पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७४६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६६६ पौर कासिम गा। मी उगे ये मुरमें दुर्गका संस्कार कर ; आगा न देशी बार अपनी मेनाफो लौट जानेका दुकुम यहाँ अपना राजपाट उठा ले गये। धोरे धोरे अंग दिया । नयायो सेनाका नेपालियोंने ममतल क्षेत तक रेजोंका धानता पान तोड़ने की जो उनकी इन्हा थो, यह पीछा किया था। यादयती होने लगी। ये अंग्रेजोंको आइमें सैन्यसंग्रह। उपरोक्त युद्ध तथा गंगरेज कम्पनीको याणिय. करने रगे। मुरमें रह कर सेनादलके संस्कार और विपत्तिसे नवाव मन ही मन असन्तुए रहते थे। उसो अमीदारी व्यवस्थाको पहोसार फर इन्होंने शेष सोयनमें । सालयो३०यी मार्चको अगरेज-परवारमें फिरमे मोर- जो पसंद किया । उसे अपनी सङ्कल्पमिद्धिक कामिमको कार्यावली पर विचार किया गया। दरयारके उद्देश्यमे यों हो उमा दिया। परामर्शसे आमियट और हे साक्ष्य दूत रूपमें नयादके पटना अध्यक्ष एलिस उद्धत-स्यमायके भादमी थे। पास भेजे गये। इस समय पटना मगरकी चहारदीयारी. मान्सिटार के साथ उनकी गहों परतो थी। इसलिये फे एक छोटे दरवाजेको ले कर पलिसफे माप भयाव नयायका वियस-पक्ष यह लेना चाहते थे। नयारको कर्मचारीका यियाद समा हुमा । धीरे धीरे उस वियादने तंग करने के लिये ये जो मानसे लग गये। किन्तु गया। भीषण रूप धारण पिया । भविष्य के लिये दोनों हो नर मान्सिटार्ट में यातसे दोनोंने साम्यभाव धारण पझमें युद्धफी नैयारियां होने लगी। किया। ___ गयाव मोरकासिमने युम अवश्यम्मायो देख गुर्गन ___उक्त घटनाफे कुछ बाद ही दो पदच्युत गंप्रेजसेना, बाँके परामर्शसे जगत्सेट दोनों भाई मदातापराय और फो मुझेर दुर्गमें मामय दिया गया था । अध्यक्ष पलिसने राजा सम्पादको हस्तगत करनेका संकल्प किया। इसका कारण जानने के लिये कुछ सिपाही यहां भेजे।। तदनुसार उनको आशा पा कर पौरभमफे फोमदार पद इम समय एलिमको उद्धतासे तंग भा कर नयाय धीरे म्मद तकी खा सेठ दोनों भाइयों को ले कर मुझेर चले। धीरे सायधान होने लगे। इधर अगरेज फौन्सिल यहां ये दोनों एक तरह नजरबंद रखे गये। इसके पहले उनको पदन्युतिको दो पक्षपाती थी। उन्होंने अन्याय राजा रामनारायण, राजा राजयलम धादिको भी मुझेर रूपसे २ लाग झपपेका दाया किया। नबाव भी इस लाया गया था। सुना जाता है, कि राजा कृष्णगन्दगी अनुचित दाये पर बहुत विरत हुए। इसके बाद इस समय मुरमें यन्दीस्यरूप रहते थे। अंगरेज-राजके शुल्कविहीन याणिज्यसे अपने राजस्य | घर आमियट और है मुहर पहुंच कर नयायसे घारा होने देगा नयादने गरेज-गवर्नरको इस यातको मिले। नयायको सौजन्यसे उन लोगोये, मनमें सूचना दी। याणिज्यदम्पफे महसूलको ले कर बहुत आशाका संचार हो गया था। किन्तु २५यों तारोनको राम गित होनेफे याद मागिर यह स्थिर हुआ कि जब कलकानेसे प्रेरित गरेजी सेनाफे प्ययद्वारा माना फेयाट लपणफे लिये सैकड़े पोठे २) २० महसूल पूर्ण फुछ जंगी जहाज मुझेरफे निकट पहुंचे, तब मायकी लगाया जाय। दाफा आदि मालम भी लयण, रामाकू आयें खुली । उन्होंने फौरन जहाज रोकनेका हुम भादि पर महसूल लगाया गया। किन्तु नयायने जब दिया । इसी स्वमे दोनों में युद्ध छिस । इस देगा कि इससे कम्पनीको भोरमें यत पाधा है, तव | धार सन्धिको आगायिलफल जाती रही। उन्होंने इस कामसे हाथ खीच लिया। ___ परनासे मोर महदी गाने संसार मेरा, कि पलिम ११४५० जनवरी मासमें नयावने नेपालको गदा परगा जीतनका मायोजन कर रहा है। २४यो जूनको पर दोमफयानपुरके निकट नेपाली हिन्दू-योरोंके साथ आमिपरफे मुर-स्यागका संपाद और साप साप अमांपो गुर्गन गाकर घोर संघर्ग उपस्थित हुमा। दो, नयावी मैन्यदायका मुरगी पटनाको कोर. गागा, गह छोरी लायो गुरमा नांगोंका दार होने पर भी मार मुगने हो उनी गतको पनिगने पटना पर बढ़ा मपान इस सारा पानीय गुर ध्यागारम जपको कर दी। मोगा मावा सेना मामा भाममण पर ।