पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/३१२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


• पहाइय--पहिंधर २ तक्षककी जातिका एक प्रकारका सांप । ३ दानवभेद, । महाहेतु (सं० पु०) एक बहुत बड़ी संख्याको नाम । • एक दानवका नाम । (नि.) ४ घृहत् हनुयुक्त, बड़ी महाह (संपु०) मध्याह्न ! . दाढ़ीवाला। महाहद (सं० पु०) १ वृहद् पुष्करिणी, बड़ा तालाव । महाहप ( स० पु०) १ राजभेद, एक राजाका नाम। २/ २ एक तीर्थका नाम । ३ शिव, महादेव । महान् अश्व, वड़ा घोड़ा। महाहस्य (सं० पु०) मध्याह, दोपहर । महाहय ( स० को०) राजप्रासाद । महाहस्वा (संलि०) अति खर्व, बहुत छोरा। महाहव (सं० पु०) महान् आयः। घोरतरयुद्ध, घमा- | महाहस्वा (सं० स्त्री०) कपिकच्छु, फेयांच। . . सान लड़ाई। महि (स' पु०) मयते इति मह पूजायां अदन्त पुरादि, महाहविस् (सं० ली०) महत् प्रशस्तं हविः। १ गया (सर्वधातुभ्य हुन् । उण ४३११३ ) इदि हन् । १ घृत, गायका घो। सब घोसे गायका घी प्रशस्त और पृथ्वी। २ महत्, घड़ा। ३ महिए। ४ महत्तत्व, विज्ञान-शक्ति । "गयायामथवा पिपडं खडगमोसं महाहविः। महिका (सं० स्त्री० ) मह ( क न शिल्पिसंशयोरपूर्वस्यापि । कालशाकं तिप्लाज्यं वा कृशरं मासतृप्तये ॥" उण २।३२) इति पत्रुन् टाप, अत इत्यं । हिम, बर्फ। (मार्क०३० ३२॥३३) महिक्षत्र (सं० वि०) १ यड़ा पराक्राशालो। (पु०) २विष्णु। ३ महान्ति हवीपि अन । ३ वृहद् याग- २ प्रभूत वल, खूब जोर। विशेष, शाकमेध यज्ञ । महिख (सं० पु०) महिष देखो। "अधाता महाहविष एवं तद्यथा महाविषस्तथो तस्य।" महिखरी ( हिं० स्त्रो०) अठाईस मात्राओं के एक छन्दको (शत०या० २।५।३।२०) । नाम। इसमें चौदह माताओं पर यति होती है। महाहस्त (से० पु०) १ शिव, महादेव । (त्रि०)२ महिला (स.पु.) चूहा। . वृहद हस्तयुक्त, जिसके लम्बे लम्बे हाथ हो। " महित (स० वि० ) मह्यते स्मेति मह पूजायां (गतिबुद्धि- महाहस्तिन् (सं० वि०) वृहद् हस्तयुक्त, लम्दा हाथ- पूजार्थेभ्यश्च । पा ३।२।१८८) इति क्त । १ पूजित । २ पितृ याला। गणविशेष। महाहस्ती (सं०नि०) महाहस्तिन देखो। महिता (सं. स्त्री० ) १ नदोभेद, एक नदीका नाम । २ महाहास (सपु०) महान् उच्चहासः । अट्टहास, जोरसे | महत्व, महिमा । उठा कर हंसना। महाहि ( स० पु०) महान् अहिः। पृहत् सर्प, वासुकि "सख्युः सखेन पितृवत् तनयस्य सर्व। संहे महान महितया कुमतेरप मे ॥". . महाहिका (स. स्त्री० ) महती हिका। एक प्रकारका (भाग० १।१५।१६) हिचकी रोग। इसमें हिचकी आनेके समय सारा शरीर) महिती (सं० स्त्री० ) ऋग्वेदका १०।१५६ सूक्तका मन्त्र- • कांप उठता है और मर्म-स्थानमें वेदना होती है। मेद। हिका शब्द देखो। महित्य (सं० लो०) प्रभुत्व, प्रभुना। महाहिमवत् ( सं० पु०) महाहिम अस्त्यर्थे मतुप मस्य महित्वन (सं०सी०) महत्व, महिमा । व। हिमालय पहाड़। महिदास (सं० पु०) इतराके एक पुत्र का नाम । महाहिवलय (सं० वि०) महासपं द्वारा वेष्टित, बड़े बड़े महीदाग देता। सांपोंसे घिरा हुआ। महिदेव (सपु०) ब्राह्मण । महाहिशयन (सं० क्ली०) विष्णुको अनन्तशय्या।। महिधर (स.पु०) महीधर देखी।