पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/१०९

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
चर्चिल
१०३
 


पराजित फ्रान्स को छोड़कर लन्दन मे हैं। आपने यह घोषणा की है कि फ्रान्स का जर्मनी से युद्ध अभी जारी है, मार्शल पेतॉ द्वारा फ्रान्स के साथ जो अविराम संधि हुई है उसे फ्रान्सीसी जनता ने स्वीकार नहीं किया है। आप 'स्वतंत्र' फ्रान्स के प्रतिनिधि हैं। कुछ सेना भी फ्रान्स के पतन के बाद आपके साथ इँगलैण्ड चली आई थी जो अब अँगरेज़ो के साथ धुरी-सेना से वीरतापूर्वक लड़ रही है।







चचिल, राइट आनरेब्ल विन्स्टन लियोनार्ड स्पेन्सर--जन्म ३० नवम्बर सन् १८७४। हैरो तथा सेंडहर्स्ट में शिक्षा पाई। सन् १८९५ में सेना में भर्ती होगये। दो युद्धो में भाग लिया। दक्षिण अफ्रीकी-युद्ध में 'मार्निग् पोस्ट' के युद्ध-संवाददाता रहे। बोअरों ने इन्हे युद्ध-बन्दी बना लिया, लेकिन आप भाग निकले। १९०० में अनुदार-दल की ओर से कॉमन-सभा के सदस्य चुने गये। जोसफ़ चेम्बरलेन की तटकर (टैरिफ) नीति का विरोध किया तथा मुक्त-व्यापार का समर्थन। उदार-दल में शामिल हो गये। १९०५ मे उपनिवेशो के उपमंत्री नियुक्त किये गये और १९०८ में व्यापार-बोर्ड के अध्यक्ष। सन् १९१२ में आइरिश होम रूल बिल का समर्थन किया। इसके बाद नौसेना विभाग के मंत्री बनाये गये। सन् १९१५ में उन्होने मंत्रि-मण्डल से, मतभेद के कारण, त्यागपत्र दे दिया। फ्रान्स में युद्ध-मोर्चे पर भाग लेने गये। कर्नल' बनकर काम किया। १९१७ में अस्त्र-शस्त्र-विभाग के मंत्री बनाये गये। सन् १९१८-२१ तक युद्ध-मंत्री तथा हवाई- सेना-विभाग के मंत्री रहे। सन् १९२१-२३ मे उपनिवेशों के मंत्री रहे। १९२२ में आयरलैण्ड से हुए समझौते का समर्थन किया। इसके बाद