पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६१५

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मिट्टी-मिण्टो और जिसके ऊपर काले रंगकी वित्तियां होती हैं। । फुछ मासिक रुपये निर्दिष्ट कर दिये और पारितोषिक हो.( हि स्त्री० ) पृथ्वी, भूमि। | स्वरूप मान्यसूचक खाँ बहादुरकी उपाधि दी । अश्य.. विशेष विवरण मतिका शब्दमें देखो। । सजा और वाणिज्यके लिये यह स्थान प्रसिद्ध है । हीका तेल: (हिं पु०) एक प्रसिद्ध ज्यलनशील, मिठानकोट-पावप्रदेशके देरा गाजी खां जिलान्तर्गत एफ: चनिज पदार्थ। इसका - व्यवहार प्रायः सारे संसारमें : नगर। यह अक्षा० २८.५७ उ० तशादेशा० ७०२२ दीपक भादिज लाने और प्रकाश करने के लिये होता है। पू०के मध्य अवस्थित है। जनसंख्या साढ़े तीन हजार.. विशेष विवरण मृत्तिज तेलमें देखो। के लगभग है। पहले इस नगरमें असिष्टाएट कमिश्नर ट्ठीका फूल ( हिं०.पु..) मिट्टो या जमीनके ऊपर जम- रहते थे । १८६२ ई०को सिन्धु नदीमें जव । भयानक जानेवाला एक प्रकारका क्षार। इसका व्यवहार कपड़ा. बाढ़ आई, उस समय यह नगर गर्भशायी हो गया था। योने और शीशा., बनाने में होता है। इसे रेह भी पीछे नदी तटसे ५ मीलकी दूरी पर नया नगर बसाया . कहते हैं। गया। किन्तु इससे वाणिज्यवृद्धिका बिलकुल हास हो हो खरिया (हिं० स्त्री०) लोडिया देखो। गया। १८८४ ई०में फिर एक यार वाढ़ : उमड़ी थी, हा (हिं० पु० वि०) मीठा देखो। किन्तु इस बार नगरका उतना नुकसान नहीं हुआ। हो (हिं० स्त्री०) चुन, चूमा। शहरमें १८७३ ई०को म्युनिस्पलिटी स्थापित हुई है। 8 ( हि पु०) १ मोठा घोलनेवाला २ तोता | मिठास (हिं० स्त्री०) मोठे होनेका भाय, मीठापन, माधुर्य । वि०)३चुप रहनेवाला, 'न बोलनेवाला। ४ प्रिय मिठोरी (हिंस्त्री०) पीसे हुए उड़द या। चनेको वनी। शेलनेवाला मधुर-मापो । (खो०) ५ मिही देखो। हुईवरी। हो ( हिल स्त्रो०) मिट्टो देखो। मिड़ाई (हिक स्त्री०) मिड़ाई देखो।। [उ (हिंवि०.) मोठाका संक्षिप्त रूप। इसका व्यय | मिडिया-मिदिया देखो। हार प्रायः यौगिक बनाने के लिये होता है, और यह किसी मिडिल (अवि०) १ किसी पदार्थका मध्य, बीच । शब्दके पहले जोड़ा जाता है। (पु०) २ शिक्षाग्राममें एक छोटो कक्षा. या दरवाजोर छ वोलना (हिं० पु०) मिठपोशा देखा। स्कूलफे अन्तिम दर्जे इन्द्रससे छोटा होता था । अयः- उलोना हि पु०) यह जिसमें नमक बहुत ही कम हो, यह नाम प्रचलित नहीं है। थोड़े नमकवाल। | मिथिलची (हि० पु०) यह जी मिडिलकी परीक्षा उत्ती-- पठाई( हिं० स्त्री०) १ मीठे होने का भाव, मिठासना हुआ है, मिडिल पास। २ कोई अच्छापदार्थ यावात । :३ कोई मीठो खानेकी मिडिलस्कूल ( म०पु०) यह स्कूल या विद्यालय जिसमें चीज।। केवल मिडिल तककी पढ़ाई होती होr मेठा तिवाना-पाय-प्रदेशके शाहपुर जिलान्तर्गत एका मिड्ल्टन ( सर हेनरी )-इए दीडिया कम्पनीके एक नगर.! यह अक्षा:३२:१४.४०" उ० तथा देशाग कर्मचारी। इन्होंने १६१० ई०की छठी यात्राका अध्यक्ष ७२२८५० पू०फे मध्य अवस्थित है। यहांका मालिक हो कर पदार्पण:आगमन किया। जव ये लालसागर वंश बाहुत कुछ प्रसिद्ध है । इन लोगोंने-सिख-शक्तिके हो कर आ रहे.थे तब इन्होंने चणिकोंकी वाणिज्यतरीr विरुद्ध युद्धयात्रा फरफे अपने अधिकारको रक्षा की थी.. | पर चढ़ाई कर दी, और बहुतसे द्रध्यादि लूट लिये। मूलतानका विद्रोह दमन करते समय ये लोग मरेजोंः मलाकाद्वीपमें इनकी मृत्यु हुई। .. की ओरसे लड़े थे।। १८५७ :ई०के सिपादीविद्रोहके मिण्टो (लाई)-भारतवर्षका गयरनर-जनरल ( १८००से समय भी इन्होंने रिश-सरकारका पक्ष लिया था। १८१४ ई०) सर जार्ज ,यााके याद ये भारतप्रपंकेर इस उपकारके लिये। अङ्ग्रेजराजने मालिकघशके लिये शासक हो कर माये। ..