पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/८२८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


१६ मुगलं रुद्रो पर चेगिसने उठाके गढ़ पर धावा दूसरे लड़के चाघताइ और सबसे छोटे लड़के तुली सांके मारा। उसफे याद क्रमशः उसने बुगारा, समरकन्द, । चांट दिया। वालय, तिरमिद, तालकान, घोर, गजनी आदि राज्यों ____ उसका पोता यतु गांको किफचाकको समतल भूमि गौर नगरीको पूर्णतया लूट, जला गौर मथ फर अपनी का राज्य मिला । यह राज्य नक्षतेश नदी, मारल झील मुगल-सेनाको सिन्धु नदकी ओर बढ़ाया। इस स्थान और फास्पीय समुद्र के उत्तरमै उन-भलगा नदोके तोर- पर वारजम शाहजादा जलाल उद्दीन मंगयणि अपनी | यत्ती प्रदेश तथा कृष्णसागरफे पासवाले कुछ स्थानों में सेना ले आत्मरक्षामें लगा था। १२२७ १०में मुगलसेना विस्तृत था। दूसरे लड़के नाचताईको पश्चिम में किफः . सिंधु नदके पास पहुंची और दोनों दलोंमें घोर युद्ध घाक, दक्षिण में मेकरान, पूवमें मुगलोंका अ दिम पास. शुरू हुआ। प्रायः ११ वर्ष तक इस युद्ध में खारजम | स्थान और उत्तरमें साइविरियाकी सीमाके योभ समूचे साम्राज्य विध्यस्त और छिन्न भिन्न हो गया। इस भूभागका राज्य मिला। इनके अलाया, फासगार, गोटेन, युदमें वासंख्य मुसलमान यन्दी हो कर मुगल सेनाफे | आँधीर, बदाकसान, वाल्य, सारजम, खुरासान, गजनी, पोछे पीछे पैदल चले । मारे गये मुसलमानों को और काबुल आदि प्रदेश उसके राजममें थे। तीसरे गिनती नहीं हो सकती, फेवल एक समरफन्दमें ५० लड़के उफताइफे द्वारा मुगलभूमि और उसके भासपासके हजार मुसलमान मारे गये थे। इसके अलाया जिस कई स्थान भाये तथा चौधेको चीनका शासन मिला। जिस देश हो कर मुगलसेना जाती थी यहाँके वच, इस प्रकार साम्राज्यको यांट वेगिस् या १२२७ में बूढ, स्त्रियां सबके सब तलवार के शिकार बनते थे । हरी | स्वर्गवासी हुआ। मरनेके समय भी उसको राज्य भरी फसलको इन्होंने नष्ट कर डाला तथा नगरोंको शासनको फुटनोति सूझतो थी । अपने अमानुपिक जला कर उजाड़ दिया, असंध्य खी पुरुप बाजारमें अत्याचारके लिये निन्दनीय दोने पर भी कहना पड़ेगा येचे जानेके लिये मुगलोंके कारागारमें बन्द किये कि उसके जैमा असाधारण शक्तियान पुरुष संसार गये। इधर दूर देशमें युद्धमै फसे रहने के कारण बहुत थोड़े ही हैं। चेनिस ला दे। चेगिस्फे चेगिस्फे अपने राज्यमें यगायतको तैयारी होने लगी। लड़कोंने माने अपने राज्य के लिपे अलग सेना रपणी दूतासे संवाद पारवारजम राज्यको नए करनेके बाद ही थी। उलु, यायावर, मुगल और दूसरी दूसरी तुफ- पद विजय-मदसे मतवाला हो धीरे धीरे अपने राज्यको जातिके सैनिक इस दल में शामिल थे। लौटने लगा। रास्ते में योमार पड़ गया। उस समय ___उक्ताइको मृत्युफे बाद उसकी सी नुफिना उसकी अयम्या ६५ वर्ष थो, लेकिन उसके सतेज मुणामो खातुन मुगल साम्राज्यको सानासो हुई। उसके राज्य- देखनेसे उसके जवान होनेका भ्रम होता था। मालमें शासनमें गड़बड़ी मची। तब मुगल अमोनि ___ अपनी मृत्युफे पहले यह जिन जिन युद्धो लिप्त उसे उता. उसके लड़के कयूकको राजसिहासन था उनसे काथे, पोटान, उत्तर और दक्षिण चोन, । पर बिठाया। फयूकके मरने के बाद सम्राटका चुनाय फिलोक, सफसिन्, चुलगेरिया, आस (फिमिया), रसिया ले पर मुगल साम्राज्यमें घर-झगढ़ा बड़ा हुआ। कुछ दी आलन, द्रान्स अफ्सियाना, वास, खुरासन इरान, तुरान् वाम मुगल सरदार ममाट या अधिनेताकी अधीनसासे भादि देशों को ले यह एक य साम्राज्यकी स्थापना मुक्त होनेकी चेष्टा करने लगे। किस समय बेगिस् कर गया । इस विस्तीर्ण साम्राज्यको उसने अपने पुत्रोंमें मामाउँपको ऐसी अवनति हुई, इतिहास में इसफा, प्योरा बांट दिया । उसका जेठालड़का तुपी उसफे जीते जी मर नहीं है। १२२६९०को मुद्दाम मुगल अधिनेताको वंगल में फारसके रामाका नाम अनि देखा जाता है। १३०४ गया था, अतएव तुपी वांझा लड़का यतु खां उसके में काजान पाने अधिनेता नाम छोट अपने नाम पर स्थान पर बैठा । उसने अपने तोसरे लड़के ओकता - मिया: पलाया। मम्मयनः मी समय तुपि और को साम्राज्यका रामिहामन दे भन्यान्य सम्पत्तियोको : नाघनाइ पा राजे साधीन ही उटे थे।