पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६२२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पिनानारित-पित्र . frre (मंः वि०) परिमितागायनिट कम . पेन देश में भान है। यहां राजा सोनसिकका HIT माचारपाना। था। विगात मिलादो विद्रोही महापता देनफो कारण मिनासं० पु.) १ परिमिता, प्ररन मर्थ । (वि०) : गरिम-मरकारले उनको सम्पत्ति छीन लो और मदद परिमितायुन। गर तालुकदार राजा भागोर हुसेन गाय पाने को। मिता (पु.) तीन प्रकारफे दूताममे एकमसारफा मिति- यम्यांमदेशके पर भोर पालिका पर । अलंकारनासमे दोन प्रकारचे दूनोंका उन्ने देखा तादया। aarti am- २ उतारकप अन्तर्गत पफ नगर। पा. मा "निष्टामा मित्राय तथा गगहारमः। २४४४३० या देशा० ६६५५०फे बोल पक्षना साय प्यासा तोयानामि तपाiteratu" . है। दम नगर, Rधानीय यिनारमदर. प्रतिष्ठित है। (हित्यद०३) पानीय पण्यदथ्योंकी भासदनी धीर रपतनी होती है। मिटाय, मिना और मन्दाहारक ये तीन प्रकार. : इस कारण यह थान यहांका याणिज्यफेन्द्र हो गया है। मे दूत हैं। इनमें ये शो दून दोनों पक्ष मनोगन भभि मिव (मु०) मिनोति मान करोतीनिमि-पता ( भाग. माहो मम मयं उसा देना तथा मुथूलताफे लिम दिशगम्यः समः। उगा ४२६२ ) अधया मेपनि . माश का पलाता है, उसका नाम निर्ण, जो : नितीनि मिनासुम निपातनार गुणामायः, दिनका गुद्धिमत्तापूर्णक योनी वा काह कर फार्ग मम्मान करना , एकतभारत्येके ( अमरीका भरस ) १ को मे मिनाक मार गो प्रमुफे कई संशदीको ले जाता ; छोड़ राजा गज्याः परयती राजापे. मिया दुसरा से मशहारक हुन वही है। । राजा। मन्धित नरपति राम्यहरणका कार्य (मादित्यद० ३८६-८८), साय देनेमे यह दोनों परस्पर मित्र है। मिनाक (मं.पु.) १ मिनासयुक, कम मा । २ "राजा रिति मा एरापाभिनित। गाफे माघ पोलनेवाला। मतदून। भूम्यैपान्तरितो राजा ममि मिanian" मिनागन (सं० सी०) परिमित माहार, गोड़ा भोजन । (दरबार) लि०) २ परिमिन-मोनी, कम मोजन करमेयान्टा। महाभारत में धर्म पर्णित. पहा ना . मितागिन् ( म०सि० ) परिमिन मोमनमोल, प.म भोजन से मिवोंका उलग है। जैसे--सहायमनमा, मदन , करवाया। और वनायरी। २ गतिविकटता, मीसा (Harian) मिताहार (सं.) १ परिगिस भोगन, घोडा मोजन। ३ वशु, दोस्त । पर्याव-मा, पुष्टा। पियामी (लि २ मिनमोमो, कम आघाला। सागरिक लोगों को मिलता न करना मिति (सं०० ) मपग इति मा माये गिन्। १ मानना ना तो जो पामें मपंग यार, परिमारपिसार 1३ मपच्छेद, मीमा । ४ परिवोद लिये सट राहने है मीर मुत्र पर दीपा. मधुरणापपाये दिमाग। मन्तुष्ट करना चाहते हैं. ऐसे मिमि मा गलग रहना मिनी (हिं० रनो) १२लो महीने की तिगि गातारोग। चाहिये। पपोत ग मोगाविषयक दिन, दिपम३ या तिधिनादेना हो ग बनसोदामन भी माने रामचरितमानसमें मिसीनि( बी) सत्यपारपा प्रयोग (fro) दिया:- २ मा या घा, फर बोलया। Haranो दारी, मिलती-सोपा प्रदेश को हिदायर्गत एक मगर दिति ITE भारी। पर पउना मरिनारसे पर लोग पूर्गम पम्पिा है। TIMR सारीमान, मग मागे मोर मामलोचे मार मरे। मि TT THI