पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/८०६

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


मुक्तादापन-मुक्ताहार मुफ्तादामम् ( स० ० ) मुफ्ताको माला। मुक्तामाता (सं० पु० ) मुक्तामातृ देखो।। . . . - (भागवत १।१०।१७) मुक्तामान-चारकामध्वजी राठोरवंशके प्रतिष्ठाता एक मुफ्तापात (हिं० पु०) एक प्रकारको झाड़ी। इसके डंठलों-| राजा । इन्होंने भानु तुअरको परास्त कर उसका राज्य से सोतलपाटी नामक चटाई बनाई जाती है। बङ्गाल, दखल किया था। आसाम और वरमाकी नीची तर भूमिमें यह झाड़ी | मुफ्तामुक्त (सं० वि०) मुफ्तश्च अमुफ्तश्चेति विशेषणयो- अधिकतासे उगती है। | ईन्द्र। क्षिप्ताक्षिप्त। मुफ्तापीड़ ( स० पु०) १ काश्मोरके एक राजाफा नाम । | मुफ्तामोदक ( सं० पु० ) मोतीचूरका लमुन् । ( राजत० ४ ४२ १ २ एक प्राचीन कविका नाम । मुफ्ताम्बर ( सं० त्रि०) मुक्तं शम्बरं येन । १ मुक्तवसन, काश्मीर देखो।। नंगा। (पु.)२ जनसंन्यासिभेद, दिगम्बर । ' मुफ्तापुर (सं. पु० हिमालय पर्वतका स्थानभेद। मुक्तारत्न (सं० क्लो० ) मुफ्ता पव रत्नं मुक्तामणि, मुक्तापुष्प ( स० पु. ) मुफ्ता इव पुरुपाण्यस्य । कुन्द- मुक्ता। घृक्ष, कुदका पौधा या फूल। मुक्ताराम मुखोपाध्याय-राजा कृष्णचन्द्रको संभाके विद्- मुफ्ताप्रसू ( स० स्त्री०) मुफ्ता प्रकर्षण सूतै जनयतीति पक। घोरनगरमे इनका घर था । राना इन्हें चैवाहिक प्र.सू.किए । शुक्ति, सीप। नामसे पुकारते थे। मुफ्ताप्रालम्ब (सं० पु० ) मुफ्तानां प्रालयः हारभेदः । मुक्तालता (सं० लो०) मुक्ताभिलतेच । मुक्ताहार, मुक्ताहारमेद। मोतियोंका कंठा। मुफ्ताफल ( स० क्लो०) मुफ्ता-फलमिय। १ कपूर, मुक्तावला (सं० स्त्री०) मुफ्तानां भावल्यत । १ मुफ्ता- फपूर । मुक्तैवफलमिव । २ मौक्तिक, मोती । मुक्ता देखो।। हार, मातियोंका कंठा। २ मौक्तिक श्रेणी, मातियोंकी ३ लवली फल, हरफा रेवरो। ४ एक प्रकारका छोटा श्रेणी।। ३ तालविशेष। लिसोड़ा। ५ वोपदेवकृत भक्तिप्रधान प्रथभेद । "मुक्ताफलेन अन्धेन सद्भागवत शु तिना। मुक्तावास (सं० पु. ) शुक्ति, सीप। भक्तिस्वात्यम्बुना मुग्ध मार्कण्डेय शिशु श्रिया ॥ | मुक्ताशुक्ति (सं० स्त्रो० ) मुक्ता-जनयित्रो शुषित । चत् विद्वद्धनेशशिष्येण भिषक केशवसनुना । जिसमें मुक्ता पाई जाती है। हेमाद्रिोपदेयेन मुक्ताफलमचीकरत् ॥” (मुक्ताफलग्रन्थ) । मुक्तासन ( स० क्लो०) १ परित्यक्तासन, वह जगह जो ६ शवरराजभेद ( कथासरित्सा० ५५॥२३० ) छोड़ दी गई हो। २ योग प्रक्रियाका आसनभेद, सिद्धा- मुफ्ताफलकेतु (संपु०) विद्याधरराजभेद । सन । मुफ्ताफलजाल (सं० क्ली० ) मुक्ताका बना हुआ जलके { मुफ्तासन (सं० पु०) विद्याधर राजभेद । रंगका एक प्रकारका अलङ्कार । मुक्तास्फोट (सं० पु० ) मुक्तानां स्फोटः . विकाशोऽत्र । मुक्ताफलध्वज-प्राचीन राजभेद । | शुक्ति, सीप। मुफ्ताफललता ( स० स्त्री० ) मुफ्ताफलेन लतेच । मुक्ता मुक्तास्फोटा (सं० स्त्री० ) मुक्तास्फोट-राप्। शुक्ति, हार, मुक्ताको माला। (मार्कपडेयपु० २३।१०२) ' मुकार मुफ्ताभा (स.पु०) तिपुर मल्लिमा, त्रिपुरमाली। सोप। मुफ्तामय (स' त्रि.) मुक्ताविनिर्मित, मुक्ताका सना मुक्तासज (सं० स्त्री०) मुक्तायाः सक । मुक्ताको माला ! 'हुआ। २ मुफ्तायुक्त, जिसमें मुफ्ता हो। मुक्ताहार (सं० पु. ) मुक्त आहारो येन । १ त्यकाहार, मुंपतामात (सं० स्त्रो० ) मुक्तानां माता, आकरत्वात् । जिसने खाना पोना छोड़ दिया हो । '२ मोतियोंका शुपित, सोप। कंठा।