पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/१५१

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
तुर्किस्तान (टर्की)
१४५
 


के हैं, सिर्फ १० स्वतंत्र हैं। सेना मे १०,००,००० सैनिक हैं। यद्यपि तुर्किस्तान मे साम्यवादियो का दमन होता रहता है, तथापि वह १९२० से रूस से मैत्री-सबंध बनाये हुए है। दरेदानियाल का रक्षक होने के कारण तुर्की की मित्रता रूस के लिये ज़रूरी है। यूनान से भी उसकी मैत्री है। बलकान-राष्ट्रो मे उसकी दिलचस्पी है। तुर्किस्तान बलकान मे जर्मन-प्रसार का विरोधी है, इसलिये कि जर्मनी तुर्की के रास्ते मध्य-पूर्व या मोसल के तैल-कूपो तक न बढ़ सके। मई १९२९ मे फ्रान्स तथा ब्रिटेन ने तुर्किस्तान को यह गारंटी दी थी कि उस पर आक्रमण होने पर यह दोनों देश उसकी रक्षा करेंगे। १९ अक्टूबर १९३९ को फ्रान्स-ब्रिटेन-तुर्की में १५ वर्षों के लिए पारस्परिक सहायता देने की संधि भी हो चुकी है।

इस सधि, का आशय यह है कि यदि किसी योरपियन राष्ट्र ने तुर्किस्तान पर हमला किया, जिसके परिणामस्वरूप भूमध्यसागर मे युद्ध हुआ, जिसमे तुर्किस्तान भी संलग्न हुआ, तो फ्रान्स तथा ब्रिटेन उसकी सहायता करेगे। इसी

प्रकार तुर्की ब्रिटेन तथा फ्रान्स की सहायता करेगा, परन्तु सिर्फ रूस के विरोध नही। इटली के वर्तमान युद्ध मे सलग्न होने के उपरान्त भी तुर्की तटस्थ रहा। धुरी राष्ट्रो का वह विरोधी है। इटली के विरुद्ध यूनान को भी उसने ग़ैर-सरकारी तौर पर मदद दी। किन्तु अप्रैल '४१ मे जब हिटलर ने यूगोस्लाविया और यूनान पर धावा किया तो तुर्की ने बलकान-राष्ट्रो से सहयोग करने से इनकार कर दिया। इससे कुछ ही पूर्व, २४ माचे '४१ को, उसने सोवियत रूस से आक्रमण और तटस्थता की सन्धि भी की। बलकान मे हिटलर की विजय के बाद तुर्की का

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


रुख जर्मनी के प्रति दोस्ताना होगया।

पिछली शताब्दी के आदि से गत महायुद्ध के अन्त और अतातुर्क कमाल के उद्भव के समय तक तुर्किस्तान को योरपियन