पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/५३०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मार-मार्गव . . . . लिया गया। पीछे १४०२६०में लिसंयनमें इसका प्रचार , मार्गणता (सं० स्त्री०) १ मार्गण या धानका भाव । २ . ' हुमा । फरासी देशमें १५५६ ई०को इसका प्रथम संस्क- याचकता । .. ... . .. रण निकाला गया। . . . .... मार्गतोरण ( सं० . क्लो०) --पथपा में स्थापित तोरण, मार्कर (सपु०) भृङ्गराज, मंगरैया। . . . . बाहरो फाटक। ..., :) . . . . ... माय (स' पु०) मर्याति केशरञ्जनायं गच्छतीति मकया, मार्गद (सं० पु०.) केवर ।। .::. :::., ; : : मर्फे सर्प नाम्नीति अवः निपातना वृद्धिः। भृङ्गराज, मार्गदायिनो (सं० स्त्रो०)-१ केदारस्य दाक्षायणो । २ मंगरैया (भावप्रकाश) पथ दिखानेवाली। . .:. ::.:.: मार्का ( अ० पु० ) संकेत, कोई अंक या चिंह जो किसी MILal : मार्गदुम (सं० पु०.) पथपायस्थ वृक्ष, रास्ताकी वगलफा विशेष वातका सूचक हो । . :. . .: :पेड़...::..:: .. .. . मार्केट (अ'० पु० ) बाजार, हाट। .... मार्ग (सपुर) मार्यते संस्क्रियते पादेन मृग्यते गमनाय मागेधनु (स० पु०).मार्गस्य धेनुः परिमाण । एक योजन का परिमाण, .:. . .. ... . अन्यिप्यते इति वा मार्ग.वा मृग धम् । पन्था, रास्ता । मार्गधेनुक (सं० लो०) मार्गधेनु स्वाथै फन् । योजन। 'त्रिंशद्ध पि विस्तीर्णो देशमार्गस्तु तैः कृतः। मार्गप (सं० पु० ) राजकर्मचारिभेइ. राज्यको यह, कर्मः । विशद्धनुर्माममार्गः सीमामार्गो दशैव तु ॥ ... चारो जो मार्गों का निरीक्षण करता हो। इसे अगरेजीमें धनू पि दश विस्तीर्णः श्रीमान राजपथः स्मृतः ॥". Road-inspector कहते है। , (देवीपुराण) . ., .. मार्गपति (सं० पु.) मार्गप देखो। .... "तीस धनुका देशमार्ग, योस धनुका' प्रांमः मार्गपाली (सं० स्त्रो०) मार्ग पालयति हिनेभ्यः रक्षतीति मार्ग, दश . धनुका सीमामार्ग और दंश धनुका पाल-शव, गौरादित्वात् डोषु । स्तम्भ, खंभा । राजमार्ग बनाना चाहिये। चार हाथकी एक धन होता! तोऽपराहसमये पूर्वस्यां दिशि नारद । है। २ गुदा, पायु' । ३ मृगभद कस्तूरो। ४ मार्गशीर्ष- म . भाग पाली प्रवनीया गस्तम्भे च पादप ...' मास, अगहनका महीना । ५ अन्येपण, खोज (पद्मपु० उत्त० १२४ भ०) शिरा नक्षत्र । ७ विष्णु ! ८ रक्तापामार्ग, लाल चिचडा। मार्गबन्धन (सं० पी०) पंधरोध, रास्ता रोकना । मृगस्पेटं मृग-अण । (नि) : मुगसम्बन्धो। मार्गमाण (सं० पु०) खोजा, नपुंसक व्यक्तिी ' . सदय समिनं तात ! सदैव पितृ-कर्मणि। .... मार्गमित्र (सं० पु. ) सहपात्रो, साथ जानेवाला ।' मार्गमाविकमौष्ट्रय सर्वमेकशपञ्च तत : . मार्गरक्षक (सं० पु०) परिक्षक, पहरायाला । . मार्गरोधिन् ( स० वि०) पथरोधक, रास्ता रोकनयाला । मार्गक (सं० पु०) मागं स्थायें कन । १ अप्रहायण मास, मार्गय (सं० पु०) वर्णसंडूर जातिविशेष। इसको अगहनका महीना। २ मार्ग देखो। .. . । मार्गण (सं० ली०) माग्य ते अन्विध्यत इति मार्ग भावे | जाती है। . . . . . ल्युट । १ अन्वेषण, दना। पर्याय-सम्यीक्षण, विचयन, निपादो मार्ग व गते दाश नौकर्मजीविना . मृगणा, मृग। २ याचा , परीक्षा करना। ३ प्रणय, वर्तमिति य 'प्रारार्यावनिवासिनः" . प्रार्थना । (पु०) ४ याचक, भिरतमंगा। ५ शर, याण । | . :. .. . ... .... (नु १०३४) . ते सर्व हठधन्वानः संयुगेध्यपालायिनः । "बामणेन शूद्रायां जातो निषादः प्रागुका, प्रतापामापो. बहुधा भीममानलमार्गः कृतमार्ग " . गल्या मार्ग दानापरमानो नौव्यवहारजीयिन सायसि ". , (मारत ॥११॥) मार्गणक (सं००) मार्गण साय फन् । याचक, भिख. इस जातिका दूसरा नाम दाम भी है। ये लोग माय मंगा।' .. से कर अपनी जीविका चलाते हैं। .. .. . | उत्पत्ति