पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


पापपद-मादो रा ( मिर्जा) समपद ( सं० पु. श्रेष्ठपद, अच्छा मोददा। एकरस हो कर मारपोय. पुनरस्युदय ममप विपनों हत्य (सं० ) महतो माय:व। महतमा माय या काफिरोंको गुसलमानो धर्म में दीक्षित करने हो धर्म, पापन | नेपारिलोक मतानुसार इसके प्रत्यक्ष उपस्थित होंगे। . . . . . . पिपप समयाप-सम्पन्ध मदत्य ही एकमास कारण है मददी कागिम R{~सम्राट भाडर मादक पर पार " परिन्द्रिप' करवं मतम् ।" (भागरि.) तारो सेनानायकी पह पहले सन्नाट बार ३५ पुत २Jटना, उत्तमता। ३प्रकर्य, अधिकता! असारो मधीम का करता था। हुमायू. पारस्य ददयो-मुसलमानाका धर्म सम्पदापविरोर। सबाट देशसे लौटने ममय महदीने उनका माप दिया था। प्रकार शाहनासनकाल में इस सम्प्रदायो नेता इस प्रकार अब राजतन पर ये तसे माताको सेना लाम शाह और फैजाफे पिता शेप मुबारक विरोररूपसे नायक बनाया गया ताफा पढ़नेसे मालूम होता. निगृहोत हुए थे। पद उस समय पांच हजारो सेनानायक था। पदापास ( स० पु० ) पद महालिका. पहा मकान । ___७३ दिमरा, मशवर पाशादफे मादेशानुसार . " नपाशा (सी०) महतो चासी भागा चेति कर्मपा०। इसने गगन जमान मोर भवदुल मजिद मासक का उपाशा, अंची माकांक्षा। दमन फरने लिपे गहा (अपलपुर).को मोर पाता महदाधप (स.पु० ) महतां माधपः । महतमा मात्रय, कर दी। किन्तु गदको नोगनीप.मयस्याको देख कर पई लोगों की शरण लेना। पद निराश हो गया और ममाको पल दिया। मासे महदी मलोयां-अयोध्या रामा नसिम्दीन दरका पारस्य मोर कधार होता हुमा यद सम्राट नासन प्रधान मनो। फगर के समीप पौदागर कालोनदो-। कालके १३ प रपस्तम्गगल पाया। यह सारा फे ऊपर जो हिलोलेके जैसा लादेका पूलदै उसे दोंने / कर पाना मकबरने रस्तम्म घेतला| फाशिम हो पनपापा था। पदते है, कि प६ पुल बगानेमें सप्तर पनि यचापका को उपाय मदे माम रिपा बजार रुपया मोर सात से अधिक समय लगा था। और यादगारफे पैरों पर गिरकर मान-भिक्षा मांगी। १८३२ में मददी भलीमां अपने पदसे घटा दिया गया। पहने हैं, कि हमने बाताहको बनमे सुला गुर शिन्तु महम्मद अली शाहमय तप पर पेठे सब फिरसे फारसकेमा नगरमे मे । इसने अपना पद प्राप्त किया। १९०में इसका देदात . माखिर बादशाहने उसके पुल पराप माप मा। भार उसे फिर सेनानायक ना कर पाने गोलको मादी माग-मुसलमानों के एक माम। इनका मसल रक्षा का। .प्रत पदी गदा, MERE IT गाम काशिम मदम्मय था। मुसालमान माग गारद जागोरम मिला। मामी नदी भक्ति करते हैं। जयारत इमामों में मददी। महदो फातिमन लादार भगाने बागमती काशिम . ग्यारहये थे। महको इमान म्यारदय मसारी पुरा गां नामक एक गोया दगा कर भरना रोपन को यी चनायो मागदादो मध्यपत्ती पितापाया जिरो सागर। गर्मपरा नाम रानमें नका मा पा सिपा-मदी का मिमांग-मादिणादका निभ्यार मपि । पा मम्मदापभुत. मुमतमामोका कहना है कि परको मुंगी उदमुमानिस मामले प्रसिधा | तारोष उमरमें पदपक जलाप पुस मौर दिर सभा गहों माहिरो' मोर 'तारोघ जान गामाREEM गिाले। इनको माताने अपनी मांगोस यह घटना देवी बनाये हुए मिलते। तारानासिरा माम . धी। उन पिपास किमान मा जोत जाग: १मादिरमामा' मपान मादिर शाह नास गर ६। पह भी fr. मी मादी माम किसी : मिलियन ओपने उन IED फारसा मागमें मार गुपागमें है। समय मापने पर इटिका, गाय, माया।