पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७५०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


03 मोरजाफर पोको मेगा जा रणमे पोट हिमाने पर गो; तब सेना. जाफर, मन बहालको मसनद पानेको माफांक्षा . पनि मोमासर या दलबल के माप उन्हें मदद पहुंचाने । यती होने लगी। को मागे पढ़ा। उमर मीपण प्राममनसे मोजो वगरफी अनन्तर मिलोंके समझानेसे मीरजाफरने इम कल्पमा. मेना तितर बितर हो गई। मोरजाफरने इम दिन जो मेहनलिया। पोलेमलीयोने मसैन्य भाइसे भीम माइम और शार्पयोर्य दिनलाया था यह नियोको वाधा देने में अक्षर देग यान कोसा। इस पर प्रशमनीय है। गुरमें अपलामफे माय साय उसका मेनापतिके मन में बहुत दुा था। फेवल पढ़ी गादी, योगीरग तमाम फैर गया। अलीगदी प्रांने उसका मानम जन करनेफे लिपे सायं ___ मोरसाफर गां सैयद हसरतमलोफे यंगका था। उसके शिविरमें जानेको हा प्रगट की। किन्तु मूर्ग अलीपदों गांकी मनिलो पहनमे इसका गियाह हुआ मोरजाफरने जब नयायका स्वागत नहीं किया, सब मपाय था। भव भवारने इमे मैन्यपरिसंध्याका दीपान भौर थोड़ी दूर आ फर लौट गये। इसके बाद मीरशाफरको मीरयषमी (प्रधान सेनापति ) यो पद पर नियुक्त कियासुजनसिंह द्वारा नयावने फहला भेजा, कि यह यहाँ ययकार्य में मोरसाफरफ मादस और नेजस्थिताका पता मा कर हिसाव किताव समझा जाय। किन्तु मोरमा. लगता था। मौरजाफरके युद्धापेको जीयनीकी पर्या-लोचना, फरफराजी न होने पर मुसासिंहको वारपर्यफ उसे पर यहुतेरे मान्त यिभ्यामफे यशपत्ती हो ऐमा अनुमान , नयावके निकट लाना पड़ा था। भलोगो सा देखो। फरते हैं, कि यह गुग कार्यसे उसना जानकार नहीं था। 'मुसाक्षरोण पढ़नेमे मालूम होता है कि महाराष्ट्रीय आदि' । नयायने सुजनसिंदको ही रिजलोका फौजदार भोर 1 किमी मरेको मामरिक दिमागमा दोयाग बनाया। भनेक गुज त्रिमि मोरजाफर अपनी योग्ताका परिचय मौजापरफे मधोगम्ध मेनाइलको सम्पान्य सेनायिभाग गया है। उहियाफे रामा जागतीगमके पुत्र दुर्लभगम: में कायां देनेका हुपम हुभा। इस प्रकार मैन्यदलफे यिनिग्न हो जाने उमको पाल ग्युलों। पद भि. सामगकालमें महाराष्ट्र सरदार रघुती उत्कल गये और मान और गर्यका परित्याग कर मुर्शिदाबाद लौरा - भार राजा दुलंगरामको फैद किया। यह संवाद पा कर। नयाने मीरजाफर को सामरिक विभागके दीयान . 'नोजिम महम्मदका आथय लि। .. माथ साथ उठीसाका मायर और मेदिनीपुर नाजिलो इसके बाद पटनाफे. भगान-विद्रोही मोहतको चका फौजदार पना कर मतम्य मराठोके विकमा नयाय फिरमें मोरमाफरके माथ मिले। उसे पूर्ण भेगा। मोरजाफर कुछ दिन उच्च पद पर रह कर पद पर पुनः अमिपिन पर नयादने उसके गधीन पिलामी हो गया। इमरिपे मेदिनीपुरके ममाप पर. पांना मार आदमी रप दिया नया माता आता को सामाय महारा-सेनाको हराकर ही यह मातहो, भरि गोगाजिम महम्मदयाहार गगररक्षा और मरहटीको गया। वहीबड़ी फौजोका मामना करने का माहम उमे बाधा देने का भार माप भाप बलयन्ट माय ममा। जब उसने सुना, किया ल ए. जानोजी विहारको पल दिये। इसके बाद नया गन्लोपदीक दलपरफे माप मा रहे है, नए पद पर्दमानको मृत्युशाल गया उनके मियाग बौदिरा मिरादीमा भापा । उसफे, भागनेका हाल सुन कर मपाय - m. ..in नामोरजामर बहाल प्रधान सेनापति झाने माताउन्ला नामक एक.मनापतिको उस ... नियुन, गह। पता भेला) दोनों की मनाने मिल कर उज्यालामामामह पराान किया। नपनाम गरपगोगा सुगमन गो उसने गाने परमें मिला नि