पृष्ठ:Aaj Bhi Khare Hain Talaab (Hindi).pdf/४७

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।


इसे खेतों में फैला कर उनका उपजाऊपन बनाए रखते। इस प्रसाद के बदले वे प्रति गाड़ी के हिसाब से कुछ नकद या फसल का कुछ अंश ग्राम कोष में जमा करते थे। फिर इस राशि से तालाबों की मरम्मत का काम होता था। आज भी छत्तीसगढ़ में लद्दी निकालने का काम मुख्यत: किसान परिवार ही करते हैं। दूर-दूर तक साबुन पहुंच जाने के बाद भी कई घरों में लद्दी से सिर धोने और नहाने का चलन जारी है।

बिहार में यह काम उड़ाही कहलाता है। उड़ाही समाज की सेवा है, श्रमदान है। गांव के हर घर से काम कर सकने वाले तालाब पर एकत्र होते थे। हर घर दो से पांच मन मिट्टी निकालता था। काम के समय

Aaj Bhi Khare Hain Talaab (Hindi).pdf
सबके लिए सबकी मदद से बनते रहे हैं तालाब

४४ आज भी खरे हैं तालाब