पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/१५२

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।



राष्ट्र 'योरप का रुग्ण मानव' (Sick man of Europe) कहकर उसकी भर्त्सना किया करते थे। यह कमाल का ही कमाल है जो उसने आज के तुर्की को संसार के सबल और समृद्ध राष्ट्रों की कोटि में खड़ा कर दिया है।

तृतीय राइख--जर्मनी का वर्तमान नात्सी शासन-काल तृतीय राइख या साम्राज्य कहलाता है। मध्ययुगीन जर्मन-साम्राज्य प्रथम साम्राज्य था। सन् १८७१ से १९१८ तक द्वितीय राइख रहा। इसके बाद हिटलर के उदय, सन् १९३३ से, वर्तमान शासन तृतीय राइख है। १९१९ से १९३३ के बीच का जर्मन-प्रजातन्त्र मध्यवर्ती साम्राज्य कहा जाता है।

तेल--सन् १९३९ मे संसार में प्रायः २९,००,००,००० मैट्रिक टन (मैट्रिक-टन=लगभग २००५ पौड) तेल निकाला गया। तेल पैदा करनेवाले प्रमुख देश इस प्रकार हैः--(१९३९ की निकासी १००० गुने मैट्रिक टनों मे):—सयुक्त-राज्य अमरीका १,७५,०००, सोवियत रूस ३१,०००, वेनेज्युला २९,०००,ईरान ११,०००, डच इन्डोज ७,४००, रूमानिया ६,०००, मैक्सिको ५,०००, इराक़ (भोसल) ४,३००, कोलम्बिया ३,०००, ट्रिनीडाड २,५००, अरजेटाइना २,४०० और पेरू २,१००। मिस्र, ब्रह्मा, पोलैण्ड तथा जर्मनी मे भी तेल निकलता है, पर कम। तेल की उपयोगिता पिछले कुछ दशकों से बहुत बढ़ गई है, क्योकि लड़ाकू वायुयानों, बरबरदारी की मोटरों, यान्त्रिक सेनाओ, बख्तरदार गाड़ियों तथा युद्ध-पोतो मे तेल का प्रयोग बहुतायत से किया जाने लगा है। यही कारण है कि आज के साम्राज्यवादी राष्ट्रो की दृष्टि उन देशो पर लगी है, जिनमे तेल अधिक पैदा होता है। तेल का व्यवसाय करनेवाली प्रसिद्ध कम्पनियाँ'--( १ ) रॉयल डच शैल (इन कम्पनियो पर अँगरेज़ो तथा डचो का नियंत्रण है), ( २ ) स्टैंडर्ड आयल कम्पनियाँ (सयुक्तराज्य अमरीका)। इन दोनो कम्पनियों में खूब व्यापाराना प्रतियोगिता रहती थी, जिसका असर इन देशो की राजनीति पर भी पड़ता था। किन्तु सम्पत्ति यह होड मित्रता में बदल गई है। ( ३ ) ऐग्लो ईरानियन कम्पनी (ब्रिटिश सरकार की) और (४) टैक्सस कारपोरेशन (अमरीका)। जर्मनी में तेल नही है। इसलिए उसने कोयले से तेल निकालना शुरू किया है। सन् १९४० मे करीब