पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७१४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मोनाकार-पीमांमा प्राय भी मोनामिका यौटा त प्रचार कर राज भाममपसे धार राज्यको रक्षा की पोगरा दिपा तामगि परिरतों का कहना है कि गतर्फ मालया शीगने वाद र शिसो विदेशी राजा मोना शिया कामपाले तरानदेगमें आरम्ममा। उपद्रय मानदी करना पड़ा था। राजा रामसहचार- इसके बाद मानने मापा। फिर मानदेनमें गया। को इन्होंने गोद लिया था। इस दाल मामनहाल. चारमें शीनने अमिरिया और यहांमे मिप्रदेशमें इसका में भी मीनापाई गभिभावकमपसे राजकार्य प्रतातो थो: प्रगार हुमा । इमपे, याद ममतः युरोपमें मो फैल गया। मोनांसा (सं० पु. ) मीमांसामधीयते येद इति मीमांसा मोनाकार ( REE पु रजो चांदी या मोने मादि पर युन् (मादिभ्यो पुन । पा ४१२६१ ) १ मीमांसा मात्र, गीन काम करतातो. मोना करनेवाला। यह जो मीमांसा-शाका ज्ञाता हो।पर्याय-सिदान्ती, मोगामागे कामी) : मोने या नदी पर होंगेवाला! मोनगंगागानाध्येता। रंगीन काम । २ फिमो काम निकालो या को हुई बटुन "कापायास्तमगरवाति सम्यन्धारगुणा फर्मयोः । वहीवारोकी। द्रग्यता काँचदिन्छन्ति मीमोगराताधया" मीनाक्ष (मंपु० ) १ एक गक्षामका नाम। (सि० )२ (मगरानवरशमन याददर्पय ) माएलीफे ममान सुन्दर मांगावाला। ' २ पूर्णमीमांमाके मूत्रकार मिनिपि । ३ कुमारिल मोनाक्षी (सं० मी० ) मोनाशिणोप, पशिणी मायाः। भट्टका एक माम। ४ माष्यकार पर म्यामीका एक १ मत्म्याशी, यह जिमकी मांण मलोफे समान सुन्दर नाम । ५ प्रभाकर । पे फुमारिल महके छात्र और 'गुग' दो। २ गाउदूर्गा, गादर पूर्व । ३ कुयेरको पफ फम्याका नागने प्रमिम घे। इनका मन 'गुरुमत' कहलाता है। माम । ४ पालो पूरी।५ गर, चोनी। स्मार्स भट्टाचार्यन प्रमागरफे यायोको प्रमाकर कदा है। मोनाक्षी-मदुराको एक रानी, राजा विजयराज गोगनाय ६ उत्तरमीमांसाफे मायकार गदागचायं। ये मौतयादी नायककी महिपी। बिगीनपटी मिलेके समरपुर भोर : । रामानुज पे विशिष्टातयादी थे। ८मध्या. शरद गगा इसको कीर्तिमा निदर्शनगनेमें माता है। नायं। ये मयादी थे। यथा- ... मोनाधातिन् - मीनाप देगी। "मोगमको ययाग्नः कठिनामपि कुपठपनी जिदाम् ॥" मोमाएट (सलो ) मत्स्याएल. मालोका भएडा। (भनिरणागून भिन्न १३) मोनाडी (रो०) सर्फराभेद, एक प्रकारको गर ।' मोमन (म. ० ) मीमांसाारण, किसी प्रश्नको मोगात्रोण (सं.पु.) १ मउनीका जम । २ पनरोट मोमामा या निर्णय करनेका काम। पक्षी, संजन। , मौसा (सं० वि०) मान विचारे ( मानापमान गानभ्यो मोगार ( Re rate) १ सम्म, 2 पत्थर आदिकी यह दोषभाभ्यासस्य । पा १ ) इनि सन् मराप, । गुमाईजो प्रायः गोलाकार घरको भौर ऊपरकी भोर प्रधामम्येकारस्प दोश्च । १ विचारपूर्वक सस्थ. पान मगि तक गली जाती है। यह प्रायः किमी प्रकार : निर्णय । २ दरोगाममें एक दर्शनशालविता .. की स्मुनिक रूपमे पार की जाती है। मसहिदों । इमो दो भाग है--पूर्वमीमांसा गया उरमीमांसा। मादिक कोनों पर पटुन मी उठाई इमो प्रकारको । पूर्वमीमांसाफ. प्रग्यकार मिमि है भार उत्तरमीमांसा परमारोप होगी। यादपारण | उत्तरमीमांसा पदारतफे, नामसे दो मोगारामापु० ) मीनार दे। प्रमिय है। जैमिनिसा पूर्वमीमांरा दो मोर्मामादान मोगानप ( पु.) गोमानापारः। मागा. समुद्र मदमाती है। पूर्णकार, फर्ममीमांसा, फर्मकाया, मोमाया-मयमारत, पारराम्पो एफ. रामो. राता! याधिपा, मध्यरमीमांसा, जर्मनीमामा ममी २५ मामयी महिनी। मामा मरने पर पनि मफे नाम। कोई गं द्वादनमाणी गाँ मानो पिरान पुगि भौर नील मिग गौर सेन गाने है।।