पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/११८

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
११२
चेम्बरलेन
 


सन् १९०८ मे उन्होने वैगनर की पुत्री से दूसरा विवाह किया। सन् १९२७ में उनका देहान्त होगया। हिटलर को अपने उत्थान में उनकी कृतियों से बड़ी प्रेरणा मिली हैं।

चेम्बरलेन, राइट आनरेव्ल् (Rt Hon) नेविल–-सन् १८६९ में जन्म हुआ। जोसफ चेम्बरलेन के पुत्र। रखी और मैसन कालिज बर्मिघम मे शिक्षा प्राप्त की। सन् १९११ मे बर्मिंघम की कौसिल के सदस्य बन गये और सन् १९१५ में उसके मेयर। यहाँ उन्होने भवन-निर्माण तथा व्यवस्था के सम्बन्ध मे ज्ञान प्राप्त किया। सन् १९१८ मे कॉमन-सभा के सदस्य चुने गये। सन् १९२२ में पोस्ट मास्टर जनरल हुए तथा १९२३ में स्वास्थ्य-मंत्री। सन् १९२३ के भवन-निर्माण-व्यवस्था कानून के बनाने में इन्हीका हाथ था। अस्वास्थ्यकर तथा गदे मकानों को नष्ट कराकर नये ढंग से स्वास्थ्यप्रद मकान बनवाने की योजना बनाई। सन् १९३१ में अर्थ-मत्री नियुक्त किये गये। २८ मई १९३७ को जब बाल्डविन ने त्याग-पत्र दे दिया तब बरतानवी साम्राज्य के प्रधान मंत्री हुए। ३१ अगस्त १९३७ को आप ब्रिटिश पार्लमेट मे अनुदार दल के नेता चुने गये।

चेम्बरलेन की वैदेशिक नीति का मूलाधार सोवियट रूस का बहिष्कार, समाजवादी-अभिमत का विरोध तथा जर्मनी एवं इटली के अधिनायको के साथ ऐसा व्यवहार था जिससे वे सन्तुष्ट होजायॅ और अन्तर्राष्ट्रीय व्यवस्था की स्थापना में सहायता दे। अपनी इस नीति का पालन करने में उन्होंने बड़ी तत्परता से काम लिया। इटली को प्रसन्न करने के लिये उन्होंने, सन् १९३५ में, उसके विरुद्ध राष्ट्र सघ द्वारा जारी की गई आर्थिक-दण्डाज्ञा का प्रयोग,बन्द कर दिया और ऐन्थनी ईडन, वैदेशिक-मत्री, को अपना पद छोड़ना पड़ा। स्पेन के गृह-युद्ध में ब्रिटेन को तटस्थ रखा, जर्मनी द्वारा आस्ट्रिया के अपहरण पर मौन धारण किया, चैकोस्लोवाकिया को कोई मदद नही दी तथा तीन बार हवाई यात्रा करके हिटलर से मिले और म्युनिख में समझौता किया। जब मार्च १९३९ मे हिटलर ने सम्पूर्ण चैकोस्लोवाकिया को अपने आधिपत्य में ले लिया तब उनकी ऑखे खुली और तब से उन्होने हिटलर के का विरोध करने का विचार किया। ब्रिटेन ने पोलेण्ड, रूमानिया,