पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/६७३

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मित्र . ६०१ अफ्रिकाके किनारे उपनिवेश स्थापित किया था, इसीके । उनका कहना है, कि आदि राजा मेना (मनु ) ने राज्य अनुसार मिश्र शब्दके अपभ्रशसे 'मित्र' या मिसर हो । स्थापन कर किले कमा कर इसको सुरक्षित किया था। गया है। कुछ लोगों का कहना है, कि संस्कृत 'मिथ'इसीलिये 'इजिप्त' आगुप्त या हिन्दु मजर और पीछेके (to mix ) धातुसे मिसर या मित्र शब्दकी उत्पत्ति है। मिस्त्र शब्द पकार्थवोधक हैं। बहुत पुराने जमानेमें फिनिक, सिरीय, आसिरीय, वाविल- मिश्र या मिस्रका दूसरा अर्थ कृष्णदेश है । अधिकांश नीय, कालड़ीय, मिदीय, प्रार्थिय और भारतीय आदि फई। पाश्चात्य पण्डित यही अर्थ लेते हैं। क्योंकि इस अर्थ- देशोंके वणिक भूमध्यसागरमें व्यवसाय करते थे। मित्रमें | बोधकके अनेक प्रमाण हैं। मिस्रके पवित्र लेख या हाइ- वाणिज्य आदिके लिये कई जातियों के मिश्रण'-से मिसर रोग्लिफिक ( Hieroglyphics ) भापामें इजिप्तका नाम अर्थात् मिश्र देश या मिस्र शब्दकी उत्पत्ति हुई है। केम या केमो ( em) आया है। इसका अर्थ है- किन्तु इस विषयमें कोई उपयुक्त प्रमाण नहीं मिलता। काला देश । इजिप्तकी भूमि काली है, इसीसे इस नाम- .. अब देखना चाहिये, कि इजिप्ट भाषामें मिश्र या मिस्त्र की उत्पत्ति हुई है। कोप्ट (Copt) भाषामें भी इजिप्टका शब्दको व्युत्पत्ति किस तरह है। एनसाइक्लोपिडिया- अर्थ काला देश है। इजिप्टके पुरातत्यक्ष पण्डित डायर ब्रिटेनिका नामक प्रथमें वृटिश म्यूजियमके ऐतिहासिक वागसस (Dr. Brugsch) का कहना है, कि 'केम' पण्डित रेजिनाल्ड स्टुआर्ट पुलने ( Raginald stuart शब्द और बाइपिलका हाम ( Ham ) शब्द एकार्थबोधक Poole ) मिएर पिकृ ( Mr. Picte) के मतके अनु- है। क्योंकि 'क' स्थानभेदसे 'ह' के रूपमें परिणत हुआ सार लिखा है, कि 'सेमितिक भाषा' को धातु के अर्थमें है। ये दोनों शब्द ही काले देश और गर्म देशके अर्थमें 'इजिप्त' शब्की कोई सन्तोषजनक व्युत्पत्ति नहीं है। प्रयोग हो सकते हैं। कुछ लोगोंका कहना है, कि यूनान यह संस्कृत 'गुप्' (रक्षणमें ) (to guard) धातुसे आगुप्त ( Aiguptos ) शब्द गृध्रके अर्थ में व्यवहत हो उत्पन्न है । इजिप्त = मागुप्त (Guarded abont, ie-forti.] सकता है। इजिप्तमें गृध्र देवताके रूपमें पूजित हुआ - fied) अर्थात् सुरक्षित देश। हिघु और अरबी भाषामें है। इस गृध्र पक्षी सम्बन्धमें कोई पौराणिक कहानी "मिसर शब्दकी व्युत्पत्ति भी इसी अर्थमें मिलती है। प्रचलित थी, जिसका इस समय नामोनिशान नहीं मिसर शब्द हिब्रु भाषा मजर (Mazr ) और मरवो | मिलता। भाषामें ( misr ) शब्द भी वहुधा 'सुरक्षित' (forti धात्वर्थके इस सन्दिग्ध अनुमानको छोड़ कर fied) के अर्थमें प्यघहत होता है। मालूम होता है, यनानी और लेटिन भापाके प्रति द्वप्रिपात करनेसे कि हिन में मेजर, भरवोमें मिसर, इसके बाद भारतमें इसका दिखाई देता है, कि इजिप्त एशियाके अशयिशेपसे रूप मित्र या मिश्र हो गया है। सिरीय भाषामें यह उल्लिखित हुआ है। बहुत प्राचीनकालके भौगोलिक - मुसर ( musr ) और फारमीमें मुद्राया (afudraya ), संस्थानके अनुसार नील-नद एशिया और अफ्रिका इन यनानीमें इजिप्त (riguptos) या आगुप्तमावसे प्रच. दोनों देशोंके भीतरसे प्रवाहित होता था। लित है। होमरके कायमै आगुप्तका वारंवार नाम आया राज्यका विभाग। है। हिघ्र भाषामें मजर और मिजरम ( migraim ) दो । भारतवर्षको तरह बहुत पुराने जमानेसे मित्रके दो तरहफे शब्द आये हैं। निम्न मिस्रके बदले में मिलरमका विभाग दिखाई देते हैं, उत्तर विभाग और दक्षिण- ध्ययहार होता था। इसका प्रमाण मिलता है । हि भाषामें यिभाग या उच्च और निम्न-विभाग । प्राचीनकालमें सीमान्तके अर्थ कभी कभी 'मजर' शब्दका व्यवहार भी | मिस्र के ४४ विभाग या प्रदेश ( Nonnes) थे। उत्तर: देखा जाता है। ' मिस्र और दक्षिण मिसमें २२ २२विभाग थे। इन सर्वोके ..जो हो, पण्डित लोग संस्कृत अर्थानुयायी यूनानी उल्लेख करनेकी कोई जरूरत दिखाई नहीं देती। प्रत्येक . भाषाका 'मागुप्त' शब्द ही इस समय व्यवहारमें लाते हैं। विभागके एक-एक शासनकर्ता अलग अलग शामन Vol, III. 151