पृष्ठ:Antarrashtriya Gyankosh.pdf/१७४

विकिस्रोत से
Jump to navigation Jump to search
यह पृष्ठ जाँच लिया गया।
१६८
न्यूजीलैण्ड
 


सम्मति से स्वीकार करली गई। जर्मनी तथा फ्रान्स ने बाधाएँ डाल दीं। इस प्रकार १४ अक्टूबर १९३३ को, जर्मनी के सम्मेलन से निकल जाने के बाद, यह प्रयास विफल होगया।

निहिल्जिम-–सन् १८६० के बाद रूस में इम बौद्धिक विचारधारा का उदय हुआ, जो प्रसिद्ध उपन्यासकार तुर्गनेव की रचना ‘पिता और पुत्र' द्वारा और सम्पुष्ट होगई। राष्ट्र में व्यक्ति की स्वाधीनता पर ही यह अधिक जोर देती है। वास्तव में इसका अराजकतावाद से कोई संबंध नहीं है। यद्यपि यह एक क्रान्तिकारी विचारधारा है, परन्तु यह केवल एक दार्शनिक तथा साहित्यिक-धारा ही रही है। व्यावहारिक राजनीति में इसका कोई उपयोग नहीं है।

न्यूजीलैण्ड-–ब्रिटिश राष्ट्र-समूह का एक देश। क्षेत्रफल १,०३,४०० वर्गमील, जन-सख्या १६,००,०००। राजधानी वेलिङ्गटन। सन् १८४० मे अँगरेजों ने इसे अपनी उपनिवेश बनाया। ब्रिटिश गवर्नर-जनरल रहता है। एक पार्लमेट है,

Antarrashtriya Gyankosh.pdf


जिसमे दो सभाएँ हैं : एक प्रतिनिधि सभा, दूसरी व्यवस्थापिका परिषद्।

ससार में इस देश के नागरिको का जीवन-मापदड सर्वोत्कृष्ट है। न्यूजीलैण्ड ब्रिटिश साम्राज्य के प्रति सबसे अधिक राजभक्त है। ९० प्रतिशत न्यूजीलैण्ड का निर्यात-व्यापार ब्रिटेन के साथ होता है। ब्रिटेन न्यूजी-