पृष्ठ:हिन्दी विश्वकोष सप्तदश भाग.djvu/८३८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ शोधित नही है


Gy ___ मुंगलं अंकवरशाह (३य )-के मरने पर उसका लड़का २य । उर्दू या पारसीमें लिखे गये थे और उसफे राज्य कालमें : यहादुरशाह) अबुल मुजफ्फर सिराज-उद्दीन महमद संगीतकलाका भी आदर बढ़ गया था। उस समय यहादुरशाह नाम धारण कर बादशादी तख्त पर बैठा।। तानसेन आदि जगत्प्रसिद्ध गायक लोग हुए थे। फाशी. " अङ्ग्रेज सरकार उसको भी १ लाख २० मासिक वृत्ति के मानमन्दिरफो ज्योति शास्त्र सम्बन्धी उन्नति और देती थी। यह फारसीका अच्छा विद्वान था। उसकी राजा टोडरमलकी पैमाइशी बन्दोवस्त मुगलशासनको रवो उर्दू कवितामें 'जाफर' नामको भणिता पाई जाती सुव्यवस्था प्रमाण है। मुसलमान शब्द देख्यो। है। कितनों का कहना है यही १८५७ ई०फे गदरका | भकवर जैसा विद्यानुरागी, सदाशय और स्वजनप्रिय प्रवर्तक था । गदरके याद तैमूरवंशका अन्तिम याद | था उसके पुत्र और पो”में उन गुणों का विशेष अमाद शाह वहादुरशाह ( २य) अंगरेजों के हाथ धन्दी हुंआ। नहीं था। अकबर धर्म और कर्मवीर था। कर्मक्षेत्रम १८५८में यह फलकत्ते में नजरवन्द किया गया। पश्चात् | रह फर रामसिक उन्नति के साथ उसने कुछ कुछ सात्तिक उसी घर्षको ४थो दिसम्बरको 'मेगोया' नामक राजकीय उन्नति भी की थी। उसका चलाया इलाही मत इस बात जहाज पर चढ़ा कर वह वर्माको राजधानी रंगूनमें | को सावित करता है। "एक ईश्वर के पास सभी प्राणी निर्वासित किया गया । समान है" उसका मत उस समय भारतमें स्थायी न हो इस प्रकार वापर शाहफे राज्याधिकारसे ले कर यहा- सका। मुगल लोग प्रायः सिया मतावलम्यी हैं। .. दुर शाह (२य) के राज्यकाल तक ३३२ वर्ष दिल्लीके शाहजहां वादशाह भोगविलासमें आसक्त हो राजसिंहासन पर बैठ मुगल बादशाहों ने भारतका १६४५ ई० में सुन्दर प्रासादोंसे सुशोभित मनोरम वर्तः शासन किया । अन्तिम ५० वर्ष तक मराठों और मान दिल्ली नगर ( शाहजहानावाद ) बसाया। उसके सैयद भाइयोंको फूटनैतिक विलयमें मुगल शासन चलाया | बनाये प्रासादोंमें उसके वंशधर १८५७६० तक निर्यि- गया था। पाद रहते आये। ये भयन तथा इनके मध्य मामखास जिस पानीपतके रणक्षेत्रमें १५२६ ६०में धारशाहने दोवान इमाम और दीवान इखास इस समय श्रीहीन मुगल साम्राज्यकी भांखें खोली थी उसी पानीपतके होने पर भी प्राचीन-कीतिका परिचय दे रहे हैं। उसके रणक्षेत्रमें सन् १७६१को मुगल-साम्राज्यको मृत्यु हुई। राज्यकालमें और निज ध्ययसे निर्मित ताजमहल समाधि. और मानो १८५८ ईमें गदरके बाद उस साम्राज्यका मन्दिर संसारका सयसे उत्तम स्थापत्य निदर्शन है। श्राद्ध हुभा। संसारके अत्यन्त आश्चर्यजनक पदामि ताजमहल भी ___ मुगल शासनमें भारतमें जो. सम्यक् उन्नति हुई थी | एक है। प्राणादा और कोंभाको मुस्लीम-कीर्ति इस वह केवल अकबर बादशाह और शाहजहांके राज्यकालमें | फो जोड़को नहीं है। शाहजहांको स्थापित्यकीर्ति उसके दोख पड़ती है। अली, प्राकृत और हिन्दीभाषाके कमजोयनका परिचय देती है। उसके लड़के निष्ठुर सम्मिश्रणसे सुललित और सरल उद्या सिता भाषा औरंगजेयने प्रजाको अनेक प्रकारके अत्याचारोंसे कष्ट दे .: उत्पनराजवरदार और उसके आस पास के स्थानों- कर उनके धर्म कर्ममें भी वाधा दी थी। औरंगजेयने में उर्दू मुंबाली व्यवति होती थी। बादशाह शाहजो विपके बीज बोये थे उसके वंशधरोंको उन्होंका फल ', 'जहांके राजधानी दिलीम राजपा विरल्यापी रमनेका डामा पड़ा और उस विपको या फर हो भारतमें तैमूर बन्दोषस्त करने पर उन्मुवाली बही-सात शंका नाश हुआ। भी अपहत होने लगी थी और पिलो कोम जी बिलीका मन्तिम पादशाह बहादुर शाह अपनी दो (Lingar Rana लियों पर यके और एक पोतेके साथ वर्मा, निर्वाः सिखा था, अभी भी उसके चंशधर वहां बडे, य: काले दिन बिता रहे है। बहादुर शाहके दूसरे दूसरे . ...