पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


.महम्मद . . . (करीब ६१००) इन दोनोंडी मालोचना की जाय, तो काल में ममप्र मरय उपोषपक स्पाधान रोपा निःसन्देह उनका जन्मकाल ५७०६०में दो निरूपण किया . शो गतान्दो प्रारम्भमें यहां रिपसात राज्ञान पर जायेगा। कुरानमें लिया है, कि उसो समय पेमनके मरयसी कुछ उपतनील जातिपोका मगठन किया और इयमी-गासक इग्राहिमने मका पर आममण किया था। एक मातीय साधाम्प स्थापित करना गाहा नगद यिस्य : इसी आममण-कालमें भरक्यालोंने पहले पहल ायीको भरय इतिहासमै पापि उल्लेपनोप , महो. फिर देपा था तथा घे लोग यसन्तरोगफे शिकार बने थे।

मो प्रस्तायनारूपमें इमे म्यान देना भनुपपुर म. महापुरुषों का जन्म अलौकिक देयघटनायुक्त होता है, होगा। मरवा प्रश्न इतिहास इस्लाम स्पापन - यह स्वतः सिद्ध है। महम्मदफे जन्ममें भी ठोफ यही माय ही साप मारन्म हुआ है। पात थी। मुसलमान अन्धकार परसियाफे मग-पुरो किशारतपशफे अपसान पर गरयौ . फिर शामन .. हितोंका चिर-रक्षित पवित अम्नि-निर्यापण तथा संपूर्ण पिपल भारम्म हुमासी समय मैदमा दिसात . सरवमें उरभ्यल भालोक विस्तार आदि मौतिफ प्यापारों-1 के भ्रमणशील निपासियोने मौका पाकर मध्यभरप को मुष्टि करनेसे जरा भी पाज नहीं भाये हैं। इस्लाम ! पर अपना धाधिपत्य जमापा, पर इस सरिता मोग' . धर्म:प्रयर्तक महम्मदका अन्मकाल गलौकिया घटनामास/ उगफै भागमें अधिक दिन तक गददा था। पारस्य .. रंग डाला गया है। यह कार्य मदम्मदफे मन मुसल, रामफे अधीनस्य होरा और पनपरफे समिए जीप मानोये सिवा दूसरेफा नहीं है। हम लोगों में ऐसी सामम्तगणों ने भरवमें घोरे पोरे पारस्पराव पिस्तार . ' शक्ति नदी, कि अवतार या भादर्श पुरोफे गुण दोप फरना मारमा कर दिया था सा प्रोकपालों में गार: का विचार कर सकें, पर सम्मय तथा असम्मय घटनाएं सानिदनीयको भरपका गासनगार पदम दासे जनसाधारणफे लिपे यियेचनीय है। प्रम-जीयनोको देवा.या। इस प्रकार दो पैदेशिनियों एकम भाशय कर महम्मदी विशद जीयनीकी कौति गाया। दोनेसे संघर्ष उपस्थित हुमा । पारस्य मार्गाने गा. लिशानेके लिये पाध्य हुए हैं। इयों को मार भगामेको कोशिग को। ठो नमामो महम्मदका जन्म ईसाजन्नसे लगभग ५०० पर्ष। गन्तम तो नेशदस से का. पेमेग पर पारगिपोष पीछे मरय देगके मपमा नगरमें हुमा था। यह स्थान ति भण दो गई। परन्तु TOTAL M साफो जन्मभूमि पालस्तिनके समीप ही है। भरप। भाष सामाग्यफा मायुदग मिता मापो दिया. याले उस समय महम्मदको यरका अवतार समाने पश्चिममें नगद प्रदेन प्रोप, पासिथ, गरामानिया थे। सा और मदरमय-भपतारफे मध्यकालीन समय शामिद मादिरामा हामी सोपूर्णपुलामीको और स्थान पर अगर पिचार किया जाप, सो पदो मनुः । सरद स्वाधीनता मुका माग कर मम : मान होगा, कि मरपाले उस समय उन्पाल / जन्मभूमि मकाने कापा मामर मियदरक अपया पारसिक तथा साधर्मसे मेरित दोनये कारण शासपागदपाली भन्यान्य मानिधी, माया. उसका धार्मिक पिचार मिरिन था । मदम्मदन भरय. कागन प्राठिने पर पतिपय गाया। फिर गुल.. में पालोंके इसी मत-विरोधफै कारण पक पर मत दिनको पूर्णिमाम मका, परफा भौर कोमा गदानका पोदा उठाया था। पारिकोलापन. समय सोगानी मोडहोने imit ___महम्मदसे पहले भाप का जातीय इतिहास भन्या । परमदाता मंपटन दो गया। पद म फारमपदी मममना माहिये। परपपालों में उस समय सिरण मेन मारिनो काममा पनिार का परमो मापुसका गिह नहीं देगा आता है। मतप यार हो जाने RITE : महमा समापीर गुपाका दो भरपर डावीप पर। rama र पुन गा निदाम समान म पाणिw mraanmm ETA wrirat -