भवदालोके पास मारनय पर माममण तो शो, सो भारतका निदाम त गोटेदिमा फरनेके लिये उन्होंने चुपके निमवण-पत्र भेजा। पाद: । म माप सिं धारण करता या नहीं । fry . मासी समापनको कुराकांसाने फिरसे उगो. चित्तन पर नया सबका माकिस्मोला. अधिकार समागा। पोरदो दिनों के मध्य कुमार सितम माप धर्म (गुvिigr) Frमिमें यिस्त ममग्माणमें महमदनाद, मोर ग रोदिला. पदापंग करने से मनुफा मरो' FIRRIमाँ. गुमाउदीला, फुनुपमाद, माद मग, गुन्दे गा मादि प्रति शिदंप पर गया , ramtire रोहिला, पठान और दुर्रानी-मरदारगण अपनी अपनी प्रस्ताप पर सहमत नहीं हुए। TUE, गुर मार गनुरलिपी मेगाफ साय युसार्थ उतर परे। पापं हो उठा। १०१ प्रारम पाArt ____मरहठोंने नौ यिपुरयादिनाफे साथ उनका मुकापला सम महाभयको पूजाति माRiter: किया। दोनों तरफसे प्रापाटा नाग पीरपुलमाल साम्राrant Institute भागाका निर्णय करनेसे लिपे ममरमाणमें उचित हो गई। हुए।दुरका विस्य , शि.राजपूताने दिराडे मर गुदरबार गुमलमामा irr Hurtcre हीको पादती पर कारण उन्होंने उनका पारोकाया प. TRA REHAB . माग न ये कर • द्वारा हो मा होने TRE writ, ५ पrm