पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७४४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मीर कासिम न हमी उद्देश्यसे ये मुरमें दुर्गका संस्कार कर : भागा न देगी और अपनी सेनाको लौट जानेका हुकम यहाँ अपना राजपाट उठा ले गये। धीरे धीरे अंग- दिया । नयादी सेनाका नेपालियोंने ममतल शैल तक रेशमा अधीनता पाग तोड़ने की जो उनकी इच्छा थो, यह पीछा किया था। यल्यती होने लगी। घेसप्रेजोंको आडमें सैन्यसंग्रह। उपरोक्त युद्ध तथा मंगरेज-यम्पनोफी याणिज्य पारने लगे। मुरमें रद कर सेनादलके संस्कार और विपत्तिसे नयाय मन ही मन असन्तुष्ट रहते थे। उसो जमोदारी व्यवस्थाको पोद्धार कर इन्होंने शेष जोवनमे सालपी ३०वी मार्चको अंगरेज गरयारमें फिरसे मोर. जो संग्रह किया था उसे अपनी सङ्कल्पसिद्धिके । कासिमको कार्यावली पर विचार किया गया। दरवारके उद्देश्यसे यों ही उड़ा दिया। परामर्शसे मामिपट और हे.सादय दूत रूपमें नयावफे पटना अध्यक्ष पलिस उद्धत स्वभावके आदमी थे। पास भेजे गये। इस ममब पटना नगरकी चहारदीवारी. भान्सिटार्ट के साथ उनकी नहीं परतो थी। इसलिये। के एक छोटे दरवाजे को ले कर पलिसके माथ गयाव नयायका वियद्ध-पक्ष यह लेना चाहते थे। नवावको | फर्मचारीका यियाद खड़ा हुआ। धीरे धीरे उस वियादने तंग करने के लिये घेजी-मानसे लग गये। किन्तु गय- भीषण रूप धारण हिया । भविष्यमे लिये दोनों ही नर मानिसटार्ट के यससे दोनोंने साम्यभाव धारण पक्षमें युद्धकी तैयारियां होने लगों। किया। ____नयाव मोरकासिमने युद्ध अवश्यम्मायी देम गुर्गन उक्त घटनाय कुछ याद ही दो पदच्युत अप्रेजसेना ! साँफे परामर्शसे जगतपेठ दोनों भाई महातापराय और फो मुरमुर्गम आश्रय दिया गया था । अध्यक्ष पलिसने राजा सम्पादको हस्तगत करनेका संफला किया। इसका कारण जागने के लिये कुछ सिपाही यहां भेजे।। तदनुसार उनको आ पा कर पोरममके पौजदार मद. इस समय एलिसको उद्धतासे तंग आ कर नयाय धीरे म्मद तको खा सेठ दोनों भाइयों को ले कर मुगुरे चले । धीरे सावधान होने लगे। घर अगरेज कॉन्सिल यहां ये दोनों एक तरह गजरपंद रखे गये। इसके पहले उनको पदव्युतिको दो पक्षपाती थी। उन्होंने अन्याय राजा रामनारायण, राजा राजयलभ मादिको भी मुझेर रूपसे २ लागा रुपपेका दावा किया। नयाय भी इस | लाया गया था। मुना जाता है, कि राजा कृष्णगन्द भी अनुचित दाये पर यहुत यिरक हुए। इसके बाद इस समय मुरमे यन्दीम्परूप रहने थे। अंगरेज-गजके शुरुमायिदोन पाणिज्यसे अपने राजस्वमें । घर आमियर और हे मुझेर पहुंच कर नयाव घाटा होने देन गयादने गरेज-गवर्नरको इम बातको | गिले। नयायको सौजन्यमे उन लोगोंके मग युचना दी। पाणिज्यदायके महसूलको ले कर यात आशाका संचार हो गया था। किन्तु २५यों नारोनको सयित होनेफे वाद आसिर यह स्थिर हुआ कि जब कलकत्तेसे प्रेरित मंगरेजी सेनाये, व्यवहारार्थ भान. फेरल लयणके लिये सैकड़े पोछे २॥) य० महमूल पूर्ण कुछ अंगो जदाज मुररके निकट पहुंचे, तब नायकी लगाया जाय। दाफा आदि मञ्चलमें भी लपण, तमाफू | माने युली। उन्होंने फौग्न जहाज रोकनेका हुकुम आदि पर महसूल लगाया गया। किन्तु गयावने जय दिया । इमी सूवसे दोनों में युद्ध हिसा । इस देगा कि इससे फापनीको गोरमें यदुत याधा है, तब | पार सन्धिको भागा विलकुल जाती रही। उन्होंने इस कामसे दाय सोच लिया। पटनासे मार महदी पनि संवाद भेजा, कि पलिम 1१०६३१०६ जनवरी मासमें नयायने नेपालको बढ़ापटना जीतने का आयोजन कर रहा है। २४ी जूनको कर दी। मकवानपुर निकर नेपाली हिन्दू-योगेंके साथ आमियटफे मुद्र-स्यागका संपाद भीर माप साग एक गर्मागो गुन गाशा घोर संघर्ष उपम्पित हुआ। दो | नयागी मैन्यदलका मुरंग पटनाझी थोर. माना, यह द्वारी हारी लायोमे गुरवा लोगोंको हार होने पर भा र मुगने दी उसी रातको एनिमने पटना पर यहाई । नया R TEAध्य पार्यतीर गुर व्यापारमें जपको करी । मानो नगावो सेना महमा भाममन पर