पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/७८०

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


६८२ पोर्ना पहम्पद-मुदाई म्नान गाये थे। इन्होंने जुलफिकर साफे अघोन फाम मुंगना ( हि० पु० ) महिंजन, मुनगा । किपागा। मुंगरा ( हिं० पु०) पौरे के आकारका काठफा पना मीना मम्मद-पागमका एक सुप्रसिन योपापादक हुमा एक मौजार। यह किसी प्रकारका मापात करने संगीनको निपुणतामें उन्होंने "बुलबुल" को पदयो पाई। या किमी चोडको पीटने टोकने मादिफे काममें माता गो। पारमने एक व्यकिने मर विलियम जोन्सनके है। २ नमफोन दिया। मामने मी महम्मदका जिफ करते हुए कहा था, फि मोजा मुंगिया (हिं० पु० ) एक प्रकारका धारीदार या चार. मिगत नगरमें श्रोताओंके योच जप तफ योषा वजाते | सानदार कपड़ा । नगिया देशी । सय नफ. कलमं युटयुलगण उसके चारों ओर गेर कर मुंगौरी (दि० पु०) मुंगको यनो दुई वरी। तथा अपनेको भूल पर संगीत सुनती यो। मुज (हिं० पु. ) मज । मोजा मोहर नामिर-पारसके राजा फरोम बांके राज्य मुंडकरी ( हि मो०) घुटनों में सिर फर पेठगा या फालका प्रसिद्ध चिकित्सक । इसने एक मसनयो। सोना. जो प्रायः बहुन दुःप्रफे समय होता है। . बनाई थी। मितने पारमी फयियोंने पसरतकालका मुंडविरा (दि० पु.) १ एक प्रकार फकोर । प्रायः कमनीय मौन्दर्य वर्णन किया है उनमें कोई मो मोर्जा अपना मिर, आंख या नाक मादि छूरे या किमी नुकोले मोहरका मुकायला नहीं कर सकता। हथियार से घायल करके गोग्य मांगते है। जो भीष जल्द मोल (सं० पु०) यन, जंगल । 'नहीं देता उसके दरवाजे अड़ कर ये ये जाते और मील टा. पु०) दुरीका एक माप जो १७६० गजकी होती अपने अंगों को मार भी अधिक घायल करते हैं। ऐसे है। यद कोसका आधा माना जाता है। फकोर प्रायः मुसलमान हो होते हैं। २ पद जी मीलगा (म० पु०) रोहित मत्स्य, रोह मछली। लेन देनमें बहुत हुनत और ६उ गरे। मोलन (सं०सी)१ नेलमुक्षण, योग्य यंद करना। २.मुचिरायन (दि. पु०) लेन-देन आदिम यस इजान संकुरित करना, सिकोड़ना। मोलिन (म०वि०) मोल-ना। १ अप्रफुल, पंद किया मुंउना (हिं० कि० ) १ ग्ला जाना, सिरफ बालीको हुमा। २ संकुचित, मिकोटा हुआ। (पु०) ३ एक सफाई होना । ३ लुटना । ३ ठगा जामा, धोणे भागा। अलंकार । इसमें यह कहा जाता है कि एक होने के कारण ४ हानि उठाना । दो यम्नुोंमें मांग उगमेय मौर उपमानमें भेद नहीं मुसा र दि. पु.), पर जिमफे मिरकं घाल गदों या जान पड़ता। ये पामें मिली जान पड़ती हैं। मुटे हुए हों। २ याद जो सिर मुड़ा कर फिमो साधु मोयग (म० पु०) बौद्धगनानुसार एक यहुत सप्लो संग्पाका । या योगी आदिका शिष्य हो गया हो। ३ यह पशु नाम। जिसफे सींग दोने चाहिये. पर गहों। ४ एकप्रकारको मोयर ( मं० वि०) मोगाति हिनम्तीति मीमप्यर लिपि । इममें मालाप मादि नदी दोनों । इममा व्यय (प्रित्यरच्छत्गर भारगीपीरिति। उपा ) नियादार प्रायः फोटोवाले करते हैं। पिनानोक जता! तितश्च । १ दिन, दिसः। २ पूज्य, माननीय । इस प्रकारका जूता प्रायः सिपाही लोग पहना करते हैं। गीयत इति परम निपातितश्न । ३ सेनापति। यह जिस अपरो भयपा इधर उधर फैलनेवाले मग मोया ! मं० पु. ) मोनानि दिमस्तीति मो गन्, निपायसे न हो। ७ छोटा नागपुर में रहनेवाली एक भसभ्यताति । च। ( शे कापोगासामीपा: । उम्प १९५४ ). उदगम, पेट मेका काम। गायु, दया। ३ मार-मुभा (E. नी.) १ नं या गुहानेको किना सस्य। शोरर, गुगर। मयया भाग। २ म्' या मुहाने पाले में मिला मागान ( मं.पु.) दारण्यक्ष, अमलतास। मान । और इट।