पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/२८९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


. पहारो-महालय . २५७ अनारका बीज, देवदार, पुनर्णया, ग्यालककड़ीका मूल, | महायंक (स'. लि. ) अतिशय मूल्यवान् , घेशी दामका । यवक्षार, कुट, विड़ा, चितामूल, हवूपा, वय और पच महार्थयत् । स० वि०) महार्य भस्टया मतुप मस्य च । प्रत्येक २ तोला ; पाकका जल १६ सेर। मात्रा २से ३ महार्थ युक्त, जिसका गूढ़ अर्थ हो। तोला, अनुपान मांसफा जूस और दूध बतलाया गया | महाक ( स० क्लो०) महद भाद्र फम्। १ बनाक, है। इसके सेवनसे यकृत्, लोहा आदि नाना प्रकारके रोग जंगली अदरक । इसका गुण अग्नि, दीपन, धारक, सक्ष, शान्त होते हैं। (भैषज्यरत्ना० प्लीहारोगाधिक) घायु और कफनाशक माना गया है। २ शुण्ठी, सोंठ। महारौद्र ( स० पु०) १ अत्यन्त रोद्र, कड़ी धूप । २. महार्य (स० पु०) महान् विपुलोऽोऽस्य । पृक्ष- 'शिव, महादेव । ३ पाईस मानाओंके छन्दों की संख्या । . विशेष। महारौद्री (सं० स्त्री०) दुर्गा । 'महायुद (स० क्लो०) महद् मयुदम् । दशायुद, सौ महारीरच (सं० पु.) यरूणामय इति रुरु-अण, महान् ' करोड़ या दश भयुदकी संख्या । रौरवः तत्र गता जीवाः काव्यन् नामक हरुभिः पीड्यन्त महा (सफ्लो) महान महः मूल्य मर्यादा यस्य । अतएवास्य तथात्वं । नरकविशेष । जो इस नरकर्म पतित १श्वतचन्दन, सफेद चन्दन । (नि.)२ महामूलपयान, होते हैं उन्हें क्रयाद नामक रुरु (कुषकुर ) गण अत्यन्त शकिमती। ३ महापूजा योग्य। पीड़ा देते है इसलिये इस नरकका नाम महारीरय पड़ा। "यस्माभागार्थिनो भागान नाकल्पयत मे मुराः । है। अग्निपुराणमें लिखा है, कि जो लोग देवताओंका घरामाणि महाहाणि घनुपा शातयामि वः ।।" • धन चुराते या गुरुकी पत्नोके साथ गमन करते हैं, वे ही ( रामायण श६६१०) इस नरकमे भेजे जाते हैं। (अमिपु०) महाल (अ० पु.) १ यह स्थान जहां बहुत-से बड़े मकान २ सामभेद। हों, मुहला । २ भाग, पहा । ३ वन्दोवस्तके फामके महारोहिण (सं० पु०) दानवमेद । लिपे किया हुआ जमोनका एक विभाग, जिसमें कई महाध (सं० त्रि०) महान अधिकः अर्को मूल्यमस्य ।१ गांव होते हैं। महामूल्य, बेशकीमती । (पु०) महान् अर्को मूल्य यस्य। महालक्ष्मी (सखा०) १ महता लक्ष्मी राधा, नारा. यणको शक्ति। २ जिसका मूल्य ठीकसे अधिक हो, महगा। ३ महा- सोम लता। ४ लायकपक्षी। 'यन्मायया माहिताभ नाविष्णुशिरादयः । महाघता (सं० स्त्री०) महायं स्य भायः तल टाप । महा- वष्यवास्ता महासम्मी पराराधो दन्ति ते । मूल्यत्व, महामूल्यका भाव वा धर्म । यदर्दाना महाप्नदमोः प्रिया नारायणस्य च ॥" महाध्य (स .) १ महामूल्य, पड़े मोलका । (पु.), (ब्राय पर्तपु० प्र० ०० ५१ .) २ लावकजातीय पक्षिविशेष । २पक यणिकस जिसके प्रत्येक वरणने तीन महाधिस (सपु० ) महद अश्चियस्य । अग्नि। रगण होते हैं। महार्णव ( स० पु०) महान् सुविशाल अगवः । १ महा- महालक्ष्मीपुर-प्राचीन मगरमेव । समुद्र, बहुत बड़ा समुद्ध। महान् प्रणय इव प्रसादादि- महालय-राणवर्णित रौद्रतीर्थमेर । यहां देवादिदेय गुणयाल्पात् तदात्यं । २ शिव, महादेव । ३ पुराणा- महादेयके उद्देश्यसे स्नान और पूनादि करनेसे सब पाप नुसार एक दैत्य जिसे भगवान्ने फूर्म अवतारमै अपने जाता रहता है। स्कन्दपुराणके महालय-जाहारम्पमें दाहिने पैरसं उत्पन्न किया था। इसका विस्तृत विवरण लिखा है। . "सौराया दरदा चैय द्राविड़ाय महार्णवाः । महालय ( स० पु० ) मद्दतां जैनानामालया, महान गालय एते जनपदाः पाद स्थिता ये दविरोऽपरे ।" इति था। १ विहार । २तीयं । ३ परमात्मा ४ (मार्कपडेयपु० ५८३२) आश्विनका कृष्णपक्ष जिसमें पितरोंके लिये तर्पण और महार्थ (संपु०) १ दानवभेद । २ महामाव्य । श्राद्ध आदि किया जाना है। Vol. xv'1, 65