पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


महम्मद ७. आये थे। उसी दिनसे मुसलमानोंका हिारी संयत् । शयू मायूसाफियाने सिरिया जानेवाले यणिकोंको .,गिना जाता है। । महम्मदफे लुटेरे दस्यु संप्रदायसे बचाने के लिये एक हजार . पहले हो लिख आये हैं, कि हनिफियोंको संख्या सेना भेजो। महम्मदके अनुपायी मदीनासे वा कोस .मकाकी अपेक्षा मदीनामें ही अधिक थी। पहलेसे ही येदारको उपत्यकामें लूटने के उनसे छिपे थे। मायू ..इन लोगोंके हृदयमें इस्लामका बीज अंकुरित था। साफियाकी सेनाओंने यहां भाते दो शखदल परं माफ- ..पे लोग महम्मदको घुलानेके लिये अपना आदमी भी मण कर दिया। परन्तु सिर्फ सी मुसलमानोंने प्रायः . मपका भेज चुके थे। अभो महम्मदको स्वयं उपस्थित हजारसे ऊपर कोरेसाइतोको परास्त कर माकोदम कर देख इनके यानन्दका पारावार न रहा । मुडके मुड दिया था। लोग मा कर इनके शिष्य होने लगे। सोने एक स्वर मायूसफियाने इस अपमानजनक सम्यादको पाते ही से प्रतिज्ञा की कि महम्मदके शत्रुओंको समूल ध्वंस ! प्रतिदिसाफे लिये तीन हजार सेना कहो की और मदीना- करना ही हमारा एक मात्र कर्तव्य है और तभी हम लोग की भोर कदम बढ़ाया । मदीनाफे समीप महोद पर्वत पर उनके सच्चे शिष्य हो सकते हैं। दोनों दलमें मुठभेड़ हुई। महम्मदीय रतसे पहाड़ो प्रदेश इसके अनुसार मदीनावासियोंने महासमारोहसे अन तरायोर हो गया। फोराइस दलको जीत तो हुई पर ये सर हो कर महम्मदको बुलाया और राजकीय तथा धर्म लोग अधिक दिन तक निश्चिन्त न रह सके .मुसलीम- सम्यन्धीय सभी कार्य उन पर सौंपा। उन लोगोंने इस गण फिर भी उत्साहित हो कर रणक्षेसने उतरे। इस नये मतका जनसाधारणमें प्रचार करनेके लिये महम्मदसे चार आयूसेफियाने मदीनामें घेरा डाला परन्तु अलीने विशेष अनुरोध किया । मदीनावासी इस्लाम धर्मप्रचारयो । दोरोचित माहससे उन्हें मार भगाया। मुसलमानोंके. लिये हथियार उठानेसे भी याज नहीं आये थे। धार धार नोपण भाममणसे मूर्तिपूजकोंकी महती क्षति मदीनावालोंके इस प्रकार आग्रह तथा अकांक्षासे हुई थी। आखिर ये सन्धि फरनेको पाध्य हुए। दोनों पक्ष- महम्मदका हृदय उच्च अमिलापानओसे भर गया। अब ) को-सम्मत्तिसे दश वर्षके लिये भरव शान्ति स्थापित .न्दं मालूम हो गया, कि मेरा यह सनातन धर्म अति शीघ्र की गई। . उन्धासन लाभ करेगा। इसके लिये घे काफिरोंसे युद्ध महम्मद इस समय कोनोकाय, कोराय, नादिर मौर ..फर मोक्षधर्मका प्रचार करनेको युक्ति हुदने लगे। बाल्य- वर प्रभृति निरीह यहदो जातियों को पराजित कर इस. कालको युद्ध लालसा आज इनकी सहायक हुई। ये लामधर्ममें दीक्षित करने लगे। उनके नगर तथा दुर्गलटे नंगो तलवार ले कर सदलबल विधर्मियों में धर्मस्थापन | गपे। अनेक प्रकारको यातनाप' दे देकर न सय ..फरने निकल पड़े तथा 'एक हाथमें खड्ग और दूसरेमें | यहदियोंके नगर और दुर्गको अधिकारमें कर लिया गया। कुरान इनके धर्मका मूल मंत्र हुमा। जब तक अरय जिन्होंने स्वेच्छासे इस्लाम धर्म प्रहण किया, फेयल येही तथा इसके मास पास प्रदेशवालौने महम्मदको ईश्वर- मयानक अत्याचारसे बच सफे। स्मघम त्याग पाप रित व्यक्ति मौर अल्लाको ही एकमात ईश्वर न मान ऐसा समझ जिन लोगोंने परधर्म प्रहण करने में मनिष्ठा लिया तब तक इन लोगोंको तलयार नंगी दी रहो।। दिखलाई, ये नियासित हो कर अन्तर्मे युरो तरद मुसल. .. महम्मदफे शिष्योंने कई छोटे छोटे युद्धों तथा लूटपाट मानाफे शिकार बने। में सफलता दिखा कर स्पर्धा प्राप्त को.. अनन्तर मूर्ति ६२८६० में पैयरयुदमें मदम्मदने अति निष्ठुरताका .पूजक कोरेसीदल के नेता आयुसेफियानके साथ हासेम- परिचय दिया और किनान-मायि-मल हफाक तथा वंशीय महम्मदफै अनुयायियोंको तीन वटी यड़ी लमा दोदय राजको पराजित और निदत कर दशारकी पत्नी इयां हुई थी। भावू तालेवको मृत्युफे बाद मघकाफी सफियाविन होद साप थियार कर लिया। म थागडोर फिर मदम्मदके हाथ लगी। दासेमवंश निर• समय जैनाव मामको एक पैकर रमनीने इनको यिप पिला