पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/४०६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मातृकामह-मानगुन । कोडा किया, किया जाए, यह गहन विचारने पर मो राजा निरिण

  • R ( Regs ) पर समकारको कोड़ा।

म.१ पुरु) मातले सुन्ने गाद पुवनेर : नहीं कर सके। । गातोति गरमा। मानुन्य माना एक दिन बीतकालकी रानमें एक पाराको मातगण (एशिरो परिकर मदद। यो। उसी ममप सहसा रामाको निहा उमर गई। WAIRA सस्मोलान्। घरक दीपकोंका प्रकान सीन दो पक्षपा का सैकस सिन किाकी अपने नौकरोंको बाहर युनाया, किन्तु कोई भी गहों माया। कारण घे नयफे मर सो रहे थे। उसी समय बादरसे उत्तर मापा, 'महाराज! मैं मानगुन परि गामा हो तो गोतर डा। राजाने उनको भगर Free निकामिनि के साथ युला लिया। राजाको माला उन्होंने दोराको गजा प्रम्मलित किया। मात गुप्त यहांका काम करके बाहर rem-को हलो निकले मा रहे थे, उमी ममा राजाने उनसे टरको संस्थाका युएल कहा। मान गुन ठहर गये। राजाने पूछा, दोन है?' मात गुमने उार दिया, एक पातुर । राजाने कर R) पूछा, रातको नुदे गिना श्यों नहीं पाती। उत्तम , बात गुमने कहा, 'महाराज! मैं पहिनता नक कथा इस रोक में अग्निमेगनफे द्वारा समय रिता रहा। मेरा मगर . . शिथिल धोर. परगरा गा है। भूमकं मारे गोली .. मह निकलगी। मैं घिन्ता मागे टप हामी : कारण निद्रा प्रमानित दयिताप. समान मुरको गोड नामकर यादी चन्दी गां और मरणावमा गम्पर्क ममान 1 रासिका भी गत नही होगा।' पर सुन र रामानं मेमरंत उन सम्ययाय ने विदा किया | रासा मांगने मगे,fr. कार! इनकोपा उमा समय उ रण दुमा मा बारमार रायका मिहासग इस समय गुमा पाई TATE को मनाने गये थे। नहीं निकलगी। WHEATRA देवको प्रशंमा सुन ! ३ र आदरसे मान गुर। फर यादी चली। सभा रहने सगे रातिका RAKg महामासे मरंत राम लामो शिम मार. इनकी - रमतोमासे मार PREमरान । म्यगि कामा ___ H ARE हममें राजा ने महाप! S .. . मांगी है,गगापि पारापहों ही देगा उगम पर 1 मोम पर राजा मदत कागार मम्बियों के पास तर भेगा। it fiem पा, 'मान गुन मामा समाप!: ममासम से बगा। मग गदी भरना गा मानना को मंत्र पर माम aanw! मी रामपं. मामा . यापि पर मोहपा। प्रा हो पर Amit wrm. . गुमामो माister गोरा हाम को . " .